Saturday, July 24, 2021
Homeराजनीतिराहुल गाँधी पर टिप्पणी के बाद गायब हुआ घायल सैनिक का परिवार, घर पर...

राहुल गाँधी पर टिप्पणी के बाद गायब हुआ घायल सैनिक का परिवार, घर पर पहुँचे थे सरकारी अधिकारी: BJP ने गहलोत सरकार को घेरा

“ये भारतीय सेना मजबूत सेना है। चीन को हरा सकती है। और भी देशों को हरा सकती है। राहुल गाँधी, आप नेतागिरी मत करना। ये राजनीति अच्छी नहीं है। मेरा छोरा पहले भी फौज में लड़ा। अब फिर लड़ेगा शेर की तरह। भगवान करे ठीक हो जाए तो फिर लड़ेगा देश के लिए।”

भारत-चीन तनाव के बीच अलवर जिले के सिपाही सुरेंद्र सिंह भी घायल हो गए थे। उनके पिता बलवंत सिंह ने इस मुद्दे पर कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी को राजनीति न करने की सलाह दी थी। अब पता चला है कि नौगाँवा का ये पूरा परिवार भूमिगत हो गया है। पूर्व केंद्रीय मंत्री कर्नल राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने आरोप लगाया है कि अलवर ज़िले के सिपाही सुरेंद्र सिंह के पिता ने राहुल गाँधी को देशभक्ति की सलाह क्या दी, राजस्थान के सत्ताशीन कॉन्ग्रेस प्रशासन ने सैनिक के घर पहुँच कर उन पर दबाव बनाना शुरू कर दिया।

राठौड़ ने कॉन्ग्रेस पार्टी और अशोक गहलोत की सरकार से पूछा कि क्या अब आप सैनिक के वृद्ध पिता को डरा धमकाकर राजनीति करेंगे? राहुल गाँधी पर बयान देने के बाद परिवार अचानक से कहाँ भूमिगत हो गया है, इस सम्बन्ध में कुछ पता नहीं चल सका है। परिवार के अलवर स्थित मकान पर टाला लटका हुआ है। बलवंत सिंह के वीडियो को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट कर के राहुल गाँधी पर निशाना साधा था।

‘दैनिक भास्कर’ की ख़बर के अनुसार, बयान देने के बाद एसडीएम, पुलिस और प्रशासन घायल सैनिक के घर पहुँचा था। वहाँ पर घायल सैनिक के माता-पिता और भाई में से कोई नहीं मिला। न सिर्फ़ घर पर ताला लटका हुआ था बल्कि परिवार के सभी सदस्यों का मोबाइल फोन भी स्विच ऑफ मिला। उक्त सैनिक की पत्नी अलवर शहर के दिवाकरी बस्ती में रहती हैं। इसके बाद से उनका घर भी बंद है।

सुरेंद्र के हवाले से ही गलवान घाटी में हुए भारत-चीन संघर्ष की कहानी सामने आई थी। इसके बाद रामगढ़ और अलवर के पुलिस अधिकारियों का बलवंत सिंह के घर पर जमावड़ा लग गया था। पुलिस अधिकारी कह रहे हैं कि उन्हें इस बारे में कुछ नहीं पता कि सैनिक का परिवार कहाँ गया है। एसडीएम ने बताया कि वो एक दिन पहले ही परिवार से मिली थीं लेकिन अब उन्हें परिवार का कोई सदस्य मिल ही नहीं रहा।

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष और पूर्व विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने आरोप लगाया है कि राजस्थान का पुलिस-प्रशासन कॉन्ग्रेस सरकार के इशारे पर सैनिक के परिवार को परेशान कर रहा है। उनका आरोप है कि राहुल गाँधी पर दिए उनके बयान को वापस लेने के लिए उन पर दबाव बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा सैनिक के परिवार को डराने-धमकाने वाला कृत्य बर्दाश्त नहीं करेगी।

दैनिक भास्कर के अलवर संस्करण में प्रकाशित खबर

भाजपा ने पुलिस-प्रशासन का रवैया न बदलने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। बता दें कि लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में 20 जवान बलिदान हो गए थे। इस मुद्दे पर कॉन्ग्रेस नेता लगातार बयानबाजी कर रहे हैं। कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी भी सरकार को घेरने की कोशिश में अनर्गल सवाल उठा रहे हैं। राहुल ने शुक्रवार (जून 19, 2020) को गलवान घाटी में घायल हुए जवान के पिता बलवंत सिंह का वीडियो ट्वीट कर सरकार को घेरा था। 

इसके बाद घायल जवान सुरेंद्र के पिता बलवंत ने वीडियो जारी कर कहा था, “ये भारतीय सेना मजबूत सेना है। चीन को हरा सकती है। और भी देशों को हरा सकती है। राहुल गाँधी, आप नेतागिरी मत करना। ये राजनीति अच्छी नहीं है। मेरा छोरा पहले भी फौज में लड़ा। अब फिर लड़ेगा शेर की तरह। भगवान करे ठीक हो जाए तो फिर लड़ेगा देश के लिए।” ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। 

गौरतलब है कि राहुल गाँधी ने गलवान घाटी की हिंसक झड़प में घायल हुए एक जवान के पिता के बयान से जुड़ा वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया था, “यह देखकर दुख होता है कि भारत सरकार के वरिष्ठ मंत्री प्रधानमंत्री को बचाने के लिए झूठ बोलने पर उतर आए हैं। अपने झूठ से हमारे शहीदों का अपमान मत करिए।” इसी के जवाब में घायल जवान के पिता का यह वीडियो सामने आया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe