Wednesday, May 22, 2024
Homeराजनीतिउपचुनाव: बंगाल में TMC के शत्रुघ्न सिन्हा और बाबुल सुप्रियो जीते, छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस,...

उपचुनाव: बंगाल में TMC के शत्रुघ्न सिन्हा और बाबुल सुप्रियो जीते, छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस, बिहार में RJD विजयी

वहीं बालीगंज विधानसभा क्षेत्र में हुए उपचुनाव में भाजपा से तृणमूल कॉन्ग्रेस में गए बाबुल सुप्रियो ने जीत दर्ज की है। यहाँ से यहाँ से भाजपा और कॉन्ग्रेस उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई।

बिहार, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में हुए उपचुनावों में भाजपा को हार मिली है। TMC के शत्रुघ्न सिन्हा और बाबुल सुप्रियो जीते। सबसे पहले बात करते हैं पश्चिम बंगाल की। यहाँ बालीगंज विधानसभा सीट और आसनसोल लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव हुए थे। आसनसोल से TMC उम्मीदवार शत्रुघ्न सिन्हा ने 2 लाख से भी अधिक वोटों से जीत दर्ज की। वहीं भाजपा के अग्निमित्र पॉल को हार मिली है। CPM उम्मीदवार पार्था मुखर्जी तीसरे स्थान पर रहे।

वहीं बालीगंज विधानसभा क्षेत्र में हुए उपचुनाव में भाजपा से तृणमूल कॉन्ग्रेस में गए बाबुल सुप्रियो ने जीत दर्ज की है। यहाँ से यहाँ से भाजपा और कॉन्ग्रेस उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई, जबकि CPM की सायरा शाह हलीम दूसरे स्थान पर रहीं। अब चलते हैं बिहार, जहाँ के मुजफ्फरपुर स्थित बोचहाँ विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव हुए थे। यहाँ से राजद के अमर पासवान जीते हैं, जबकि भाजपा की बेबी कुमारी को हार का सामना करना पड़ा।

इसी तरह कॉन्ग्रेस शासित छत्तीसगढ़ में भी उपचुनाव हुए थे। यहाँ से राजनंदगाँव स्थित खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र में हुए उपचुनाव में कॉन्ग्रेस की उम्मीदवार यशोदा नीलाम्बर वर्मा ने जीत दर्ज की है। भाजपा उम्मीदवार कोमल जंघेल दूसरे स्थान पर रहीं। महाराष्ट्र में भी कॉन्ग्रेस उम्मीदवार ने जीत दर्ज कर ली। पार्टी के जाधव जयश्री चंद्रकांत को सबसे ज्यादा वोट मिले। भाजपा के सत्यजीत कदम दूसरे स्थान पर रहे। इसके बाद NOTA का ही स्थान रहा।

हालाँकि, माना जाता है कि उपचुनाव में सामान्यतः सत्ताधारी पार्टी की ही जीत होती है, लेकिन बिहार के चुनाव परिणाम भाजपा के लिए सही नहीं हैं। यहाँ जातिगत समीकरणों को भाजपा के खिलाफ बताया जा रहा है। वहीं पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी पार्टी की हिंसा को भाजपा के पक्ष में वोट न पड़ने का कारण बताया जा रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -