Friday, January 27, 2023
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस प्रत्याशी का नया नारा 'महिला को शिक्षित करना व्यर्थ है'

कॉन्ग्रेस प्रत्याशी का नया नारा ‘महिला को शिक्षित करना व्यर्थ है’

सुधाकरण द्वारा चुनाव प्रचार के लिए ऐसी वीडियो के इस्तेमाल ने उनकी नियत और महिलाओं को लेकर सोच पर प्रश्न चिन्ह खड़े कर दिए हैं। आज जहाँ महिलाएँ पुरूषों के साथ हर क्षेत्र में कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है, ऐसे समय में कॉन्ग्रेस नेता का यह वीडियो पार्टी की विचारधारा का शर्मनाक दृष्टिकोण प्रस्तुत कर रहा है।

एक ओर जहाँ कॉन्ग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी और महासचिव प्रियंका गाँधी चुनाव प्रचार के दौरान महिला सशक्तिकरण के मुद्दे को आधार बनाकर पूरे देश से वोट माँग रहे हैं। वहीं दूसरी ओर केरल में यूडीएफ (कॉन्ग्रेस+अन्य) के प्रत्याशी के. सुधाकरण ने चुनाव प्रचार के मद्देनज़र एक प्रमोशनल वीडियो जारी किया। जिससे लोगों के बीच यह संदेश भेजने का प्रयास किया गया है कि महिलाओं को शिक्षित करना व्यर्थ है।

सुधाकरण द्वारा चुनाव प्रचार के लिए ऐसी वीडियो के इस्तेमाल ने उनकी नियत और महिलाओं को लेकर सोच पर प्रश्न चिन्ह खड़े कर दिए हैं। आज जहाँ महिलाएँ पुरूषों के साथ हर क्षेत्र में कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है, ऐसे समय में कॉन्ग्रेस नेता का यह वीडियो पार्टी की विचारधारा का शर्मनाक दृष्टिकोण प्रस्तुत कर रहा है।

इस वीडियो में लड़की की असमर्थता को दिखाते हुए दर्शाया गया है कि यदि कोई लड़का किसी कार्य को करना शुरू करता है तो उसमें कामयाबी हासिल करने के बाद ही वापस आता है। इस वीडियो में लड़की का पिता इस बात को कहते दिख रहा है कि लड़की को पढ़ाना भी बेकार हो गया, और उसे टीचर बनाना भी। इस वीडियो को के सुधाकरण ने अपने पक्ष में इस्तेमाल करने के साथ कुन्नुर(kunnur) की सांसद और लेफ्ट की प्रत्याशी पीके श्रीमथी पर व्यंग्य कसने के लिहाज़ से इस्तेमाल किया, जो कि एक टीचर भी हैं।

हालाँकि, उनका ये उद्देश्य कामयाब नहीं हो पाया और वह आलोचनाओं से घिर गए। जगह-जगह उनके इस ऐड कैम्पेन पर सवाल उठाए जा रहे हैं। ये पहली बार नहीं है कि के सुधाकरण की महिला विरोधी सोच का प्रमाण मिला हो। इससे पहले भी सुधाकरण केरल के मुख्यमंत्री के बारे में टिप्पणी करते हुए कह चुके हैं कि “वह महिला से भी बुरे हैं है”। बता दें कि सुधाकरण द्वारा पोस्ट यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। लोग सुधाकरण को बढ़ चढ़कर महिला विरोधी करार देने में जुटे हुए हैं। महिला आयोग ने भी मामले का संज्ञान लेते हुए सुधाकरण द्वारा इस्तेमाल की गई वीडियो पर मुकदमा दायर किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाक से दिया जाने वाला दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन भारत ने किया लॉन्च: बाजार में 800 रुपए है कीमत, सरकार को आधी से...

भारत ने विश्व का कोरोना के लिए पहला स्वदेशी नेजल वैक्सीन विकसित किया है। इसे केंद्रीय मंत्री मंडाविया और जितेंद्र सिंह ने लॉन्च किया।

NRIs और महानगरों का हीरो, जिसे हम पर थोप दिया गया: SRK नहीं मिथुन-देओल-गोविंदा ही रहे गाँवों के फेवरिट, मुट्ठी भर लोगों के इलीट...

शाहरुख़ खान सिनेमा के मल्टीप्लेक्स युग की देन है, जिसे महानगरों में लोकप्रियता मिली और फिर एक इलीट समूह ने उसे 'किंग' कह दिया। SRK को आज भी गाँवों के लोग पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
242,615FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe