Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेसी मंत्री के लिए रेप भी बड़ी और छोटी, कहा- हाथरस में बड़ी घटना...

कॉन्ग्रेसी मंत्री के लिए रेप भी बड़ी और छोटी, कहा- हाथरस में बड़ी घटना हुई, बलरामपुर में छोटी

“हमारे यहाँ जो घटना हुई, वो हाथरस जैसी घटना नहीं है। हाथरस में इतनी बड़ी घटना हुई है, रमन सिंह ट्वीट क्यों नहीं कर रहे हैं। रमन सिंह की जुबान क्यों बंद है। बलरामपुर में एक छोटी घटना हो गई तो वह ट्वीट कर रहे हैं।”

क्या रेप भी छोटी या बड़ी होती है? यह सवाल हम इसलिए पूछ रहे क्योंकि छत्तीसगढ़ की कॉन्ग्रेस सरकार के मंत्री शिव डहरिया का ऐसा कहना है। डहरिया के अनुसार हाथरस में बड़ी घटना हुई और उनके राज्य के बलरामपुर में हुई गैंगरेप की घटना छोटी है।

उन्होंने कहा, “हाथरस में बड़ी घटना हुई, रमन सिंह ट्वीट क्यों नहीं कर रहे हैं? बलरामपुर में छोटी सी घटना घटी। छत्तीसगढ़ की आलोचना करने के अलावा उन्होंने कुछ नहीं किया।”

बता दें कि छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने बलरामपुर गैंगरेप को लेकर सरकार की आलोचना की थी और साथ ही सवाल किया था कि क्या राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी पीड़िता के लिए न्याय की माँग करेंगे।

इसके जवाब में डहरिया ने दुष्कर्म को छोटी घटना बताया है। उनका एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का वीडियो सामने आया है। इस दौरान उनसे एक पत्रकार ने बलरामपुर में नाबालिग से दुष्कर्म मामले को लेकर प्रश्न कर दिया। जवाब में वह कहते हैं, “हमारे यहाँ जो घटना हुई, वो हाथरस जैसी घटना नहीं है। हाथरस में इतनी बड़ी घटना हुई है, रमन सिंह ट्वीट क्यों नहीं कर रहे हैं। रमन सिंह की जुबान क्यों बंद है। उनको ये जवाब देना चाहिए कि हाथरस में जो घटना हुई, क्या वो अच्छा हुआ है। उसके लिए वो ट्वीट नहीं कर रहे हैं। बलरामपुर में एक छोटी घटना हो गई तो वह ट्वीट कर रहे हैं। वो सिर्फ छत्तीसगढ़ सरकार की आलोचना के सिवा कोई दूसरा काम नहीं कर रहे हैं।”

रमन सिंह का ट्वीट

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने 2 अक्टूबर को घटना के बारे में ट्वीट करते हुए लिखा था, “छग के बलरामपुर में नाबालिग के साथ हैवानों ने दरिंदगी की, लेकिन कॉन्ग्रेस सरकार न्याय दिलाने की जगह मामले को दबाने में लग गई। राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी में यदि संवेदनाएँ हो तो इस बेटी को भी न्याय दिलाने छग आएँ। भूपेश बघेल से जवाब माँगे। प्रदेश की बेटी को कब मिलेगा न्याय?”

डहरिया के बयान के बाद रमन सिंह ने एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा, “छत्तीसगढ़ कॉन्ग्रेस की विकृत मानसिकता देखिए! इन्हें छत्तीसगढ़ की बेटियों के साथ दरिंदगी की घटनाएँ छोटी लगती है। राहुल गाँधी जी बताएँ क्या छत्तीसगढ़ में घट रही दुष्कर्म की घटनाएँ आपके लिए भी छोटी हैं? ऐसी घटिया सोच वाले मंत्री को आप आज हटाएँगे या कल? आखिर कब होगा न्याय?”

मामले में कॉन्ग्रेस की किरकिरी के बाद शिवकुमार डहरिया ने सफाई देते हुए कहा, “मैंने दुष्कर्म के मामले को छोटा मामला नहीं बताया है। किसी भी महिला के साथ किया गया दुष्कर्म हमेशा बड़ा हादसा होता है। मैंने अपना बयान एक क्रम में हो रही घटनाओं को लेकर दिया है ना कि दुष्कर्म को लेकर।”

गौरतलब है कि 27 सितंबर को छत्तीसगढ़ के बलरामपुर में एक 14 वर्षीय लड़की को नशीला पदार्थ पिलाया गया, उसका बलात्कार किया गया, गला घोंटा गया और फिर मरने के लिए उसे जंगल में छोड़ दिया गया। बलात्कार के बारे में खबर 2 अक्टूबर को सामने आई। 

नाबालिग से बलात्कार के आरोप में पुलिस ने 22 वर्षीय जयप्रकाश अगरिया को गिरफ्तार किया। बयान में, लड़की ने कहा कि वह एक पुरुष मित्र के साथ जंगल में मिट्टी इकट्ठा करने गई थी। अगरिया ने उसे वहीं पकड़ लिया और जबरन एक दवा खिला दी, जिससे वह आंशिक रूप से बेहोश हो गई। घनास्थल पर 19 वर्षीय घनश्याम गोंड भी मौजूद था, जिसने इस कृत्य में उसका साथ दिया। पीड़िता का पुरुष मित्र घटनास्थल से भाग गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -