Saturday, February 24, 2024
Homeराजनीतिपहले हिंदुओं के त्योहारों पर लगती थीं बंदिशें, अब कोई रोक नहीं: मथुरा में...

पहले हिंदुओं के त्योहारों पर लगती थीं बंदिशें, अब कोई रोक नहीं: मथुरा में जन्माष्टमी के कार्यक्रम में CM योगी ने कही ये बात, देखें वीडियो

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आजादी के बाद रामनाथ कोविंद पहले राष्ट्रपति हैं जिन्होंने जिन्होंने अयोध्या जाकर रामलला के दर्शन किए। इससे पहले सरकारों में बैठे लोगों को पूजा करने में भी सांप्रदायिकता का भय होता था।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर आज (अगस्त 30, 2021) श्रीकृष्ण जन्मोत्सव में भाग लेने मथुरा पहुँचे। कृष्णोत्सव का शुभारंभ करते हुए उन्होंने कृष्ण भक्तों को संबोधित किया। राधे-राधे के जयकारे से अपने संबोधन की शुरुआत करते हुए सीएम योगी ने बताया कि बहुत इच्छा होने के बावजूद वो पिछले कुछ सालों से कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पा रहे थे।

कार्यक्रम से संबंधित वीडियो में मुख्यमंत्री ने 16 मिनट से लेकर 38 मिनट के स्लॉट पर अपनी बात रखी। कोरोना हालातों पर बात करते हुए उन्होंने कहा, “कोरोना नियंत्रण में है लेकिन सावधानी अपेक्षित है। वृंदावन बिहारी लाल से प्रार्थना है कि जैसे आपने यहाँ अनेक राक्षसों का अंत किया था। वैसे ही कोरोना जैसे राक्षस का भी अंत करें। महामारी ने कई जानें लीं। पीएम के नेतृत्व में हमने काफी इंतजाम और कोशिश की, लेकिन ऐसे महामारी काल में सरकारी उपाय कम पड़ जाते हैं। जनता को भी आगे आकर इस अदृश्य शत्रु से लड़ना है।”

आगे उन्होंने याद दिलाया कि कैसे पहले के मुख्यमंत्री, विधायक, राजनेता मथुरा, अयोध्या का नाम लेने से डरते थे, हिंदू पर्वों पर बधाई देने से घबराते थे, बिजली-पानी, सुरक्षा भी नहीं दिया जाता था, हर्षोल्लास पर बंदिशें थीं, त्योहार मनाने के लिए समय की पाबंदी थी, लेकिन अब कान्हा का जन्मोत्सव धूमधाम से आधी रात में ही होता है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा, “पहले आपके (हिंदुओं के) पर्व और त्योहार पर बधाई देने के लिए न कोई मुख्यमंत्री आता था, न मंत्री और न विधायक आता था। भारतीय जनता पार्टी के जनप्रतिनिधियों को छोड़ दें तो शेष दलों के लोग दूर भागते थे। लोग डरते थे। हिंदू पर्व और त्योहारों में कोई नहीं आता था, सहभागी नहीं बनता था। पर्व और त्योहारों में बंदिशें अलग से रहती थीं। बिजली-पानी नहीं होते थे, सुरक्षा नहीं होती थी, सफाई नहीं रहती थी। अलर्ट जारी होता था कि रात 12 बजे के बाद आप कार्यक्रम नहीं करेंगे। रंगोत्सव का काय्रक्रम नहीं करेंगे। अब तो ऐसी बंदिश नहीं है, यह राजनीतिक परिवर्तन है।”

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आजादी के बाद रामनाथ कोविंद पहले राष्ट्रपति हैं जिन्होंने  जिन्होंने अयोध्या जाकर रामलला के दर्शन किए। इससे पहले सरकारों में बैठे लोगों को पूजा करने में भी सांप्रदायिकता का भय होता था। जो पहले मंदिर जाने में संकोच करते थे, अब कहते हैं राम और कृष्ण हमारे हृदय में हैं।

कार्यक्रम में शामिल होने के दौरान मुख्यमंत्री ने ब्रज के विकास का संकल्प दोहराया, उन्होंने कहा कि ब्रज तीर्थ विकास परिषद संतों के सानिध्य में है। अपने संबोधन के बाद सीएम ने कृष्ण जन्म स्थान स्थित भागवत भवन में पूजा-अर्चना भी की। इससे पहले उन्होंने केश‌वदेव के दर्शन किए और इसके बाद गर्भगृह में पहुँचकर भी ठाकुर जी के दर्शन किए। मंच पर संबोधन से पहले ब्रज तीर्थ विकास परिषद की ओर से किए गए विकास कार्यों की डॉक्यूमेंट्री दिखाई गई। इसके जरिए मथुरा क्षेत्र की उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी गई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

6 दिन में 700+ कंप्लेन… संदेशखाली में TMC नेता के खिलाफ उमड़े लोग, लगी कतार: BJP के संघर्ष से पीड़ितों को मिला हौसला, बैकफुट...

संदेशखाली में एक सप्ताह के भीतर 700 से अधिक शिकायतें दर्ज हो चुकी हैं। इनमें से 150 से अधिक जमीन कब्ज़ा किए जाने से जुड़ी हैं।

राजस्थान के सरकारी स्कूल में जबरन पढ़वाते थे नमाज, हिंदू छात्रा के TC में लिखा ‘इस्लाम’: धर्मांतरण और लव जिहाद की साजिश पर शिक्षा...

राजस्थान के कोटा जिले के एक सरकारी स्कूल में धर्मांतरण और लव जिहाद की साजिशों का खुलासा होने के बाद दो शिक्षक सस्पेंड किए गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe