Friday, June 14, 2024
Homeराजनीति17 घंटों में ही पलट गए पवन सिंह: वंदन-चंदन-अभिनंदन से किया था धन्यवाद... अब...

17 घंटों में ही पलट गए पवन सिंह: वंदन-चंदन-अभिनंदन से किया था धन्यवाद… अब कह रहे आसनसोल से नहीं लड़ पाऊँगा

बीजेपी ने भोजपुरी फिल्मों के सुपर स्टार पवन सिंह को पश्चिम बंगाल की आसनसोल लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारा था, लेकिन उन्होंने चुनाव लड़ने से ही मना कर दिया है।

भोजपुरी फिल्मों के सुपर स्टार पवन सिंह ने आसनसोल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने ने मना कर दिया है। उन्हें बीजेपी ने आसनसोल लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारा था। आसनसोल में उनका सामना टीएमसी के शत्रुघ्न सिन्हा से होने की उम्मीद लगाई जा रही थी, लेकिन पवन सिंह ने आसनसोल से लोकसभा चुनाव लड़ने से ही मना कर दिया है।

पवन सिंह ने चुनाव लड़ने से मना करते हुए एक्स पर लिखा, “भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को दिल से आभार प्रकट करता हूँ। पार्टी ने मुझ पर विश्वास करके आसनसोल का उम्मीदवार घोषित किया, लेकिन किसी कारणवश मैं आसनसोल से चुनाव नहीं लड़ पाऊँगा…”

खास बात ये है कि बीजेपी ने जब 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की थी और पवन सिंह की उम्मीदवारी की घोषणा की थी, तब पवन सिंह ने जोरदार तरीके से पार्टी को धन्यवाद कहा था और पार्टी का वंदन-चंदन-अभिनंदन करने वाला ट्वीट भी किया था, लेकिन महज 17 घंटों के अंदर ही उन्होंने चुनाव मैदान से हटने की घोषणा कर दी है।

जेपी नड्डा ने दिल्ली बुलाया

इस बीच, एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा ने पवन सिंह को बातचीत करने के लिए दिल्ली बुलाया है। बीजेपी ने पवन सिंह को पश्चिम बंगाल के आसनसोल से मैदान में उतारा था। आसनसोल से वर्तमान में तृणमूल कॉन्ग्रेस के शत्रुघ्न सिन्हा सांसद हैं। ऐसे में यहाँ दो कलाकारों के बीच मुकाबला होने की उम्मीद थी, लेकिन पवन सिंह के चुनाव मैदान से हटने की घोषणा से बीजेपी को अब दूसरे उम्मीदवार के नाम पर विचार करना होगा।

अपने ही पुराने गानों की वजह से फजीहत?

पवन सिंह को भोजपुरी फिल्मों का सुपरस्टार माना जाता है। उनकी बड़ी फैन फॉलोविंग है। माना जा रहा है कि पश्चिम बंगाल की महिलाओं के ऊपर गाए गए उनके पुराने गानों की वजह से उन्हें टीएमसी निशाना बनाने लगी थी। ऐसे में पवन सिंह ने मैदान से हटने में ही भलाई समझी। टीएमसी नेता और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने भी इस ओर इशारा किया था। पार्टी के राज्य सभा सांसद साकेत गोखले ने पवन सिंह के पीछे हटने पर बीजेपी को निशाने पर लिया।

अभिषेक बनर्जी ने पवन सिंह के चुनाव नहीं लड़ने के ऐलान पर कहा है कि यह पश्चिम बंगाल के लोगों की अदम्य भावना और शक्ति की जीत है। बता दें कि टीएमसी ने पवन सिंह पुराने गानों में बंगाल की महिलाओं के चित्रण पर सवाल खड़े किए थे। कुछ ही घंटों में यह विवाद काफी बढ़ गया था। टीएमसी ने इस बंगाल की महिला सम्मान से जोड़ दिया था। ऐसे में उन्होंने मैदान से ही हटने में भलाई समझी।

बता दें कि साल 2014 और 2019 में बीजेपी के टिकट पर बाबुल सुप्रियो ने यहाँ से चुनाव जीते थे। उन्होंने साल 2021 में बीजेपी को छोड़ दिया था। इसके बाद इस सीट पर टीएमसी की ओर से बॉलीवुड एक्टर शत्रुघ्न सिन्हा ने उपचुनाव जीता था। सिन्हा पहले बीजेपी में थे, और कई बार सांसद रहे थे। हालाँकि वो बिहार की पटना-साहिब सीट से चुनाव लड़ते थे।

P

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -