Monday, August 2, 2021
Homeराजनीति3.5 साल में 125 अपराधी मारे गए, 2607 घायल हुए: योगी सरकार ने 122...

3.5 साल में 125 अपराधी मारे गए, 2607 घायल हुए: योगी सरकार ने 122 बलिदानी पुलिसकर्मियों के परिजनों को दिए ₹26 करोड़

CM योगी ने आँकड़े गिनाते हुए बताया कि उनकी सरकार की अपराध और अपराधियों के प्रति ज़ीरो टॉलरेंस की नीति है, जिसके परिणाम स्वरूप विभिन्न जनपदों में दुर्दांत अपराधियों के विरुद्ध कार्रवाई के दौरान 20 मार्च 2017 से 5 अक्टूबर 2020 तक कुल 125 अपराधी मुठभेड़ में मारे गए और 2,607 घायल हुए।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजधानी लखनऊ स्थित पुलिस लाइन में आयोजित पुलिस स्मृति दिवस परेड में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने यूपी के पुलिसकर्मियों को सम्मानित किया और आँकड़े गिनाते हुए बताया कि उनकी सरकार की अपराध और अपराधियों के प्रति ज़ीरो टॉलरेंस की नीति है, जिसके परिणाम स्वरूप विभिन्न जनपदों में दुर्दांत अपराधियों के विरुद्ध कार्रवाई के दौरान 20 मार्च 2017 से 5 अक्टूबर 2020 तक कुल 125 अपराधी मुठभेड़ में मारे गए और 2,607 घायल हुए।

उन्होंने अपनी सरकार बनने के बाद से अब तक, यानी साढ़े 3 साल तक के आँकड़े गिनाते हुए बताया कि कैसे उनकी सरकार ने अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई की है। ‘पुलिस स्मृति दिवस’ के मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वीरगति को प्राप्त हुए सभी पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी और कहा कि बलिदानी पुलिसकर्मियों के परिवार के साथ सरकार खड़ी हैं। अब तक ऐसे 122 परिवारों को कुल 26 करोड़ रुपए दिए जा चुके हैं।

सीएम योगी ने जानकारी दी कि कानपुर स्थित बिकरू गाँव में विकास दुबे के साथ हुए एनकाउंटर में बलिदान हुए पुलिसकर्मियों के परिजनों को 50 लाख की जगह 1 करोड़ रुपए की सहायता राशि दी गई। पुलिसकर्मियों का मनोबल बढ़ाने के लिए भी स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के मौके पर पुलिसकर्मियों को विभिन्न पदक दिए गए। इस दौरान उन्होंने अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए पुलिस की भी सराहना की। यूपी सीएम योगी ने अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए पुलिसकर्मियों को सराहा।

2019-20 में उत्तर प्रदेश पुलिस के 9 जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं। सीएम योगी ने कोरोना से निपटने के लिए यूपी पुलिस द्वारा किए जा रहे कार्यों की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि महिला बटालियन के लिए भी 3687 पद सृजित किए गए हैं। 1 सितंबर 2019 से 31 अक्तूबर 2020 तक देश भर में कुल 264 पुलिस के जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं, जिन्हें याद किया जा रहा है। यूपी के 9 में से 8 बिकरू कांड में ही बलिदान हुए।

इस मौके पर बिकरू कांड में वीरगति को प्राप्त हुए सीओ देवेंद्र मिश्रा, सब इंस्पेक्टर अनूप कुमार सिंह, सब इंस्पेक्टर महेश कुमार यादव, सब इंस्पेक्टर नेबूलाल, सिपाही जितेन्द्र कुमार पाल, सुल्तान सिंह, राहुल कुमार और बबलू कुमार के परिजनों को सम्मानित किया गया। सुल्तानपुर जिले में तैनात हेड सिपाही जितेन्द्र कुमार मौर्य के परिजनों को भी सम्मानित किया गया, जो अक्टूबर 3, 2019 को वीरगति को प्राप्त हुए थे।

उत्तर प्रदेश में महिला सुरक्षा को लेकर उठ रहे सवालों के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार (अक्टूबर 17, 2020) को बलरामपुर में ‘मिशन शक्ति’ की शुरूआत भी की थी। शारदीय से वासंतिक नवरात्र तक चलने वाले इस अभियान का उद्देश्य महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान और स्वावलंबन दिलाना है। मुख्यमंत्री ने दो टूक शब्दों में कह दिया था कि महिलाओं, बेटियों, नाबालिग बच्चों और अनुसूचित जाति के लोगों के विरुद्ध अपराध करने वालों का सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe