Friday, May 31, 2024
Homeराजनीतिदुष्प्रचार के खिलाफ अमित शाह का सख्त तेवर, कहा- कोई भी प्रोपेगेंडा भारत की...

दुष्प्रचार के खिलाफ अमित शाह का सख्त तेवर, कहा- कोई भी प्रोपेगेंडा भारत की एकता को तोड़ नहीं सकता

''कोई प्रोपेगेंडा भारत की एकता को नहीं तोड़ सकता है। कोई प्रोपेगेंडा भारत को ऊँचाइयाँ प्राप्त करने से नहीं रोक सकता। भारत का भाग्य कोई प्रोपेगेंडा तय नहीं कर सकता है, केवल प्रगति तय करेगा। प्रगति के लिए भारत एक है और साथ है।''

इंटरनेशनल पॉप स्टार रिहाना के ट्वीट के बाद देश में चल रहा किसान आंदोलन का मुद्दा अब इंटरनेशनल हो गया है। ट्विटर पर किसानों के समर्थन और विरोध में ट्वीट्स की बाढ़ आ चुकी है। एक तरफ जहाँ बॉलीवुड के दिग्गज सितारे भारत सरकार के समर्थन में एक जुट हो गए, वहीं अब केंद्रीय अमित शाह ने भी तीखा रुख अपनाते हुए कहा है कि कोई भी प्रोपेगेंडा भारत की एकता को तोड़ नहीं सकता है।

दरअसल, गृहमंत्री अमित शाह ने बुधवार (3 फरवरी, 2020) को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव के ट्वीट को रिट्वीट किया और विरोधी ताकतों को करारा जवाब दिया है। उन्होंने देश की अखंडता और एकता की मिसाल देते हुए कहा कि कोई भी प्रोपेगेंडा भारत की एकता को तोड़ नहीं सकता है। ना ही कोई भारत को नई ऊँचाई पाने से रोक सकता है।

गृहमंत्री ने ट्वीट किया, ”कोई प्रोपेगेंडा भारत की एकता को नहीं तोड़ सकता है। कोई प्रोपेगेंडा भारत को ऊँचाइयाँ प्राप्त करने से नहीं रोक सकता। भारत का भाग्य कोई प्रोपेगेंडा तय नहीं कर सकता है, केवल प्रगति तय करेगा। प्रगति के लिए भारत एक है और साथ है।” गृहमंत्री ने ट्वीट के साथ हैशटैग #IndiaAgainstPropaganda #IndiaTogether का इस्तेमाल किया है।

आपको बता दें कि पॉप गायिका रिहाना ने मंगलवार को एक खबर को ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा था, “हम इसके बारे में बात क्यों नहीं कर रहे? इसके साथ उन्होंने Farmer’s Protest हैशटैग भी लिखा।” वहीं इस खबर को साझा करते हुए एक्टिविस्ट ग्रेटा थुनबर्ग ने भी प्रदर्शनकारियों के साथ अपनी ‘एकजुटता’ व्यक्त की थी।

जिसके बाद ट्विटर पर फैल रहे दुष्प्रचार पर लगाम लगाते हुए विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी करते हुए रिहाना और ग्रेटा थनबर्ग जैसे चर्चित लोगों के ट्वीट को लेकर कहा कि सनसनीखेज सोशल मीडिया हैशटैग और कमेंट्स को लुभाने का तरीका, खासकर यह मशहूर हस्तियों द्वारा किया गया हो, तो यह न तो सटीक है और न ही जिम्मेदाराना है। यह लोगों को लुभाने का आसान तरीका है।

इस संबंध में विदेश मंत्रालय ने आगे कहा, “इस तरह के मामलों पर टिप्पणी करने से पहले हम आग्रह करते हैं कि तथ्यों का पता लगाया जाए और मुद्दों की उचित समझ बनाई जाए। भारत की संसद ने पूर्ण बहस और चर्चा के बाद कृषि क्षेत्र से संबंधित सुधारवादी कानून पारित किए।” हालाँकि, इस दौरान मंत्रालय की ओर से विशेष रूप से किसी का नाम नहीं लिया गया है।

गौरतलब है कि विदेश मंत्रालय के बयान के बाद बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़ भी भारत के समर्थन में खुलकर सामने आए। बॉलीवुड अभिनेताओं ने सामने आकर सीधे शब्दों में ट्वीट करते हुए लोगों से आग्रह किया कि वे मतभेद पैदा करने वाले किसी भी चीजों पर ध्यान न दें। इसके बाद से ही ट्विटर पर #IndiaTogether (इंडिया टुगेदर) ट्रेंड कर रहा है।

इस कड़ी में बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता अक्षय कुमार, अजय देवगन, सुनील शेट्टी, करण जौहर, एकता कपूर, कैलाश खेर और कई अन्य सितारें शामिल रहे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -