Saturday, July 24, 2021
Homeराजनीतिशिवहर: जिस दिन एक कैंडिडेट को गोलियों से भून दिया गया, उसी दिन हमने...

शिवहर: जिस दिन एक कैंडिडेट को गोलियों से भून दिया गया, उसी दिन हमने क्या देखा…

श्रीनारायण सिंह राजद के ही नेता थे। टिकट के दावेदार भी। लेकिन टिकट आखिर समय में पार्टी में शामिल हुए चेतन आनंद को मिला। इसकी वजह से पार्टी में बगावत हो गई। रंजन यादव की पार्टी जनता दल राष्ट्रवादी से श्रीनारायण सिंह मैदान में उतर गए।

शिवहर बिहार का सबसे छोटा जिला है। पिछड़ा भी। बाढ़ से प्रभावित भी। पूर्वी चंपारण के ढाका से शिवहर की ओर जाने वाली सड़क बागमती के किनारे-किनारे बेहद उबड़-खाबड़ है। या यूँ कहें कि बाढ़ से हुई तबाही के बाद चलने लायक जुगाड़ कर दिया गया है। इस सड़क पर हमारी कार ने जितने हिचकोले खाए, उससे कहीं ज्यादा शिवहर की चुनावी राजनीति हमें हिचकोले खाते दिखी। इकलौते विधानसभा वाले इस जिला में मुकाबला मुकाबला चतुष्कोणीय है। शिवहर विधानसभा के लिए दूसरे चरण में 3 नवंबर को मतदान होना है।

हालाँकि चतुष्कोणीय मुकाबले में श्रीनारायण सिंह नहीं थे, जिनकी शनिवार (अक्टूबर 24, 2020) को हत्या कर दी गई। उन्हें जनसंपर्क के दौरान गोलियों से भून दिया गया था। श्रीनारायण सिंह जिस नयागाँव के रहने वाले थे, हम कल वहाँ से गुजरे भी थे।

श्रीनारायण सिंह राजद के ही नेता थे। टिकट के दावेदार भी। लेकिन टिकट आखिर समय में पार्टी में शामिल हुए चेतन आनंद को मिला। इसकी वजह से पार्टी में बगावत हो गई। रंजन यादव की पार्टी जनता दल राष्ट्रवादी से श्रीनारायण सिंह मैदान में उतर गए।

इसी तरह बसपा के टिकट पर लड़ रहे संजीव गुप्ता भी राजद से टिकट चाहते थे। इस सीट से उनके पिता सत्यनारायण प्रसाद और भाई संजय गुप्ता विधायक भी रह चुके हैं। संजय गुप्ता को राजद ने बेलसंड से उम्मीदवार बनाया है। लेकिन संजीव को चुनाव नहीं लड़ने से वह नहीं मना पाई। चतुष्कोणीय मुकाबले का एक कोण संजीव भी हैं। संजीव जिस वैश्य समाज से आते हैं, उनके मतदाता इस सीट पर प्रभावी हैं।

राजद में बगावत के कई कोण होने के बावजूद चेतन आनंद की स्थिति मजबूत बताई जा रही है। इसका कारण जदयू के निवर्तमान विधायक शरफुद्दीन और नीतीश कुमार से लोगों की नाराजगी है। शरफुद्दीन के गाँव से हमने एक रिपोर्ट भी की है, जिसे आप जल्द ऑपइंडिया पर पढ़ पाएँगे।

शरफुद्दीन के गाँव के मोहम्मद वामिक भी चुनाव लड़ रहे हैं। मोहम्मद वामिक का भी क्षेत्र में खासा प्रभाव है। विधायक पर हमले के आरोप में हाल तक जेल में बंद रहे वामिक, पप्पू यादव की पार्टी से मैदान में हैं। दोनों का घर अगल-बगल ही है और इस गाँव में तनाव पसरा हुआ है। लोग बात करने को तैयार नहीं होते। हम दोनों उम्मीदवारों के दरवाजे तक भी गए थे। पर लोगों ने हाथ जोड़ लिए और कहा कि आप गाँव की दूसरी तरफ चले जाइए। इधर माहौल ठीक नहीं है।

इन चार के अलावा श्रीनारायण सिंह जैसे कुछ और भी हैं, जिनको मिलने वाले वोट नतीजे तय करने में निर्णायक होंगे। असल में इस सीट पर राजद की स्पष्ट दिख रही जीत में राजद के बागी हो रोड़े हैं। राजद के एक स्थानीय नेता ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया, “चेतन जी के पक्ष में माहौल ठीक है। पर धीरे-धीरे कार्यकर्ता टूट रहा है। अभी चुनाव में काफी टाइम है। इसको ठीक नहीं किए तो मामला गड़बड़ा सकता है।”

हमने चेतन आनंद से संपर्क करने की कई बार कोशिश की पर बात नहीं हो सकी। बता दूँ कि चेतन आनंद, पूर्व सांसद आनंद मोहन के बेटे हैं। वैसे जिला पार्षद, मुखिया और राजद ​जिला उपाध्यक्ष रहे नारायण सिंह का भी जरायम की दुनिया से संबंध रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी की फेक फोटो से फैलाया झूठ, इंटरव्यू भी काट कर चलवाया… पूर्व IAS जवाहर सरकार को राज्यसभा भेजेगी TMC

TMC ने राज्यसभा के लिए जवाहर सरकार को नामांकित किया है। हाल ही में वह पीएम मोदी की छवि को धूमिल करने के लिए नीता अंबानी के साथ उनकी फोटोशॉप्ड तस्वीर शेयर करके चर्चा में आए थे।

खुले मंच से हिंदुओं के लिए घृणा, PM मोदी और अमित शाह के लिए बहुत ही गंदी बात: पादरी जॉर्ज पोन्नैया गिरफ्तार

पादरी जॉर्ज पोन्नैया को धार्मिक समूहों के बीच नफरत फैलाने, पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह के खिलाफ टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ्तार कर...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,978FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe