Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिअमित शाह ने कोरोना वार्डों में CCTV कैमरे लगाने के दिए निर्देश, LNJP जाकर...

अमित शाह ने कोरोना वार्डों में CCTV कैमरे लगाने के दिए निर्देश, LNJP जाकर हालात का लिया जायजा

सर्वदलीय बैठक में अमित शाह ने सभी राजनीतिक दलों से इस संकट में लोगों के हित के लिए मिलकर काम करने का अनुरोध किया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के उपराज्यपाल से दिल्ली में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस पर चर्चा करने के बाद ऐलान किया कि अब दिल्ली में हर दिन 18 हजार कोरोना के टेस्ट किए जाएँगे।

दिल्ली में लगातार बढ़ते कोरोना केसों से निपटने के लिए अब देश के गृहमंत्री अमित शाह ने खुद कमान सँभाल ली है। सोमवार (15 जून 2020) को शाह ने सर्वदलीय बैठक की। इसके बाद वे LNJP अस्पताल जाकर हालात का जायजा लिया।

LNJP अस्पताल पहुँचे अमित शाह ने कॉन्फ्रेंस रूम में वरिष्ठ डॉक्टरों से मुलाकात की। इस दौरान डॉक्टरों ने शाह को अस्पताल में कोरोना मरीजों की संख्या, कोरोना से अभी तक होने वाली मौतें और दिल्ली से बाहर के कोरोना मरीजों की अस्पताल में संख्या के बारे में अवगत कराया। वहीं अमित शाह ने डॉक्टरों से कोरोना वायरस से होने वाली मौत और उनके ठीक होने की दर के बारे में जानकारी ली।

गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली के चीफ सेक्रेट्री को निर्देश दिए हैं कि वह अस्पतालों के अंदर सभी कोरोना वार्ड में सीसीटीवी कैमरे लगवाएँ, जिससे कि वार्ड में मौजूद कोरोना मरीजों की ठीक से देखभाल की जा सके और उनकी समस्याओं को दूर किया जा सके।

इससे पहले हुई सर्वदलीय बैठक में अमित शाह ने सभी राजनीतिक दलों से इस संकट में लोगों के हित के लिए मिलकर काम करने का अनुरोध किया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के उपराज्यपाल से दिल्ली में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस पर चर्चा करने के बाद ऐलान किया कि अब दिल्ली में हर दिन 18 हजार कोरोना के टेस्ट किए जाएँगे।

अमित शाह ने आगे कहा, “ऐसे संकट के समय में राजनीतिक मतभेदों को भुला दिया जाना चाहिए और सभी दलों को एकजुट होकर दिल्ली के लोगों के लिए काम करना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हम सभी को मिलकर इस महामारी को रोकने के लिए काम करना चाहिए।”

शाह ने कहा, “राजनीतिक दलों के बीच की एकता दिल्ली में स्थिति के बारे में लोगों के बीच विश्वास और विश्वास बढ़ाने का काम करेगी। मैं सभी राजनीतिक दलों से आग्रह करता हूँ कि वे अपने कार्यकर्ताओं से यह सुनिश्चित करने के लिए कहें कि केंद्र द्वारा दिल्ली के लोगों के लिए लिए गए फैसलों को तेजी से जमीन पर लागू किया जाए।”

नॉर्थ ब्लॉक में हुई सर्वदलीय बैठक में दिल्ली की सत्ताधारी पार्टी- आम आदमी पार्टी, भाजपा, काँन्ग्रेस, बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी शामिल थी।

दरअसल देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना मरीजों की दुर्दशा और कोरोना के टेस्ट में कमी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों तल्ख टिप्पणी की थी। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार को फटकार लगाते हुए केन्द्र सरकार को भी नोटिस जारी किया था।

इसके बाद ही केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में बिगड़े हालात की कमान को अपने हाथों लिया और तत्काल सर्वदलीय बैठक बुलाई। उच्चस्तरीय बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी मौजूद रहे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री की चिंताओं पर अमित शाह ने घोषणा की कि कोरोना वायरस मरीजों के लिए बेड की कमी से निपटने के लिए केन्द्र 500 रेलवे कोच की व्यवस्था करेगा।

महाराष्ट्र और तमिलनाडु के बाद दिल्ली कोरोना वायरस के संकट की तीसरी सबसे बुरी स्थिति वाला राज्य है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 41,182 हो गई है, जबकि कोरोना से मरने वालों की संख्या 1,327 हो गई है।

पिछले कई दिनों से इंटरनेट पर दिल्ली के अस्पतालों में कोरोना वायरस के मरीजों के बेड न मिलने की खबरें लगातार घूम रही थीं। इसकों गंभीरता से लेते हुए अमित शाह ने सर्वदलीय बैठक बुलाई और कोरोना संकट से निपटने के लिए चर्चा की।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe