‘आवारा गोमाता’ लिख दिग्विजय सिंह ने पूछा- कहॉं हैं गोरक्षक? CM कमलनाथ बोले- कर रहे हैं काम

ट्विटर पर कॉन्ग्रेस नेता ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को बताया कैसे बने सच्चा गोभक्त। नौ घंटे बाद ट्वीट से ही कमलनाथ ने दिया जवाब। सोशल मीडिया में लोगों ने लिए मजे। कहा- काम करें नहीं तो पंचायत चुनाव में सब पता चल जाएगा।

मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस नेता आजकल मीडिया के जरिए एक-दूसरे को पाठ पढ़ा रहे हैं। इस कड़ी में राज्य के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने मौजूदा मुख्यमंत्री कमलनाथ को ट्विटर के जरिए सच्चा गोभक्त बनने के नुस्खे बताए हैं। दिग्विजय सिंह ने अपने एक ट्वीट में भोपाल हाईवे की तस्वीरें शेयर की और कहा कि यहाँ आवारा गोमाता बैठती हैं और लगभग हर दिन एक्सीडेंट से मर जाती हैं। पूर्व मुख्यमंत्री को जवाब देते हुए कमलनाथ ने ट्वीट कर बताया कि दिग्विजय सिंह जिस मामले पर उनका ध्यान केंद्रित करवा रहे हैं, उस पर काम करने के लिए वे पहले से प्रयासरत हैं।

दिग्विजय सिंह ने कमलनाथ को टैग करते करते हुए 2 ट्वीट किए। एक में उन्होंने भोपाल हाईवे की तस्वीर डाली और लिखा, “यह चित्र है भोपाल इंदौर हाइवे का है, जहॉं आवारा गोमाता बैठी रहती हैं और लगभग हर दिन ऐक्सीडेंट में मर जाती हैं। कहॉं हैं हमारे गोमाता प्रेमी गोरक्षक? मप्र शासन को तत्काल इन आवारा गोमाता को सड़कों से हटा कर गोअभ्यारण्य या गोशालाओं में भेजना चाहिए।

इसके तुरंत बाद उन्होंने दूसरा ट्वीट किया और लिखा, “यदि कमलनाथ जी आपने तत्काल ऐसा कर के दिखा दिया तो आप सच्चे गोभक्तों में गिने जाएँगे और तथाकथित भाजपाई नेताओं को नसीहत मिलेगी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस ट्वीट का सीएम कमलनाथ ने नौ घंटे बाद जवाब दिया। कहा कि वे पहले से ही इस कार्य को करने में जुटे हुए हैं। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि अभी कुछ दिन पूर्व ही उन्होंने इस विषय पर चिंता जताते हुए अधिकारियों को एक कार्य योजना बनाने का निर्देश दिया है। उनके अनुसार मध्य प्रदेश में 1,000 गोशालाओं के निर्माण का कार्य प्रगति पर है। उनका कहना है कि अगले साल तक 3,000 गोशालाएँ बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिससे गायों के सड़कों पर बैठने पर कमी आएगी। उनके मुताबिक गाय उनके लिए सियासी मुद्दा नहीं है।

सीएम कमलनाथ के ट्विट्स का स्क्रीनशॉट

बता दें कि इन ट्वीट्स के बाद सोशल मीडिया पर लोग मध्य प्रदेश की राजनीति पर तरह-तरह की चुटकी ले रहे हैं। लोगों का कहना है कि दिग्विजय सिंह, कमलनाथ और ज्योतिरादित्य ​सिंधिया के बीच ही एक-दूसरे को गलत दिखाने की होड़ लगी हुई है। अगर ऐसा रहा तो विपक्ष क्या करेगा?

लोगों का पूछना है कि अगर आपस में ही बात करनी है तो फोन पर बात नहीं कर सकते हैं? ये सब क्या चल रहा है?

यूजर्स कह रहे हैं कि गोमाता की चिंता कर रहे हो, लेकिन जो व्यापमं में मरे, मंदसौर की फायरिंग में मरे, फर्जी जेल ब्रेक में मरे? सब ठंडे बस्ते में है!

इसके अलावा एक यूजर ने दोनों नेताओं को सलाह दी है कि वे काम करें, नहीं तो पंचायत चुनाव में सब पता चल जाएगा, जब सारे सरपंच भाजपा के बनेंगे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: