Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीति'मुर्गे के खून' से लिखा दर्द भरा खत - हमें छोड़कर मत जाओ राहुल...

‘मुर्गे के खून’ से लिखा दर्द भरा खत – हमें छोड़कर मत जाओ राहुल गाँधी!

फ़िलहाल, कॉन्ग्रेस में लगातार इस्तीफ़ों की झड़ी लगी है और कई प्रदेश अध्यक्षों समेत पार्टी के एक दर्जन से भी अधिक बड़े नेता अपने पद से इस्तीफ़ा दे चुके हैं। राज बब्बर से लेकर...

उत्तर प्रदेश के जौनपुर में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी को ख़ून से चिट्ठी लिखने की बात सामने आई है। इन कार्यकर्ताओं ने ख़ून से लिखी चिट्ठी में राहुल गाँधी से इस्तीफ़ा न देने की अपील की। बता दें कि लोकसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस की बुरी हार के बाद राहुल गाँधी ने इस्तीफ़े की पेशकश की थी, जिसे कॉन्ग्रेस वर्किंग कमेटी ने नकार दिया। पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह और पार्टी महासचिव प्रियंका गाँधी ने राहुल से इस्तीफ़ा न देने का निवेदन किया। पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि अगर राहुल इस्तीफ़ा देते हैं तो कार्यकर्ता आत्महत्या कर लेंगे।

टाइम्स नाउ की ख़बर के मुताबिक़, कॉन्ग्रेस के युवा नेताओं ने “राहुल गाँधी, इस्तीफ़ा मत दीजिए” सहित कई बातें ख़ून से लिखीं, ताकि राहुल को इस्तीफ़ा न देने के लिए मना सकें। इसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने तरह-तरह के सवाल पूछने शुरू कर दिए। एक व्यक्ति ने पूछा कि इन पत्रों को लिखने के लिए किसका ख़ून प्रयोग किया गया था? एक अन्य यूजर ने मोदी-शाह की फोटो पोस्ट की, जिसमें दोनों बातें कर रहे हैं कि ये पत्र लिखने वाले अपने ही लोग हैं।

अधिकतर ट्विटर यूजर्स ने मज़ाक उड़ाते हुए कहा कि ज़रूर ये भाजपा के ही लोग हैं, क्योंकि वे नहीं चाहते कि राहुल गाँधी कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दें। ट्विटर यूजर्स ने लिखा कि भाजपा तब तक एकदम निश्चिंत है, जब तक राहुल कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष हैं।

फ़िलहाल, कॉन्ग्रेस में लगातार इस्तीफ़ों की झड़ी लगी है और कई प्रदेश अध्यक्षों समेत पार्टी के एक दर्जन से भी अधिक बड़े नेता अपने पद से इस्तीफ़ा दे चुके हैं। उत्तर प्रदेश में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर से लेकर महाराष्ट्र में प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण तक, कई नेताओं ने नैतिक ज़िम्मेदारी लेते हुए अपना इस्तीफ़ा पार्टी हाईकमान को भेज दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe