Friday, July 30, 2021
Homeराजनीतिकौन हैं पाकिस्तान की अरूसा आलम, क्यों कहते हैं उन्हें 'पंजाब की फर्स्ट लेडी':...

कौन हैं पाकिस्तान की अरूसा आलम, क्यों कहते हैं उन्हें ‘पंजाब की फर्स्ट लेडी’: जानिए क्यों मचा था ‘महाराज साहब’ से रिश्तों पर बवाल

अरूसा आलम की कैप्टन अमरिंदर सिंह से पहली मुलाक़ात उनके पाकिस्तान के दौरे पर हुई थी। दोनों को 2007 से एक दूसरे से जोड़ा जाने लगा था जब वह कई बार साथ नज़र आए थे। हालाँकि, पाकिस्तानी पत्रकार ने तत्काल प्रभाव से स्पष्टीकरण जारी करते हुए कहा था वह ‘सिर्फ दोस्त’ हैं। बाद में उन्होंने इस भाव को दूर करने का प्रयास किया और...

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पाकिस्तानी रक्षा मामलों की पत्रकार अरूसा आलम के बीच काफ़ी नज़दीकी रिश्ते हैं, इस बात की जानकारी बेहद सीमित लोगों को है। दोनों ही अपने इस कम मशहूर ‘अफेयर’ को लेकर सार्वजनिक रूप से बात करने से कतराते हैं। 

वरिष्ठ पत्रकार सीमा मुस्तफ़ा ने अरूसा आलम को ‘पंजाब की पहली महिला’ कहा था। आम आदमी पार्टी नेता सुखपाल खैरा का रवैया इन्हें लेकर बेहद आलोचनात्मक रहा है, जिसके दो मुख्य कारण हैं, पहला इनकी नागरिकता और दूसरा कि ये पंजाब के मुख्यमंत्री के दफ़्तर में ठहरी थीं। लेखिका शोभा डे ने इन्हें कैप्टन अमरिंदर सिंह की लिव इन पार्टनर बताया था। तभी से इन दोनों के रिश्ते के बीच राज़ बढ़ता जा रहा है। 

कौन हैं अरूसा आलम?

अरूसा आलम पेशे से पाकिस्तानी रक्षा मामलों की पूर्व पत्रकार हैं और पाकिस्तानी सेना के तंत्र में अच्छी पकड़ रखती हैं। अरूसा, अकलीन अख्तर की बेटी हैं जो कि जनरल रानी के नाम से मशहूर हैं। एक ऐसी प्रभावशाली शख्सियत जिन्हें पाकिस्तानी मीडिया, पाकिस्तानी नेता याहया खान (yahya khan) की ‘लवर और सोर्स ऑफ़ इंस्पिरेशन’ (muse and mistress) कहता था। जनरल रानी के लिए ऐसा माना जाता था कि याहया खान के पीछे सारी अभिप्रेरणा उनकी ही है। इसी क्रम में वह वह जनरल तक जाने का रास्ता बनीं और और पाकिस्तानी सेना के तंत्र में उनकी अहमियत को नई ऊँचाइयाँ मिली। अरूसा आलम को यह बना बनाया नेटवर्क अपनी माँ से विरासत में मिला। 

अरूसा आलम को अगस्ता 90 बी सबमरीन (Agosta-90B submarine) समझौते से सम्बन्धित खोजी पत्रकारिता के लिए जाना जाता है। इस रिपोर्ट की वजह से ही पाकिस्तानी नौसेना के मुखिया मनसुरुल हक़ को 1997 में गिरफ्तार किया गया था। साउथ एशिया फ्री मीडिया एसोसिएशन (SAFMA) में शामिल होने के बाद इनकी प्रसिद्धि और बढ़ी, इस संस्था का मूल काम भारत और पाकिस्तानी पत्रकारों के बीच रिश्ते सुधारना था। कैप्टन अमरिंदर सिंह की तरह अरूसा आलम भी शादीशुदा थीं, उनके दो बेटे थे और उनके पति व्यक्तित्व के लिहाज़ से निष्क्रिय थे इसलिए लोगों को याद भी नहीं हैं। अरूसा के मन में भारत को लेकर अलग ही रोमांच था, उनका भारत आना-जाना लगा रहता था और इस दौरान यहाँ के लोगों से भी मिलती थीं। 

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की करीबी दोस्त, अरूसा आलम   

अरूसा आलम की कैप्टन अमरिंदर सिंह से पहली मुलाक़ात उनके पाकिस्तान के दौरे पर हुई थी। दोनों को 2007 से एक दूसरे से जोड़ा जाने लगा था जब वह कई बार साथ नज़र आए थे। हालाँकि, पाकिस्तानी पत्रकार ने तत्काल प्रभाव से स्पष्टीकरण जारी करते हुए कहा था वह ‘सिर्फ दोस्त’ हैं। बाद में उन्होंने इस भाव को दूर करने का प्रयास किया और तब से वह कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ अपने रिश्तों को लेकर काफी स्पष्ट हैं। 

पंजाब में अरूसा आलम को पटियाला के पूर्व महाराजा और वर्तमान मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की बेहद ख़ास और करीबी दोस्त माना जाता है। चंडीगढ़ में बतौर मेहमान उनकी स्वीकार्यता उल्लेखनीय है, वह शहर के उच्च वर्ग के साथ योग और कैप्टन अमरिंदर सिंह के प्रति अपने लगाव के बहाने काफी समय बिताती हैं। 

स्वाभाविक रूप से कैप्टन अमरिंदर सिंह की पत्नी प्रणीत कौर को दोनों के बीच का यह रिश्ता रास नहीं आया। वह अपने पति और अरूसा के बीच कथित अफेयर को लेकर काफी निराश थीं लेकिन समय के साथ सामंजस्य बैठाना सीख गईं। यह रिश्ता बेशक उनके लिए संवेदनशील मुद्दा है, उन्होंने इस पर सार्वजनिक रूप से कभी बात नहीं की। अरूसा अमूमन पटियाला जाती हैं जहाँ प्रणीत कौर रहती हैं। वह असल में चंडीगढ़ में रहती हैं और सड़क के रास्ते भारत घूमती हैं। 

महाराज साहब के साथ खूबसूरत और हमेशा बनी रहने वाली दोस्ती पर गर्व: अरूसा आलम 

अरूसा आलम 2017 के विधानसभा चुनावों में मंचों का चर्चित चेहरा रहीं जहाँ वह कैप्टन अमरिंदर सिंह के लिए प्रचार करती हुई नज़र आई थीं। वह उन चुनिंदा लोगों में शामिल थीं जिन्हें कैप्टन अमरिंदर सिंह के शपथग्रहण में वीवीआईपी सीट मिली थी। जहाँ एक तरफ पंजाब के मुख्यमंत्री अपने रिश्ते को लेकर चुप्पी साधे रहते हैं वहीं अतीत ने सारे रोड़े दूर करते हुए दोनों के रिश्ते पर चर्चाओं को जगह दे दी है। अरूसा आलम, फरवरी 2020 के दौरान कैप्टन अमरिंदर सिंह की बायोग्राफी ‘द पीपुल्स महाराजा’ के लॉन्च में भी शामिल हुई थीं। 

सबसे उल्लेखनीय है कि इस किताब में एक पूरा अध्याय दोनों के रिश्तों पर चर्चा करता है, जिसमें स्पष्ट रूप से कहा गया है कि उनकी दोस्ती खूबसूरत है और उन्हें इस पर गर्व है। कैप्टन अमरिंदर सिंह से रिश्तों की वजह से पैदा होने वाले अवरोध के बारे में अरूसा आलम की जानकारी बहुत कम है। फरवरी 2018 के दौरान चंडीगढ़ में उन्होंने कहा था, “मेरा रिश्ता मेरे घर पर भी एक संवेदनशील मसला है। मैं एक मुस्लिम महिला हूँ और आप जानते हैं कि हमारे घर पर लोग कैसे सोचते हैं।”                 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तालिबान की मददगार पाकिस्तानी फौज, ढेर कर अफगान सेना ने दुनिया को दिखाए सबूत: भारत के बनाए बाँध को भी बचाया

अफगानिस्तान की सेना ने तालिबान को कई मोर्चों पर पीछे धकेल दिया है। उनकी मदद करने वाले पाकिस्तानी फौज से जुड़े कई लड़ाकों को भी मार गिराया है।

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe