मदरसे में मंदिर बनाने की बात पर BJP के पूर्व मेयर ने कहा- ‘AMU में भी एक मंदिर बनना चाहिए’

सलमा अंसारी के इस फैसले पर मुस्लिम समुदाय के लोगों का कहना है कि जो मंदिर बनवाएगा वो मुसलमान नहीं हैं। अगर उन्हें (सलमा) को मंदिर बनवाना है तो वह अपने घर में बनवाएँ।

सलमा अंसारी द्वारा चाचा नेहरू मदरसे में मंदिर बनवाने का ऐलान करने के बाद मामला तूल पकड़ता नजर आ रहा है। एक ओर इस्लामी धर्मगुरू जहाँ इसका विरोध करते नजर आ रहे हैं। वहीं अलीगढ़ की पूर्व मेयर एवं भाजपा नेता शकुंतला भारती ने उनके इस कदम की तारीफ़ की है। साथ ही अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मंदिर बनाने की भी माँग की है।

टाइम्स नॉउ को दिए साक्षात्कार में भाजपा नेता ने कहा, “उनकी भावनाओं का हम सम्मान करते हैं। इतना सुंदर विचार उनके मन में आया, हम उनका समर्थन करते हैं कि उन्होंने दृढ़ संकल्प के साथ एक अच्छे भारतीय नागरिक होने का परिचय दिया है। वो मंदिर बनवा रही हैं उनकी भावना के साथ हैं हम, और जो भी हम लोगों से सहयोग होगा हम करने के लिए तैयार हैं।”

खबरों के मुताबिक भारती ने आगे ये भी कहा, “अगर मदरसा में उनकी (सलमा की) इच्छा है कि एक मंदिर बनाया जाए तो अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भी एक मंदिर बनाया जाना चाहिए।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पूर्व मेयर से जब पत्रकार ने सलमा अंसारी के फैसले का विरोध करने वाले लोगों के बारे में पूछा तो उन्होंने जवाब दिया,”मदरसा उनका है। वो वहाँ क्या कर रही हैं क्या नहीं कर रही हैं, पहले तो उन्हें हस्तक्षेप करने का अधिकार ही नहीं है और अगर ये हस्तक्षेप कर रहे हैं तो ये गलत है। किसी की भावनाओं को दबाना, किसी की इच्छाओं का दमन करना, कानून के तहत नहीं आता है। ऐसे लोगों के विरुद्ध वास्तव में कार्रवाई होनी चाहिए।”

शकुंतला कहती हैं कि उन्हें बड़ा अफसोस होता है जब लोग कहते हैं यूनिवर्सिटी में जिन्ना की तस्वीर लगनी चाहिए। उनका पूछना है आखिर क्यों जिन्ना की तस्वीर लगनी चाहिए और इसका विरोध आज तक क्यों नहीं किया गया है।

बता दें कि सलमा अंसारी के इस फैसले पर मुस्लिम समुदाय के लोगों का कहना है कि जो मंदिर बनवाएगा वो मुसलमान नहीं हैं। अगर उन्हें (सलमा) को मंदिर बनवाना है तो वह अपने घर में बनवाएँ।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राजदीप सरदेसाई, राम मंदिर
राजदीप सरदेसाई के इस बदले सुर से सभी हैरान हैं। अपनी ही बात से पलट गए हैं। पहले उन्होंने जल्दी सुनवाई ख़त्म करने का स्वागत किया था, अब वह पूछ रहे हैं कि इतनी जल्दी भी क्या है? उन्होंने गिरगिट की तरह रंग बदला है। राजदीप जजों को ही खरी-खोटी सुनाने लगे।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

104,900फैंसलाइक करें
19,227फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: