Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिछत्तीसगढ़ी लड़की, केरल की बहू... जिसने अपना हाथ गँवा बचाया CISF जवान की जान,...

छत्तीसगढ़ी लड़की, केरल की बहू… जिसने अपना हाथ गँवा बचाया CISF जवान की जान, BJP ने बनाया उसे उम्मीदवार

छत्तीसगढ़ की ज्योति ने केरल के अनजान CISF जवान की जान बचाई। लेकिन अपना हाथ खो दिया। अब वह उसी जवान की पत्नी हैं और केरल की बहू भी। BJP ने छत्तीसगढ़ की इस दिलेर बेटी को केरल में उम्मीदवार बना कर...

ज्योति एक आम नारी हैं। शक्ल-सूरत से केरल में उनकी पहचान भी मुश्किल है, क्योंकि वो यहाँ की मूल नहीं हैं, उनका ससुराल यहाँ है। लेकिन वो पलक्कड़ स्थित पलथुल्ली क्षेत्र के अंतर्गत कोल्लेनगोडे ब्लॉक पंचायत की भाजपा उम्मीदवार हैं। ज्योति की मलयाली भाषा पर शानदार पकड़ है और उनका पहनावा भी परंपरागत मलयाली युवती जैसा ही होता है। वह मूल रूप से छत्तीसगढ़ स्थित दंतेवाड़ा जिले के बछेली क्षेत्र की रहने वाली हैं। 

ज्योति ने शायद ही कभी सोचा होगा कि वह केरल की बहू बनेंगी लेकिन फिर उनकी पलथुल्ली के रहने वाले पीवी विकास से शादी हुई। पीवी विकास केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के जवान हैं। ज्योति ने एक अजनबी सुरक्षाबल (विकास, जो कि अब उनके पति हैं) की जान बचाते हुए अपना दाहिना गँवा दिया था। मीडिया रिपोर्ट्स में ज्योति ने इस मुद्दे पर कई बातें कहीं: 

“तारीख़ थी 3 जनवरी 2010 और मैं बस में विकास के ठीक पीछे बैठी थी। विकास अपनी दंतेवाड़ा स्थित बैलाडीला सीआईएसएफ़ यूनिट के लिए लौट रहे थे। वह खिड़की की रेलिंग पर अपना सिर रख कर आराम कर रहे थे। अचानक मुझे एक ट्रक नज़र आया, जो उसी दिशा से आ रहा था जिधर विकास रेलिंग पर अपना सिर रख कर आराम कर रहे थे। तभी ड्राइवर का बस पर नियंत्रण ख़त्म हो गया। मैंने तुरंत अपना हाथ निकाल कर विकास का सिर अंदर किया। इसके पहले कि मेरा हाथ पूरी तरह अंदर आ पाता, उसके पहले ही ट्रक ने मेरे हाथ में टक्कर मार दी।” 

ज्योति की ज़िंदगी पर इस घटना का बेहद नकारात्मक प्रभाव पड़ा था। पहले तो घर वालों का क्रोध झेलना पड़ा और इसके अलावा बीएससी नर्सिंग का कोर्स भी बीच में ही छोड़ना पड़ा। 

घटना के लगभग एक साल बाद पीवी विकास और ज्योति की शादी हुई और 2011 में वह केरल आ गईं। अब वो केरल की बहू हैं और वहाँ की परंपराओं को न सिर्फ बखूबी निभा रही हैं बल्कि समाज में सक्रिय भी हैं।

कोल्लेनगोडे ब्लॉक पंचायत की भाजपा उम्मीदवार ज्योति सिर्फ दो मुद्दों पर वोट की माँग कर रही हैं – पहला विकास और दूसरा राष्ट्रवाद। ज्योति द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक़ भारतीय जनता पार्टी की स्थानीय कमेटी ने उनसे चुनाव लड़ने के लिए संपर्क किया था। इस पर ज्योति के पति और ससुराल वालों ने सहमति जताई थी। राजनीति के मुद्दे पर ज्योति का कहना था कि भाजपा के प्रति उनका लगाव तब से है, जब वह छत्तीसगढ़ में थीं। उनका यह भी कहना है कि अब पूरे केरल में भी भाजपा की स्थिति मज़बूत हो रही है। 

ज्योति के मुताबिक़, “केरल के लोग उस पर बहुत स्नेह लुटा रहे हैं। चुनाव में वोट देना बाद की बात है लेकिन अभी के लिए लोगों की तरफ से जो स्नेह मिला, वो शानदार अनुभव है। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राजनीति से भी प्रभावित हूँ, मेरा प्रयास यही होगा कि भाजपा वहाँ बेहतर प्रदर्शन करे।”

पलक्कड़ के भाजपा जिलाध्यक्ष कृष्णा दास ने भी ज्योति की सराहना की थी। उनके मुताबिक़, “ज्योति अब केरल की बेटी हैं, उन्होंने एक जवान की जान बचाते हुए अपना हाथ गँवाया है। वह हमारे लिए किसी प्रेरणा से कमतर नहीं हैं।”         

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe