Friday, June 14, 2024
Homeराजनीतिबिहार में NDA के सीट शेयरिंग फॉर्मूले की घोषणा, चाचा पर भारी पड़ा भतीजा:...

बिहार में NDA के सीट शेयरिंग फॉर्मूले की घोषणा, चाचा पर भारी पड़ा भतीजा: माँझी-कुशवाहा को एक-एक सीट, जानिए किस पार्टी के हिस्से में गई कौन सी सीटें

जदयू के हिस्से में जो सीटें गई हैं, वो हैं - वाल्मीकिनगर, सीतामढ़ी, झंझारपुर, सुपौल, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, मधेपुरा, गोपालगंज, सिवान, भागलपुर, बांका, मुंगेर, नालंदा, जहानाबाद, शिवहर। गया से HAM तो करकट से RLJP ताल ठोकेगी।

बिहार में NDA के घटक दलों के बीच लोकसभा चुनाव 2024 के लिए सीटों के बँटवारे पर मुहर लग गई है। राज्य में भाजपा सबसे अधिक 17 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, जबकि जदयू के कोटे में 16 सीटें गई हैं। चिराग पासवान की LJP (रामविलास) को 5 सीटें दी गई हैं। उनके चाचा पशुपति कुमार पारस खाली हाथ रहे। वहीं उपेंद्र कुशवाहा की RLJP व जीतन राम माँझी की HAM (सेक्युलर) को एक-एक सीटों से संतोष करना पड़ेगा। आइए, अब जानते हैं कि किसके हिस्से में कौन-कौन सी सीटें गईं।

BJP इन सीटों पर चुनाव लड़ेगी – पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, औरंगाबाद, मधुबनी, अररिया, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, महराजगंज, सारण, उजियारपुर, बेगूसराय, नवादा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम। जदयू के हिस्से में जो सीटें गई हैं, वो हैं – वाल्मीकिनगर, सीतामढ़ी, झंझारपुर, सुपौल, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, मधेपुरा, गोपालगंज, सिवान, भागलपुर, बांका, मुंगेर, नालंदा, जहानाबाद, शिवहर। गया से HAM तो करकट से RLJP ताल ठोकेगी।

वहीं लोजपा (रामविलास) के हिस्से में जो सीटें गई हैं, वो हैं – हाजीपुर, वैशाली, समस्तीपुर, जमुई और खगड़िया। जिस नवादा से पशुपति कुमार पारस कैम्प के चन्दन सिंह सांसद हैं, वहाँ से भाजपा उम्मीदवार उतारेगी। बिहार भाजपा के प्रभारी विनोद तावड़े ने पटना स्थित भाजपा प्रदेश मुख्यालय में सीट शेयरिंग फॉर्मूले को सार्वजनिक किया। इस दौरान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी और जदयू नेता संजय झा समेत अन्य दलों के नेता भी मौजूद रहे।

हालाँकि, प्रेस कॉन्फ्रेंस में पशुपति कुमार पारस की पार्टी का कोई नेता मौजूद नहीं था। अब कहा जा रहा है कि भतीजे ने चाचा को पटखनी दे दी। लोजपा (R) के प्रदेश अध्यक्ष राजू तिवारी इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद रहे। 7 ऐसी लोकसभा सीटें हैं, जहाँ नए उम्मीदवार आएँगे। यह सीटें हैं– शिवहर से रामा देवी, हाजीपुर से पशुपति पारस, गया से हरि मांझी, काराकाट से महाबली सिंह, समस्तीपुर से प्रिंस राज, नवादा से चंदन सिंह और सीतामढ़ी से सुनील कुमार पिंटू।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इंशाअल्लाह, राम मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन चुकी है’: धमकी के बाद अयोध्या में अलर्ट जारी कर कड़ी की गई सुरक्षा, 2005 में...

"बाबरी मस्जिद की जगह तुम्हारा मंदिर बना हुआ है और वहाँ हमारे 3 साथी शहीद हुए हैं। इंशाअल्लाह, इस मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन गई है।"

‘हरियाणा से समझौता करो’: दिल्ली में जल संकट पर लड़ रहे I.N.D.I. गठबंधन में शामिल कॉन्ग्रेस और AAP, सुप्रीम कोर्ट में अपने कहे से...

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा है कि हिमाचल के पास जितना 'एक्स्ट्रा' पानी है, वो दिल्ली ही नहीं किसी भी अन्य राज्य को देने को तैयार हैं, लेकिन पहले दिल्ली सरकार हरियाणा के साथ सहमति बनाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -