बंगाल में निष्पक्ष, शांत चुनाव के लिए राष्ट्रपति शासन लगाना ज़रूरी: सुब्रमण्यम स्वामी

सुब्रमण्यम स्वामी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि अगर बीजेपी अपने दम पर सत्ता में नहीं आ पाई, तो NDA की सरकार बनेगी। शिवसेना जैसे गठबंधन के दलों की विचारधारा हमसे मिलती है और राम मंदिर बनाने में कोई समस्या नहीं आएगी।

लोकसभा चुनाव के बीच EVM पर कब्जा करने, बूथ कैप्चर करने जैसी घटनाएँ देखने को मिलती आ रही हैं। इस मामले में अक्सर लोकतंत्र की हत्या की दुहाई देने वाली ममता बनर्जी के राज्य पश्चिम बंगाल से ही इस प्रकार के प्रकरण सबसे ज्यादा सामने आए हैं। पश्चिम बंगाल में 6 चरण में मतदान हो रहे हैं। शुरुआती चरणों में सबसे ज्यादा हिंसक घटनाएँ पश्चिम बंगाल में हो रही हैं। आज भी वामपंथी नेता मोहम्मद सलीम पर हमला हुआ है।

बीजेपी (BJP) से राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का कहना है कि चुनाव आयोग को पश्चिम बंगाल के हालात देखने चाहिए और वहाँ राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए। उनकी राय है कि निष्पक्ष और शांत चुनाव के लिए पश्चिम बंगाल में ममता सरकार की जगह राष्ट्रपति शासन जरूरी है।

राम मंदिर का ना बनना, यूपी में करेगा नुकसान

सुब्रमण्यम स्वामी ने मीडिया से बातचीत में कहा, “उत्तर प्रदेश की जनता इस बात से जरूर दुखी होगी कि 5 साल सरकार रहने के बावजूद राम मंदिर का निर्माण नहीं हुआ। लेकिन मैं UP की जनता से यह कहना चाहता हूँ कि बीजेपी को एक मौका और दीजिए, इस बार राम मंदिर का निर्माण जरूर होगा। अगर बीजेपी अपने दम पर सत्ता में नहीं आ पाई, तो NDA की सरकार बनेगी। शिवसेना जैसे गठबंधन के दलों की विचारधारा हमसे मिलती है और राम मंदिर बनाने में कोई समस्या नहीं आएगी।”

जेट एयरवेज का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जेट एयरवेज के विषय पर स्वामी ने कहा, “मैंने ही जेट एयरवेज के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की थी और अब यह लगभग तय हो गया है कि मैं केस जीतने वाला हूँ। पुरानी सरकार तो एयर इंडिया को बंद कराना चाहती थी, लेकिन अगर जेट एयरवेज में काम करने वाले 20,000 लोगों के लिए कुछ करना है, तो जेट का एयर इंडिया में विलय करके राष्ट्रीयकरण करना ही एकमात्र विकल्प है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

नितिन गडकरी
गडकरी का यह बयान शिवसेना विधायक दल में बगावत की खबरों के बीच आया है। हालॉंकि शिवसेना का कहना है कि एनसीपी और कॉन्ग्रेस के साथ मिलकर सरकार चलाने के लिए उसने कॉमन मिनिमम प्रोग्राम का ड्राफ्ट तैयार कर लिया है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

113,096फैंसलाइक करें
22,561फॉलोवर्सफॉलो करें
119,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: