Monday, October 25, 2021
Homeराजनीति'विज्ञापनों में अरबों फूँक नशे में मस्त हैं केजरीवाल': सैलरी के लिए दिल्ली सरकार...

‘विज्ञापनों में अरबों फूँक नशे में मस्त हैं केजरीवाल’: सैलरी के लिए दिल्ली सरकार के पास पैसा नहीं, केंद्र से माँगे ₹5000 करोड़

"इन्हें और पैसे चाहिए। सारे पैसे नशे में उड़ा दिए। टीवी पर सुबह शाम सिर्फ खुद का चेहरा देखने का नशा, अखबारों में सिर्फ खुद की फ़ोटो का नशा, रेडियो पर सिर्फ खुद की आवाज का नशा और विज्ञापनों में करोड़ों अरबों फूँक कर नशे में मस्त केजरीवाल कह रहे हैं कर्मचारियों की सैलरी का पैसा ख़त्म हो गया है।"

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल की सरकार अब फंड की कमी का रोना रो रही है। उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्र सरकार से तत्काल 5000 करोड़ रुपए के अतिरिक्त फंड की माँग की है।

आम आदमी पार्टी की सरकार का कहना है कि कर्मचारियों को सैलरी देने के लिए इतने रुपयों की सख्त आवश्यकता है। विपक्ष के नेताओं ने इसे लेकर मुख्यमंत्री केजरीवाल को घेरना शुरू कर दिया है और पूछा है कि विज्ञापनों के लिए पैसे कहाँ से आते हैं?

बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी ने आरोप लगाया है कि दिल्ली सरकार ने सारा पैसा विज्ञापनों पर खर्च कर दिया और अब वो केंद्र सरकार से फंड माँग रहे हैं। केजरीवाल की पार्टी से अलग हो चुके कवि कुमार विश्वास ने भी दिल्ली सरकार पर निशाना साधा है। कुमार विश्वास ने जूते वाली इमोजी के साथ लिखा:

लाखों करोड़ की चुनावी-रेवड़ियाँ, टैक्सपेयर्स के हज़ारों करोड़ अख़बारों में 4-4 पेज के विज्ञापन व चैनलों पर हर 10 मिनट में थोबड़ा दिखाने पर खर्च करके, पूरी दिल्ली को मौत का कुआँ बनाकर अब स्वराज-शिरोमणि कह रहे हैं कि कोरोना से लड़ रहे डॉक्टरों को सैलरी देने के लिए उनके पास पैसा नहीं हैं

वहीं दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने पूछा कि जब वित्त की कमी है तो करोड़ों रुपए विज्ञापन में क्यों फूँके जा रहे हैं? उन्होंने दावा किया कि 2 दिन पहले ही लगभग हर चैनल पर केजरीवाल ने 14 मिनट का विज्ञापन दिया था। उन्होंने आरोप लगाया कि 1 दिन में ही पूरे 25 करोड़ रुपए खर्च कर डाले गए और रोज अख़बारों में आने वाले विज्ञापन की बात करें तो उनमें 3-4 करोड़ रुपए रोज लगाए जा रहे हैं। उन्होंने पूछा कि जब पैसे ही नहीं हैं तो ये ‘बर्बादी’ क्यों की जा रही है? उन्होंने कहा:

इन्हें और पैसे चाहिए। सारे पैसे नशे में उड़ा दिए। टीवी पर सुबह शाम सिर्फ खुद का चेहरा देखने का नशा, अखबारों में सिर्फ खुद की फ़ोटो का नशा, रेडियो पर सिर्फ खुद की आवाज का नशा और विज्ञापनों में करोड़ों अरबों फूँक कर नशे में मस्त केजरीवाल कह रहे हैं कर्मचारियों की सैलरी का पैसा ख़त्म हो गया है।

मनीष सिसोदिया ने दावा किया है कि कोरोना व लॉकडाउन की वजह से दिल्ली सरकार का टैक्स कलेक्शन क़रीब 85% नीचे चल रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार की ओर से बाक़ी राज्यों को जारी आपदा राहत कोष से भी कोई राशि दिल्ली को नहीं मिली है। सिसोदिया ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र लिख कर वित्तीय सहायता की माँग की। सीएम केजरीवाल ने भी कहा कि वो आपदा की इस घड़ी में दिल्ली के लोगों की मदद करने के लिए केंद्र सरकार से निवेदन करते हैं।

बता दें कि कोरोना के आँकड़ों में गड़बड़ी को लेकर केजरीवाल सरकार पहले से ही विपक्ष के निशाने पर है। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कॉन्ग्रेस नेताना बनी हुई है। अजय माकन ने केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि देर रात को सरकार की ओर से मौतों के आँकड़े जारी किए जा रहे हैं, ताकि कोई अखबार न छाप सके। साथ ही उन्होंने लिखा कि सरकार चुपके-चुपके जो जानकारी दे रही, वो भी आधी-अधूरी है। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने भी ऐसे ही आरोप लगाए थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल में नॉन-हलाल रेस्तराँ खोलने वाली महिला को बेरहमी से पीटा, दूसरी ब्रांच खोलने के खिलाफ इस्लामवादी दे रहे थे धमकी

ट्विटर यूजर के अनुसार, बदमाशों के खिलाफ आत्मरक्षा में रेस्तराँ कर्मचारियों द्वारा जवाबी कार्रवाई के बाद केरल पुलिस तुशारा की तलाश कर रही है।

असम: CM सरमा ने किनारे किया दीवाली पर पटाखों पर प्रतिबंध का आदेश, कहा – जनभावनाओं के हिसाब से होगा फैसला

असम में दीवाली के मौके पर पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध का ऐलान किया गया था। अब मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि ये आदेश बदलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,783FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe