Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीति'अयोध्या-काशी के बाद अब मथुरा में बने श्रीकृष्ण का भव्य मंदिर': हेमा मालिनी बोलीं-...

‘अयोध्या-काशी के बाद अब मथुरा में बने श्रीकृष्ण का भव्य मंदिर’: हेमा मालिनी बोलीं- मौजूदा मंदिर को नया रूप दिया जा सकता है

इंदौर में बातचीत के दौरान काशी का उदाहरण देते हुए हेमा मालिनी ने कहा कि राम जन्मभूमि और काशी के कायाकल्प के बाद मथुरा में मंदिर को इसी भव्य ढंग से सजाया जा सकता है।

मथुरा से भाजपा सांसद हेमा मालिनी ने रविवार (19 दिसंबर, 2021) को उम्मीद जताई कि अयोध्या और काशी के बाद शायद अब अगला भव्य मंदिर मथुरा में बने। इंदौर में बातचीत के दौरान काशी का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि और काशी के कायाकल्प के बाद मथुरा में मंदिर को इसी भव्य ढंग से सजाया जा सकता है।

हेमा मालिनी ने कहा, “कृष्ण प्रेम और स्नेह के प्रतीक हैं। उनका जो जन्मस्थल है उसकी सांसद होने की वजह से, मैं कहूँगी कि एक भव्य मंदिर होना चाहिए। जो है वैसे तो, लेकिन उसे और भी सुंदर बना सकते हैं। जैसे काशी में मोदी जी ने काशी विश्वनाथ मंदिर के सामने इतना सुंदर कॉरिडोर बनाया है, उसका विकास किया है, जहाँ आप मंदिर से सीधा गंगा तक देख सकते हैं।”

उन्होंने कहा कि मथुरा में एक मंदिर पहले से ही है और मोदी जी द्वारा विकसित काशी विश्वनाथ कॉरिडोर की तरह इसे नया रूप दिया जा सकता है। यह परिवर्तन बहुत कठिन था। पिछले कई सालों में किसी ने सोचा भी नहीं था कि ऐसा करना चाहिए। ये उनकी (मोदी की) दूरदर्शिता को दर्शाता है। मथुरा में भी ऐसा ही होगा।

हिंदू मान्यताओं के अनुसार, मथुरा को भगवान श्रीकृष्ण की जन्मभूमि कहते हैं। ऐसे में समय-समय पर यहाँ भव्य मंदिर बनाने की माँग उठती रहती है। कुछ दिन पहले केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री संजीव बाल्यान ने कहा था कि अयोध्या में राम जन्मभूमि पर एक भव्य मंदिर का निर्माण किया जा रहा है, कृष्णा की जन्मभूमि मथुरा में भी ‘कुछ बड़ा और भव्य’ बनाया जाना चाहिए। राम की भूमि में तो भव्य मंदिर बन गया है, पर कृष्णा की भूमि में कुछ बड़ा होना चाहिए। उनके अलावा यूपी कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण सिंह ने भी कहा था कि साइट पर एक कृष्ण मंदिर बनाया जाना चाहिए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -