Saturday, July 20, 2024
HomeराजनीतिKMC चुनाव में धाँधली, पुनर्मतदान की माँग: बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी ने कहा- 20%...

KMC चुनाव में धाँधली, पुनर्मतदान की माँग: बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी ने कहा- 20% ही डाल सके वोट, मारपीट की 100+ घटनाएँ

"हमने पश्चिम बंगाल चुनाव आयोग से मुलाकात की और पुनर्मतदान की माँग की है। हम सीसीटीवी फुटेज की फोरेंसिक जाँच चाहते हैं। चुनाव के दौरान भाजपा के कई लोगों को पीटा गया। यह सुरक्षा में बड़ी चूक है।"

कोलकाता नगर निगम (KMC) चुनाव के दौरान हुई हिंसा और व्यापक धांधली के विरोध में पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने रविवार (19 दिसंबर 2021) को राज्य निर्वाचन आयोग कार्यालय के भीतर धरना दिया। उन्होंने आरोप लगाया है कि कोलकाता पुलिस ने उनके साथ मारपीट की।

उस घटना का वीडियो साझा करते हुए अधिकारी ने कहा कि राज्य निर्वाचन आयोग कार्यालय के सामने उनसे और उनके सहयोगियों के साथ मारपीट की गई। रिपोर्टों के अनुसार, अधिकारी ने भाजपा नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करते हुए नगर निकाय चुनावों में पुनर्मतदान की माँग की। भाजपा नेता ने बताया कि केवल 20% मतदाता ही अपना वोट डाल सके हैं। चुनाव के दौरान 100 से अधिक घटनाएँ हुई हैं और व्यापक रूप से धांधली की गई है।

उन्होंने पुलिस कमिश्नर पर आरोप लगाया कि वह अपने राजनीतिक बॉस के निर्देशों का पालन करते हैं। उन्हें अपने अधीनस्थों और विपक्ष की आवाज को दबाने के लिए कहा गया होगा। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “हमारा विरोध जारी रहेगा।”

अधिकारी ने कहा, “हमने पश्चिम बंगाल चुनाव आयोग से मुलाकात की और पुनर्मतदान की माँग की है। हम सीसीटीवी फुटेज की फोरेंसिक जाँच चाहते हैं। चुनाव के दौरान भाजपा के कई लोगों को पीटा गया। यह सुरक्षा में बड़ी चूक है।” एएनआई द्वारा साझा की गई एक वीडियो में शुभेंदु अधिकारी को कार्यालय के अंदर अधिकारियों के साथ अपनी बात रखते हुए भी देखा जा सकता है।

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इस मामले पर ट्वीट किया, “यह निराशाजनक है कि ममता बनर्जी राज्य निर्वाचन आयोग का दौरा करने पर भाजपा के वरिष्ठ नेता शुभेंदु अधिकारी के साथ मारपीट करने के लिए पुलिस का इस्तेमाल कर रही हैं। केएमसी चुनाव में व्यापक गड़बड़ियाँ होने के बाद अब प्रशासन के दुरुपयोग की खबरें लोकतंत्र के लिए बेहतर नहीं हैं।”

जेपी नड्डा का यह ट्वीट शुभेंदु अधिकारी के आवास के बाहर हाई वोल्टेज ड्रामा के बाद किया गया। दरअसल, रविवार (19 दिसंबर 2021) की शाम भाजपा नेता ने अपने घर पर पार्टी के अन्य विधायकों के साथ बैठक की। चुनाव आयोग के नियम का हवाला देते हुए कि कोई बाहरी मतदान के दिन कोलकाता में प्रवेश नहीं कर सकता। बिधाननगर पुलिस ने अधिकारी के घर को घेर लिया और उन्हें राजभवन में राज्यपाल से मिलने से रोक दिया।

पुलिस अधिकारी ने बीजेपी नेता को कहा, “हम आपको कोलकाता जाने की अनुमति नहीं दे सकते हैं, क्योंकि मतदान हो रहा है और आप यहाँ के निवासी नहीं हैं। बता दें कि केएमसी चुनाव के नतीजे मंगलवार (21 दिसंबर) को जारी किए जाएँगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -