Sunday, April 14, 2024
Homeराजनीतिकौन हैं MLA सरबत करीम अंसारी, जो 'ईश्वर' के नाम शपथ 3 बार में...

कौन हैं MLA सरबत करीम अंसारी, जो ‘ईश्वर’ के नाम शपथ 3 बार में भी पूरा नहीं कर पाए

मंगलौर उत्तराखंड की मुस्‍ल‍िम बहुल सीटों में शामिल है। उत्तराखंड व‍िधानसभा की ये ऐसी सीट हैं, ज‍िस पर लंबे समय से कॉन्ग्रेस और बीएसपी के बीच मुकाबला होता रहा है।

उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में इस बार बसपा अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में सफल रही। बसपा को दो ही सीट पर जीत मिली, जिसकी बदौलत बसपा ने विधानसभा में 5 साल के अंतराल के बाद फिर से अपनी उपस्थिति सुनिश्चित की है। हरिद्वार के मंगलौर व‍िधानसभा सीट से जीत के आए बीएसपी के उम्मदीवार सरबत करीम अंसारी तीन बार में भी अपना शपथ ग्रहण पूरा नहीं कर पाए।

पहली बार में हिंदी में ईश्वर के नाम पर शपथ लेते हुए ठीक से नहीं पढ़ पाए। फिर दोबारा-तिबारा करके जैसे-तैसे शपथ ग्रहण पूरा किया। हालाँकि, इस दौरान प्रोटेम स्पीकर बंशीधर भगत लगातार मदद करते नजर आए। लेकिन कभी पन्ना फटा है, तो कभी कठिन या कटा हुआ कहते नजर आए। अंत में प्रोटेम स्पीकर ने जैसे तैसे शपथ ग्रहण पूरा कराया।

नीचे वीडियो में आप उन्हें शपथ लेते हुए देख भी सकते हैं। अंत में प्रोटेम स्पीकर को खुद ही बोलकर सरबत करीम अंसारी को शपथ दिलाकर, खुद ही बधाई दी।

बता दें कि उत्तराखंड व‍िधानसभा चुनाव 2022 में मंगलौर व‍िधानसभा सीट पर बीएसपी के उम्मदीवार ने जीत दर्ज की है। बीएसपी उम्मीदवार सरबत करीम अंसारी ने काजी न‍िजामुद्दीन को 598 वोटों से हराया था। सरबत करीम अंसारी को 32,660 वोट और काजी न‍िजामुद्दीन को 32,062 वोट मिले।

मंगलौर उत्तराखंड की मुस्‍ल‍िम बहुल सीटों में शामिल है। उत्तराखंड व‍िधानसभा की ये ऐसी सीट हैं, ज‍िस पर लंबे समय से कॉन्ग्रेस और बीएसपी के बीच मुकाबला होता रहा है। इस बार भी कॉन्ग्रेस के ट‍िकट पर काजी न‍िजामुद्दीन ने चुनाव लड़ा था, तो वहीं बीएसपी के ट‍िकट पर सरबत करीम अंसारी और बीजेपी के ट‍िकट पर द‍िनेश पंवार चुनाव मैदान में थे। जिसमें करीम अंसारी ने बाजी मारी।

बसपा के हाथ उत्तराखंड के जो दो सीट लगे उनमें लक्सर सीट से मोहम्मद शहजाद और मंगलौर सीट पर सरबत करीम अंसारी जीतने वालों में शामिल हैं। इन दोनों सीट पर जीत के साथ बसपा ने एक बार फिर विधानसभा पहुँचने में सफलता पाई है।

इस प्रकार उत्तराखंड में हुए विधानसभा चुनावों में बसपा का प्रदर्शन तीसरे प्रमुख राजनीतिक दल के रूप में रहा। जहाँ वर्ष 2002 में हुए पहले चुनाव में बसपा ने सात सीटें जीती थी। वर्ष 2007 में बसपा ने आठ सीटों पर कब्जा जमाया। वहीं वर्ष 2012 में बसपा का वोट बैंक तो बढ़ा, लेकिन उसकी सीटों की संख्या घट कर तीन रह गई थी।

गौरतलब है कि वर्ष 2017 में मोदी मैजिक के सामने बसपा भी अपना खाता नहीं खोल पाई थी। वहीं मौजूदा विधानसभा चुनाव में बसपा ने पिछले चुनाव से बेहतर प्रदर्शन करते हुए दो सीटों पर जीत दर्ज की है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP की तीसरी बार ‘पूर्ण बहुमत की सरकार’: ‘राम मंदिर और मोदी की गारंटी’ सबसे बड़ा फैक्टर, पीएम का आभामंडल बरकार, सर्वे में कहीं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी तीसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाती दिख रही है। नए सर्वे में भी कुछ ऐसे ही आँकड़े निकलकर सामने आए हैं।

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe