Wednesday, April 17, 2024
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस नेता ने दिया ममता बनर्जी को विलय का सुझाव, कहा- BJP को हराने...

कॉन्ग्रेस नेता ने दिया ममता बनर्जी को विलय का सुझाव, कहा- BJP को हराने का नहीं है कोई दूसरा विकल्प

"कॉन्ग्रेस ने भारत में लगभग 100 सालों तक बीजेपी जैसे दलों के खिलाफ गठबंधन करके भारत में एक धर्मनिरपेक्ष माहौल बनाए रखा था। कॉन्ग्रेस नेता टीएमसी पर पलटवार करते हुए कहते हैं कि ममता बनर्जी को TMC छोड़ देना चाहिए और आज ही कॉन्ग्रेस से हाथ मिलाना चाहिए।"

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले वहाँ राजनीतिक उठा-पटक शुरू हो गई है। हाल में ममता बनर्जी के करीबी सौगात राय ने कॉन्ग्रेस और लेफ्ट पार्टियों को टीएमसी के साथ आने की सलाह दी और अब कॉन्ग्रेस ने टीएमसी को सुझाया है कि वह उनके साथ जुड़ जाएँ क्योंकि वह अकेले बीजेपी के ख़िलाफ़ नहीं लड़ पाएँगे।

जानकारी के मुताबिक, कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने टीएमसी पर निशाना साधते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आगामी चुनावों में अकेली बीजेपी के खिलाफ नहीं लड़ सकती हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें (ममता बनर्जी) कॉन्ग्रेस में शामिल होना चाहिए क्योंकि बंगाल में कॉन्ग्रेस के बिना बीजेपी को सत्ता में आने से रोक पाना असंभव है। 

उनका तर्क है कि कॉन्ग्रेस ने भारत में लगभग 100 सालों तक बीजेपी जैसे दलों के खिलाफ गठबंधन करके भारत में एक धर्मनिरपेक्ष माहौल बनाए रखा था। कॉन्ग्रेस नेता टीएमसी पर पलटवार करते हुए कहते हैं कि ममता बनर्जी को TMC छोड़ देना चाहिए और आज ही कॉन्ग्रेस से हाथ मिलाना चाहिए।

लोकसभा में कॉन्ग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी कहते हैं कि ममता बनर्जी समझ रही हैं कि बंगाल में BJP को रोकने के लिए उनके पास कोई चारा नहीं है। BJP के खिलाफ लड़ने के लिए ममता बनर्जी की नहीं बल्कि कॉन्ग्रेस की अगुवाई में आना आवश्यक है। 

उनके अनुसार ममता बनर्जी के पास कोई दूसरा रास्ता नहीं है। कॉन्ग्रेस नेता ने आगे कहा कि अब टीएमसी सोच रही है कि कॉन्ग्रेस के बिना राज्य में उसका रहना मुश्किल होगा और कॉन्ग्रेस पार्टी भी यही सलाह देती रही है।

शुक्रवार को 24 परगना जिले के बारासात के अदालत परिसर में खड़े होकर कॉन्ग्रेस नेता ने कहा, “टीएमसी पहले खुद को देखे। पश्चिम बंगाल में सांप्रदायिक पार्टियों को लाने वाले पहले खुद को देखें। हम हमेशा से सेकुलर रहे हैं। हम सेकुलर पार्टी के साथ लड़ना चाहते हैं। यह हमने बहुत पहले कहा था। हम तृणमूल कॉन्ग्रेस की तरह नहीं हैं, जो आज सेकुलर है, कल तटस्थ और परसों तानाशाही दिखाएगी। हम ऐसा नहीं करते हैं।” 

चौधरी का कहना है, “ममता दीदी को सब पता है। कॉन्ग्रेस पार्टी छोड़ गईं और तृणमूल कॉन्ग्रेस का जन्म हुआ, इसलिए TMC छोड़कर कॉन्ग्रेस में आना समझदारी है। सभी समस्याओं का हल है। ममता बनर्जी तृणमूल के बड़े और छोटे नेताओं से लगातार बात किए बगैर खुद सोनिया गाँधी के पास जा सकती हैं। वह सोनिया गाँधी को जानती हैं, वह दिल्ली जा सकती हैं और उनसे मिल सकती हैं।” 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिंग्या मुस्लिमों ने 1600 हिन्दुओं को बंधक बनाया: रिपोर्ट में खुलासा- म्यांमार की फ़ौज ही दे रही हथियार और प्रशिक्षण, 2017 में भी हुआ...

म्यांमार की फ़ौज ने 'आराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (ARSA)' और 'आराकान रोहिंग्या आर्मी (ARA)' को 'आराकान आर्मी (AA)' के खिलाफ लड़ने के लिए हथियार से लेकर सैन्य प्रशिक्षण तक दिया है।

स्कूल में नमाज बैन के खिलाफ हाई कोर्ट ने खारिज की मुस्लिम छात्रा की याचिका, स्कूल के नियम नहीं पसंद तो छोड़ दो जाना...

हाई कोर्ट ने छात्रा की अपील की खारिज कर दिया और साफ कहा कि अगर स्कूल में पढ़ना है तो स्कूल के नियमों के हिसाब से ही चलना होगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe