Tuesday, August 3, 2021
Homeराजनीतिराहुल बाबा कानून नहीं पढ़ा तो इटैलियन में अनुवाद कर भेज दूँ: अमित शाह...

राहुल बाबा कानून नहीं पढ़ा तो इटैलियन में अनुवाद कर भेज दूँ: अमित शाह ने CAA पर दी बहस की चुनौती

"गहलोत साहब, हमने तो आपके घोषणा पत्र से एक प्वाइंट उठाकर उस पर अमल कर लिया और आप उसका विरोध कर रहे हैं। ये सब बाद में करिएगा। कोटा में जो बच्चे हर रोज मर रहे हैं उसकी चिंता कर लीजिए। माताओं की हाय लग रही है।"

केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को राजस्थान के जोधपुर में रैली की। इस दौरान नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध करने को लेकर कॉन्ग्रेस पर तीखे हमले किए। उन्होंने कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी को इस मसले पर कहीं भी बहस करने की चुनौती दी है। उन्होंने कहा, “राहुल बाबा कानून पढ़ा है तो कहीं पर भी चर्चा करने के लिए आ जाइए। नहीं पढ़ा है तो मैं इटैलियन में इसका अनुवाद करके भेज देता हूँ। उसे पढ़ लीजिए।”

शाह ने कॉन्ग्रेस पर वोट बैंक के लिए सीएए लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि इस कानून के समर्थन में भाजपा को जनजागरण अभियान की शुरुआत करनी पड़ी। शाह ने कहा कि विपक्ष चाहे जितनी अफवाहें फैला लें कोई फर्क नहीं पड़ता। यदि सभी दल भी साथ आ जाएँ तो भी भाजपा सीएए पर एक इंच पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि विपक्ष के लोग देश को गुमराह कर रहे हैं कि इससे भारत के मुसलमानों की नागरिकता चली जाएगी। मैं सबको आश्वस्त करना चाहता हूॅं ये क़ानून नागरिकता देने का है। किसी की नागरिकता छीनने का नहीं।

शाह ने कहा कि वोट बैंक के लिए कॉन्ग्रेस वीर सावरकर जैसी महान शख्सियत के खिलाफ दुष्प्रचार कर रही है। कॉन्ग्रेसियों को इसके लिए शर्म आनी चाहिए। उन्होंने कहा, “वीर सावरकर जैसे इस देश के महान सपूत और बलिदानी का भी कॉन्ग्रेस पार्टी विरोध कर रही है। कॉन्ग्रेसियों शर्म करो। वोट बैंक के लालच की भी हद होती है।”

कोटा के जेके लोन अस्पताल में नवजातों की मौत को लेकर उन्होंने प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार को घेरा। कहा कि सीएए का विरोध करने की बजाए वह इस मसले पर ध्यान केंद्रित करें। शाह ने कहा, “गहलोत साहब, हमने तो आपके घोषणा पत्र से एक प्वाइंट उठाकर उस पर अमल कर लिया और आप उसका विरोध कर रहे हैं। ये सब बाद में करिएगा। कोटा में जो बच्चे हर रोज मर रहे हैं उसकी चिंता कर लीजिए। माताओं की हाय लग रही है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक का छत से लटका मिला शव, दूसरे की तालाब से मिली लाश: बंगाल में फिर भाजपा के 2 कार्यकर्ताओं की हत्या

एक मामला बीरभूम का है और दूसरा मेदिनीपुर का। भाजपा का कहना है कि टीएमसी समर्थित गुंडों ने उनके कार्यकर्ताओं की हत्या की जबकि टीएमसी इन आरोपों से किनारा कर रही है।

मुख्तार अंसारी की बीवी और उसके सालों की ₹2 करोड़ 18 लाख की संपत्ति जब्त: योगी सरकार ने गैंगस्टर एक्ट के तहत की कार्रवाई

योगी सरकार द्वारा कुख्यात माफिया और अपराधी मुख्तार अंसारी की लगभग 2 करोड़ 18 लाख रुपए मूल्य की संपत्ति की कुर्की की गई। यह संपत्ति अंसारी की बीवी और उसके सालों के नाम पर थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,804FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe