Saturday, May 21, 2022
Homeराजनीति'अक्षय तृतीया पर पूरे महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर से महा आरती': राज ठाकरे का ऐलान,...

‘अक्षय तृतीया पर पूरे महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर से महा आरती’: राज ठाकरे का ऐलान, कभी बालासाहेब ने भी अपनाया था यही तरीका

महाराष्ट्र में सार्वजनिक स्थानों पर लाउडस्पीकर के इस्तेमाल के मुद्दे पर मुंबई पुलिस के सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है कि मुंबई में करीब 72 फीसदी मस्जिदों ने सुबह की अजान को खुद ही बंद कर दिया है।

महाराष्ट्र में अजान और हनुमान चालीसा का विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इसी बीच राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने 3 मई को अक्षय तृतीया के अवसर पर राज्य भर के अपने स्थानीय मंदिरों में ‘महा आरती’ करने का ऐलान किया है। मनसे नेता नितिन सरदेसाई ने कहा कि MNS के कार्यकर्ता 3 मई को अक्षय तृतीया के अवसर पर राज्य भर के स्थानीय मंदिरों में महाआरती करेंगे। मनसे ने दावा किया है कि ये आरती लाउडस्पीकर से की जाएगी।

इससे पहले महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वाल्से पाटिल ने कहा था कि एक महत्वपूर्ण कदम के तहत, महाविकास अघाड़ी सरकार ने राज्य के सभी धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर के इस्तेमाल के लिए पुलिस की अनुमति अनिवार्य कर दी है। उन्होंने कहा कि बिना अनुमति धार्मिक स्थलों या धार्मिक समारोहों में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

वहीं मीडिया रिपोर्ट में यह भी दावा किया जा रहा है कि राज ठाकरे पार्टी के बड़े नेताओं के साथ बैठक कर मस्जिद से लाउडस्पीकर हटाने के लिए तीन मई के अल्टीमेटम, औरंगाबाद में 1 मई को पार्टी की बैठक और जून में अयोध्या यात्रा के मुद्दों पर रणनीतिक चर्चा करेंगे।

डीएनए की रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र में सार्वजनिक स्थानों पर लाउडस्पीकर के इस्तेमाल के मुद्दे पर मुंबई पुलिस के सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है कि मुंबई में करीब 72 फीसदी मस्जिदों ने सुबह की अजान को खुद ही बंद कर दिया है।

बता दें कि इससे पहले राज ठाकरे ने 17 अप्रैल को अपने बयान में कहा था कि हम महाराष्ट्र में दंगे नहीं चाहते। नमाज अदा करने का किसी ने विरोध नहीं किया। लेकिन अगर आप (मुस्लिम) लाउडस्पीकर पर अजान करते हैं, तो हमलोग भी इसके लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करेंगे। मुस्लिमों को समझना चाहिए कि धर्म कानून से बड़ा नहीं है। 3 मई के बाद, मैं देखूँगा कि क्या करना है? गौरतलब है कि कभी मुस्लिमों और अज़ान के विरोध में बाल ठाकरे ने भी यही तरीका अपनाया था। जिसे आज मनसे दोहरा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उद्धव का मंत्री, पवार का खास: अदालत ने भी माना ‘डी गैंग’ से नवाब मलिक के संबंध, ED ने चार्जशीट में बताया- मुंबई ब्लास्ट...

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गंभीर आरोपों में गिरफ्तारी के बावजूद अपने जिस मंत्री नवाब मलिक को हटाने से इनकार किया था, उनके डी गैंग से लिंक होने की बात अदालत ने भी मानी है।

अब कहाँ गायब हो गया ज्ञानवापी ढाँचे में दिखा शिवलिंग? पूर्व महंत ने तस्वीरों से खोले राज़, हनुमान मूर्ति और कमल के फूल भी...

काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत डॉ कुलपति तिवारी ने ज्ञानवापी विवादित ढाँचे और शिवलिंग को लेकर पुरानी तस्वीरें दिखाते हुए बड़ा दावा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,690FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe