Monday, November 29, 2021
Homeराजनीतिवामपंथियों को खटक रहे केजरीवाल बने सॉफ्ट हिंदुत्ववादी, रिपब्लिक पर भी धड़ाधड़ दीवाली विज्ञापन

वामपंथियों को खटक रहे केजरीवाल बने सॉफ्ट हिंदुत्ववादी, रिपब्लिक पर भी धड़ाधड़ दीवाली विज्ञापन

अरविंद केजरीवाल ने एक वीडियो विज्ञापन जारी किया है, जिसमें उन्होंने जानकारी दी है कि वह और उनके मंत्री 14 नवंबर को शाम 7.39 बजे दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर में पूजा करेंगे। वीडियो में उन्होंने बताया कि मंत्रों के साथ दीवाली पूजा सभी प्रमुख समाचार चैनलों पर लाइव प्रसारित की जाएगी....

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल अपनी कुछ हालिया कार्रवाइयों के बाद हुए बवाल के कारण अब अपने छवि को ‘सेक्युलरिज्म’ से खिसका कर ’सॉफ्ट हिंदुत्व’ में कहीं फिट करने की जगह तलाश रहे हैं। दिल्ली दंगों के मामले में UAPA के तहत उमर खालिद के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी देकर मुस्लिमों और लेफ्ट लिबरल्स को नाराज करने के बाद, सीएम अब आक्रामक रूप से पूजा-अर्चना को बढ़ावा देने में लग गए हैं। ऐसा ही कुछ वह दिवाली के अवसर पर दिल्ली के अक्षरधाम में आयोजित करेंगे।

अरविंद केजरीवाल ने एक वीडियो विज्ञापन जारी किया है, जिसमें उन्होंने जानकारी दी है कि वह और उनके मंत्री 14 नवंबर को शाम 7.39 बजे दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर में पूजा करेंगे। वीडियो में उन्होंने बताया कि मंत्रों के साथ दीवाली पूजा सभी प्रमुख समाचार चैनलों पर लाइव प्रसारित की जाएगी और वह जनता से लाइव स्ट्रीम देखकर पूजा में भाग लेने की अपील कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने यह भी कहा कि जब 2 करोड़ लोग शनिवार की शाम को एक साथ पूजा करेंगे, तो दिल्ली के चारों ओर जादुई तरंगे प्रकट होंगी, और सभी दृश्य और अदृश्य ताकतें दिल्ली के लोगों को आशीर्वाद देंगी। इस पूजा से दिल्ली के सभी निवासियों को लाभ होगा।

सोशल मीडिया पर वीडियो संदेश जारी करने के अलावा, इसे टीवी चैनलों पर भी बहुत ही आक्रामक रूप से प्रचारित किया जा रहा है। अन्य चैनलों के साथ-साथ यह विज्ञापन रिपब्लिक टीवी पर भी दिखाया जा रहा है, जो कि लेफ्ट लिबरल की आँखों में नफ़रत की हद तक चुभने वाला चैनल है।

वास्तव में, इस विज्ञापन की फ्रीक्वेंसी देखकर ऐसा लग रहा है कि विज्ञापन को रिपब्लिक चैनल पर सबसे अधिक बार दिखाया जा रहा है, क्योंकि यह रिपब्लिक टीवी पर एक घंटे में कई बार देखा गया है। उदाहरण के लिए, नीचे स्क्रीनशॉट में, वीडियो को मात्र 10 मिनट के अंतराल पर रिपब्लिक पर दोहराया गया है।

केजरीवाल का विज्ञापन 5.43 PM पर 13 November
केजरीवाल का विज्ञापन 5.53 PM पर 13 November

इतना ही नहीं, दिल्ली सरकार ने दिवाली पूजा को बढ़ावा देने के लिए एक व्यापक प्रचार अभियान भी शुरू किया है। ट्विटर पर कई लोगों ने यह सूचना दी कि उन्हें केजरीवाल के वीडियो संदेश के ऑडियो के साथ कई फोन कॉल आए, जिसमें उन्होंने पूजा का सीधा प्रसारण देखने का विशेष आग्रह किया।

आम आदमी पार्टी के नेताओं और मंत्रियों के लिए इफ्तार पार्टियों की मेजबानी करना आम बात है, लेकिन उनके लिए ऐसी सार्वजनिक घोषणा के साथ धूमधाम से पूजा करना दुर्लभ क्षण होगा, खासकर उन नेताओं के लिए जो हिंदुत्व की विचारधारा से नहीं जुड़े हैं। अरविंद केजरीवाल लिबरलों के खास रहे हैं, और इसलिए, यह उनकी विचारधारा में एक प्रमुख बदलाव के संकेतक के रूप में देखा जा रहा है।

केजरीवाल में आए इस स्पष्ट बदलाव पर प्रतिक्रिया देते हुए, भाजपा नेता तेजस्वी सूर्या ने कहा कि यह भारतीय राजनीति में सबसे बड़ा शिफ्ट है जिसे पीएम मोदी ने लाया है। उन्होंने कहा कि यह अब ‘न्यू नॉर्मल’ है, क्योंकि कोई भी अब हिंदू विरोधी होने और राजनीति में अप्रासंगिक होने का जोखिम नहीं उठा सकता है।

भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने भी दिल्ली के सीएम पर उनकी इस अपील के लिए तंज किया। उन्होंने कहा कि केजरीवाल प्रदूषण के लिए अन्य राज्यों को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं, और कोरोनोवायरस के मामलों में वृद्धि के लिए प्रदूषण को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। केजरीवाल पर तंज कसते हुए, गंभीर ने ट्वीट किया कि दिल्ली में सब कुछ अपने आप ठीक हो जाएगा, और आप लोग अब सीएम को टीवी पर पूजा करते हुए देख सकते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe