Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीति'48 घंटे के भीतर ट्वीट डिलीट कर माफ़ी माँगो': बढ़ी नवाब मलिक की मुश्किल,...

’48 घंटे के भीतर ट्वीट डिलीट कर माफ़ी माँगो’: बढ़ी नवाब मलिक की मुश्किल, अमृता फडणवीस ने भेजा मानहानि का नोटिस

"नवाब मलिक ने कुछ तस्वीरों सहित मानहानिकारक, भ्रामक और दुर्भावनापूर्ण ट्वीट्स शेयर किया है। हमने उन्हें आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत आपराधिक कार्यवाही सहित मानहानि का नोटिस दिया है।"

मुंबई में ड्रग्स पार्टी के मामले में जब से बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी एनसीबी ने की है तभी से महाराष्ट्र की राजनीति में ड्रग्स का मुद्दा जोर कसे हुए है। महाराष्ट्र सरकार के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक लगातार प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पहले समीर वानखेड़े और अब राज्य के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस पर भी ड्रग्स पेडलर्स के साथ रिश्ता रखने का संगीन आरोप लगा रहे हैं। उनके विवादित ट्वीट के खिलाफ अब फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस ने नवाब मलिक को ‘अपने परिवार की छवि खराब करने’ के लिए कानूनी नोटिस भेजा है।

इसको लेकर अमृता ने ट्वीट कर जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट किया, “नवाब मलिक ने कुछ तस्वीरों सहित मानहानिकारक, भ्रामक और दुर्भावनापूर्ण ट्वीट्स शेयर किया है। हमने उन्हें आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत आपराधिक कार्यवाही सहित मानहानि का नोटिस दिया है।”

अपने ट्वीट में अमृता ने नवाब मलिक को 48 घंटे के भीतर अपने विवादित ट्वीट्स डिलीट करने और बिना शर्त माफी माँगने अथवा कार्रवाई का सामना करने की चेतावनी दी है।

इससे पहले नवाब मलिक ने आरोप लगाया कि देवेंद्र फडणवीस ने राजनीति का अपराधीकरण किया। उन्होंने कहा कि रियाज भाटी को फर्जी पासपोर्ट के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन उसे दो दिन में ही छोड़ दिया गया। उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि रियाज भाटी को कई कार्यक्रमों में देवेंद्र फडणवीस के साथ देखा गया है और भाजपा के कई कार्यक्रमों में भी वो दिखता है। महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के भाजपा नेता पर ये आरोप लगाए।

उन्होंने कहा था, “मैं इस मामले में प्रधानमंत्री को नहीं लाना चाहता। लेकिन, रियाज भाटी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में भी गया था और उनके साथ तस्वीरें क्लिक कराई थीं। दुनिया भर के कई अंडरवर्ल्ड डॉन ने देवेंद्र फडणवीस द्वारा नियुक्त किए गए ठाणे के पुलिस अधिकारियों को कॉल किया और मुद्दे को दबा दिया गया। 2016 में नोटबंदी के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री फडणवीस ने राज्य में फर्जी नोट गिरोह को बचाया। इसके लिए तब DRI रहे समीर वानखेड़े की मदद ली गई।”

इसके जवाब में देवेंद्र फडणवीस ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट डाला। उन्होंने आयरलैंड के दिवंगत लेखक जॉर्ज बर्नार्ड शॉ की एक उक्ति शेयर की, “मैं काफी समय पहले ही सीख गया था कि हमें किसी सूअर से कुश्ती नहीं लड़नी चाहिए। इससे आप तो गंदे हो ही जाओगे, ऊपर से सूअर को भी काफी मजा आता है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -