Sunday, May 19, 2024
Homeराजनीतिबसपा के कार्यकर्ता सम्मेलन में चले लाठी-जूते, सांसद सतीशचंद्र मिश्रा को भागना पड़ा, Video...

बसपा के कार्यकर्ता सम्मेलन में चले लाठी-जूते, सांसद सतीशचंद्र मिश्रा को भागना पड़ा, Video वायरल

जटौला के भाई और उनके कुछ समर्थकों ने इस कार्यक्रम में आने के बाद वशिष्ठ के विरोध में पहले नारेबाजी करनी शुरू की, जिससे दोनों पक्षों में तनातनी बढ़ गई और कुछ ही देर में दोनों ओर से लाठियाँ चलने लगीं। जिस कारण.....

हरियाणा के बल्लभगढ़ में रविवार (सितंबर 22, 2019) को पृथला विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी सुरेंद्र वशिष्ठ के लिए आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में दो गुटों की लड़ाई के कारण माहौल तनावपूर्ण हो गया। स्थिति इतनी बिगड़ गई कि आयोजन में पहुँचे पार्टी के सांसद सतीशचंद्र मिश्रा को कार्यक्रम बीच में छोड़कर भागना पड़ा। जानकारी के मुताबिक यहाँ वशिष्ठ की उम्मीदवारी का विरोध कर रहे लोगाें और समर्थकों में जमकर लाठियाँ-डंडे चले। पुलिस ने इन्हें रोकने की कोशिश की, लेकिन काफी मशक्कत के बाद वो स्थिति पर काबू पाने में सफल हुए।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो बहुजन समाज पार्टी की तरफ से पृथला विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी सुरेंद्र वशिष्ठ रविवार को बल्लभगढ़ की अग्रवाल धर्मशाला में एक कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करने पहुँचे थे। जिसमें सांसद सतीश चंद्र मिश्रा भी शिरकत करने आए थे।

लेकिन जानकारी के मुताबिक इस दौरान कार्यक्रम में विरोधी गुट के वो लोग भी आ पहुँचे, जो गिरीराज जटौला को पार्टी से निकाल दिए जाने को लेकर नाराज थे और वशिष्ठ को उम्मीदवार बनाए जाने को लेकर उनका विरोध कर रहे थे।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार जटौला के भाई और उनके कुछ समर्थकों ने इस कार्यक्रम में आने के बाद वशिष्ठ के विरोध में पहले नारेबाजी करनी शुरू की, जिससे दोनों पक्षों में तनातनी बढ़ गई और कुछ ही देर में दोनों ओर से लाठियाँ चलने लगीं। जिस कारण झड़प में वशिष्ठ के 2 कार्यकर्ताओं को चोटें आई।

हालाँकि, पुलिस ने हालातों को काबू पाने के बाद गिरिराज जटौला के भाई को हिरासत में ले लिया और माहौल को शांत करवाया। लेकिन इस घटना की वीडियो सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हो गई, जिस कारण बहुत से लोग इसपर बसपा अध्यक्ष मायावती का नाम उछालकर चुटकियाँ ले रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -