Friday, May 20, 2022
Homeराजनीति'BJP बाकियों से अलग, मैं अकेले सब कुछ नहीं कर सकता' - बेहतर केरल...

‘BJP बाकियों से अलग, मैं अकेले सब कुछ नहीं कर सकता’ – बेहतर केरल के लिए मेट्रो मैन ई श्रीधरन

“यह कोई आकस्मिक निर्णय नहीं है। मैं पिछले एक दशक से केरल में हूँ और इस प्रदेश के लिए कुछ करना चाहता हूँ। मैं अकेले सब कुछ नहीं कर सकता हूँ। भारतीय जनता पार्टी बाकियों से अलग है, इसलिए मैंने इसमें शामिल होने का फैसला लिया।"

मेट्रो मैन के नाम से मशहूर ई श्रीधरन भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने वाले हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक़ श्रीधरन 21 फरवरी को विजय यात्रा के दौरान पार्टी की सदस्यता लेंगे। अब इस मुद्दे पर उनकी तरफ से प्रतिक्रिया आई है। उनका कहना है कि ये फैसला आकस्मिक नहीं है और भारतीय जनता पार्टी बाकी राजनीतिक दलों से अलग है। 

मलयाली समाचार पत्र मनोरमा से बात करते हुए ई श्रीधरन ने इस मुद्दे पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा:

“यह कोई आकस्मिक निर्णय नहीं है। मैं पिछले एक दशक से केरल में हूँ और इस प्रदेश के लिए कुछ करना चाहता हूँ। मैं अकेले सब कुछ नहीं कर सकता हूँ। भारतीय जनता पार्टी बाकियों से अलग है, इसलिए मैंने इसमें शामिल होने का फैसला लिया। मैंने केरल के लिए बहुत कुछ करने की योजना बनाई थी, जिसमें से काफी कुछ भाजपा के घोषणा पत्र में मौजूद है। सबसे पहले मैं पार्टी की सदस्यता लूँगा। इसके बाद पार्टी मुझे मेरी जिम्मेदारियों से अवगत कराएगी, अभी उन पर कोई चर्चा नहीं हुई है।”

श्रीधरन ने स्पष्ट किया कि अब से वह केरल सरकार की परियोजनाओं के तहत काम नहीं करेंगे क्योंकि अब वह पूरी तरह भाजपा के लिए समर्पित होंगे। वह कोच्चि मेट्रो एक्सपेंशन और पलारीवट्म ब्रिज निर्माण के लिए प्रशासन से जुड़े हुए थे।

इसके अलावा श्रीधरन का ये भी कहना है कि भाजपा विकास लेकर आ सकती है। उनके अनुसार एलडीएफ़ (लेफ्ट डेमोक्रेटिक पार्टी) की सरकार ने सिर्फ निराश किया है। उन्होंने स्थानीय लोगों के लिए पलारीवट्म ब्रिज का काम शुरू कराया था न कि सत्ताधारी पार्टी के लिए। 

ई श्रीधरन के चुनाव लड़ने के मुद्दे पर केरल भाजपा के मुखिया के सुरेंद्रन ने कहा, “पार्टी श्रीधरन से निवेदन करेगी कि वह केरल का आगामी विधानसभा चुनाव लड़ें। उन्होंने चुनाव लड़ने को लेकर स्वेच्छा भी जताई है, यह फैसला पार्टी पर होगा कि श्रीधरन किस विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने वाले हैं।”  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

औरंगजेब मंदिर विध्वंस का चैंपियन, जमीन आज भी देवता के नाम: सुप्रीम कोर्ट को बताया क्यों ज्ञानवापी हिंदुओं का, कैसे लागू नहीं होता वर्शिप...

सुप्रीम कोर्ट में जवाबी याचिका में हिंदू पक्ष ने ज्ञानवापी मामले में कहा कि औरंगजेब ने मंदिर ध्वस्त कर भूमि को किसी को सौंपा नहीं था।

जुमे पर ज्ञानवापी के विवादित ढॉंचे में भारी जुटान, गेट बंद करना पड़ा: इलाहाबाद हाई कोर्ट में सुनवाई 6 जुलाई तक टली

वाराणसी की ज्ञानवापी विवादित ढाँचे में जुमे की नमाज अदा करने के लिए बड़ी संंख्या में लोग पहुँच गए। परिसर के अंदर जगह नहीं होने के बाद गेट बंद करने पड़े।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,408FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe