Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिमहंत अवेद्यनाथ महाविद्यालय में औचक निरीक्षण करने पहुँचे CM योगी, बोले- गुणवत्ता से न...

महंत अवेद्यनाथ महाविद्यालय में औचक निरीक्षण करने पहुँचे CM योगी, बोले- गुणवत्ता से न हो समझौता, छात्रों को दी जाए हर सुविधा

CM योगी ने महाविद्यालय व स्टेडियम का निर्माण कार्य जल्दी से जल्दी पूरा करने को कहा, जिससे इस सत्र से महाविद्यालय में पढ़ाई का काम शुरू हो जाए। सीएम ने इस दौरान निर्देश दिए कि किसी भी हालत में गुणवत्ता से समझौता न किया जाए।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार (जून 16, 2021) दोपहर को अचानक गोरखपुर पहुँचकर गोरखनाथ मंदिर में पूजन-अर्चन करने के बाद महंत अवेद्यनाथ राजकीय महाविद्यालय व स्टेडियम का निरीक्षण करने पहुँचे। इस दौरान उन्होंने महाविद्यालय के सभी कमरों और छात्रावास का जायजा लिया। 

निरीक्षण के बाद उन्होंने महाविद्यालय व स्टेडियम का निर्माण कार्य जल्दी से जल्दी पूरा करने को कहा, जिससे इस सत्र से महाविद्यालय में पढ़ाई का काम शुरू हो जाए। सीएम ने इस दौरान निर्देश दिए कि किसी भी हालत में गुणवत्ता से समझौता न किया जाए।

बता दें कि महाविद्यालय में 90 की क्षमता का बालक और 60 की क्षमता का बालिका छात्रावास बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा है कि छात्रावास में हर प्रकार की जरूरी सुविधाएँ होनी चाहिए। क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी और मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि वे हर सप्ताह कार्यों का निरीक्षण करें और एक-एक कर सभी कार्यों को फाइनल करते रहें। गुणवत्ता का विशेष ध्यान रहे।

मालूम हो कि ये राजकीय महाविद्यालय करीब 30.34 करोड़ रुपए की लागत से बन रहा है। इसका निर्माण उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम द्वारा कराया जा रहा है। ऐसे में सीएम योगी ने इसके निरीक्षण के बाद कहा कि इस सत्र से महंत अवेद्यनाथ राजकीय महाविद्यालय में पढ़ाई शुरू हो जानी चाहिए, ताकि क्षेत्र के युवाओं को उच्च शिक्षा का नया मंच मिल सके। 

वहीं अधिकारियों ने जानकारी दी कि निर्माण का 80 प्रतिशत का काम पूरा हो चुका है। मुख्य भवन का कार्य 93 प्रतिशत पूरा हो चुका है। बालक व बालिका छात्रावास का निर्माण भी क्रमश: 95 व 93 प्रतिशत पूर्ण हो चुका है। इसके अलावा 10.16 करोड़ रुपए (जीएसटी अतिरिक्त) की लागत से बन रहे महंत अवेद्यनाथ जी महाराज स्टेडियम का निर्माण भी 70 प्रतिशत पूरा कर लिया गया है। इस स्टेडियम में 250 लोगों की क्षमता का पवेलियन बन रहा है। जहाँ मिट्टी समतलीकरण का काम 95 फीसद हो चुका है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -