Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीतिमोहम्मदपुर नहीं, अब माधवपुरम कहिए: दिल्ली के 40 गाँवों का नाम बदलेगी भाजपा शासित...

मोहम्मदपुर नहीं, अब माधवपुरम कहिए: दिल्ली के 40 गाँवों का नाम बदलेगी भाजपा शासित MCD, कहा – गुलामी का प्रतीक नहीं चलेगा

बीजेपी नेता ने यह भी कहा कि अभी 40 ऐसे गाँवों का नामकरण किया जाना है, जिनका मुगल काल के समय नाम बदला गया था। इन सभी गाँवों के नामों को स्वतंत्रता सेनानियों, देश और समाज के लिए काम करने वालों के नाम पर रखा जाएगा।

देश की राजधानी दिल्ली स्थित मोहम्मदपुर गाँव का नाम बदलकर माधवपुरम कर दिया गया है। इस मामले में दिल्ली भाजपा ने बुधवार (27 अप्रैल, 2022) को कहा कि उसने गाँव का नाम बदल दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, मोहम्मदपुर गाँव का नाम बदलकर माधवपुरम करने की सारी प्रक्रियाओं को पूरा कर लिया गया है। इस मौके पर दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष आदेश गुप्ता समेत कई अन्य नेता मौजूद रहे। इसको लेकर आदेश गुप्ता ने ट्वीट कर कहा, “अब से यह गाँव माधवपुरम के नाम से जाना जाएगा। आजादी के 75 साल बाद भी गुलामी का कोई भी प्रतीक हमारा हिस्सा हो ये कोई भी दिल्लीवासी नहीं चाहेगा।”

गौरतलब है कि साउथ दिल्ली में भीकाजी कामा प्लेस के पास स्थित इस गाँव के नामकरण की प्रक्रिया बहुत समय पहले से ही दिल्ली नगर निगम शुरू कर चुका था। बीजेपी के स्थानीय पार्षद भगत सिंह टोकस के मुताबिक, इस गाँव में हिंदुओं की आबादी सर्वाधिक है। इसलिए इसका नाम बदला जाना चाहिए।

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा, “गाँव का नाम बदलने के लिए यहाँ के पार्षद भगत सिंह टोकस ने एनएमडीसी के हाउस में प्रस्ताव पेश किया था, जिसे महापौर की सहमति से पास कर दिया गया। दिल्ली सरकार तुष्टिकरण की राजनीति कर दिल्ली के माहौल को खराब कर रही है।”

बीजेपी नेता ने यह भी कहा कि अभी 40 ऐसे गाँवों का नामकरण किया जाना है, जिनका मुगल काल के समय नाम बदला गया था। इन सभी गाँवों के नामों को स्वतंत्रता सेनानियों, देश और समाज के लिए काम करने वालों के नाम पर रखा जाएगा। माधवपुरम गाँव से इसकी शुरुआत हो चुकी है। आदेश गाँधी ने कहा कि निगम ने अपनी तरफ से सारी दस्तावेजी कार्रवाई पूरी कर ली है और अब गेंद दिल्ली सरकार के पाले में है।

उल्लेखनीय है कि अब जब भी आप माधवपुरम गाँव में जाएँगे तो प्रवेश द्वार पर ही इसके नाम का बोर्ड दिखाई देगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -