Friday, July 30, 2021
Homeराजनीति500 का टिकट ले आते हैं, 5 लाख का फ्री ऑपरेशन करा चले जाते...

500 का टिकट ले आते हैं, 5 लाख का फ्री ऑपरेशन करा चले जाते हैं बिहारी: CM केजरीवाल

"एक बार फिर उन्होंने (केजरीवाल) घृणा का भाव दिखाया है, अगर बिहार का व्यक्ति दिल्ली में इलाज करवा रहा है तो इससे अरविंद केजरीवाल का कलेजा क्यों फट रहा है? 5 लाख तक फ्री इलाज की व्यवस्था अरविंद केजरीवाल ने तो की नहीं, यह मोदी जी ने की है, जिसे हम आयुष्मान भारत बोलते हैं।"

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बिहार के लोगों को लेकर फिर से विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि 500 का टिकट लेकर बिहार से लोग दिल्ली आते हैं और पॉंच लाख का ऑपरेशन फ्री में करा कर लौट जाते हैं। इस बयान को लेकर भाजपा और जदयू ने उनकी तीखी आलोचना की है। इससे पहले दिल्ली में एनआरसी लागू करने के मसले पर अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी को निशाना बनाते हुए केजरीवाल ने यूपी-बिहार से आने वाले लोगों की तुलना बाहरियों से कर दी थी।

संजय गाँधी मेमोरियल अस्पताल में 362 बिस्तरों वाले ट्रामा सेंटर की रविवार (29 सितंबर) को आधारशिला रखते हुए केजरीवाल ने यह बात कही। ट्रामा सेंटर में ICU और आपातकालीन चिकित्सा सुविधा से साथ छ: सर्जिकल रूम होंगे। 18 महीने में इसके तैयार होने की उम्मीद है।

केजरीवाल ने कहा, “ये बात ठीक है कि अस्पतालों के बाहर कतार लंबी है। इसके बड़े कारण हैं। यहाँ बाहर से लोग इलाज कराने के लिए आते हैं। बॉर्डर का एक अस्पताल है उसका हमने सर्वे कराया था। 80 प्रतिशत मरीज दिल्ली के बाहर के थे। अगर दिल्ली के लोगों का इलाज करना हो तो अस्पताल बहुत हैं।”    

उन्होंने कहा,

“दिल्ली में जिस तरह की व्यवस्था है इस तरह की व्यवस्था किसी राज्य में नहीं है। ऐसा है कि बिहार से एक आदमी 500 का टिकट लेता है और दिल्ली में आता है और अस्पताल में पाँच लाख का ऑपरेशन फ्री में करा के वापस चला जाता है। इससे ख़ुशी भी होती है कि अपने ही देश के लोग हैं, उन्हें इलाज मिलना चाहिए। सभी को ख़ुश रहना चाहिए। लेकिन दिल्ली की भी अपनी क्षमता है। दिल्ली पूरे देश के लोगों का इलाज कैसे करेगी? ज़रूरत है कि देश के अंदर व्यवस्था सुधरे।”

केजरीवाल के इस बयान पर दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा, “एक बार फिर उन्होंने (केजरीवाल) घृणा का भाव दिखाया है। अगर बिहार का व्यक्ति दिल्ली में इलाज करवा रहा है तो इससे अरविंद केजरीवाल का कलेजा क्यों फट रहा है? 5 लाख तक फ्री इलाज की व्यवस्था अरविंद केजरीवाल ने तो की नहीं, यह मोदी जी ने की है, जिसे हम आयुष्मान भारत बोलते हैं।”

इसके आगे उन्होंने कहा कि केजरीवाल और वो राजनीतिक शत्रु हैं, लेकिन अब मुख्यमंत्री केजरीवाल उनसे निजी दुश्मनी निकाल  रहे हैं। उन्होंने कहा,

“शत्रुता की सज़ा अगर वह दूसरे प्रांत के लोगों को दे रहे हैं, तो यह उनकी बौखलाहट दिखाता है, यह सब इसलिए है क्योंकि उन्हें अपनी हार नज़र आ रही है। लोग उन्हें चुनाव में सबक सिखाएँगे।”

ग़ौरतलब है कि इससे पहले, केजरीवाल ने कहा था कि अगर दिल्ली में NRC लागू हुआ तो सबसे पहले दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी को शहर छोड़ना पड़ेगा।

उधर, जेडीयू के वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने केजरीवाल के बयान को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वो बिहार और यूपी वालों की वजह से चुनाव जीते थे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी सिर्फ़ आम आदमी पार्टी की ही नहीं है, यहाँ लोग देश के हर कोने से इलाज के लिए आते हैं। उन्होंने कहा, “दिल्ली में सरकारी हॉस्पिटल कम हो सकते हैं, मैं ज्यादा हॉस्पिटल बनाने की वकालत करता हूँ, जिससे प्राइवेट हॉस्पिटलों में होनेवाली लूट बंद हो, लेकिन इलाज के लिए आ रहे लोगों के लिए इस तरह बोलना ठीक नहीं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

Tokyo Olympics: 3 में से 2 राउंड जीतकर भी हार गईं मैरीकॉम, क्या उनके साथ हुई बेईमानी? भड़के फैंस

मैरीकॉम का कहना है कि उन्हें पता ही नहीं था कि वह हार गई हैं। मैच होने के दो घंटे बाद जब उन्होंने सोशल मीडिया देखा तो पता चला कि वह हार गईं।

मीडिया पर फूटा शिल्पा शेट्टी का गुस्सा, फेसबुक-गूगल समेत 29 पर मानहानि केस: शर्लिन चोपड़ा को अग्रिम जमानत नहीं, माँ ने भी की शिकायत

शिल्पा शेट्टी ने छवि धूमिल करने का आरोप लगाते हुए 29 पत्रकारों और मीडिया संस्थानों के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में मानहानि का केस किया है। सुनवाई शुक्रवार को।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,941FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe