Thursday, August 5, 2021
Homeराजनीतिकेजरीवाल को थप्पड़ किसने मारा: AAP के ही 'कार्यकर्ता' ने, वीडियो और पुलिस जाँच...

केजरीवाल को थप्पड़ किसने मारा: AAP के ही ‘कार्यकर्ता’ ने, वीडियो और पुलिस जाँच में हुआ खुलासा

सुरेश के आम आदमी पार्टी से जुड़े होने का एक और सबूत उस वीडियो में भी मिल जाता है, जिसमें केजरीवाल 26 मार्च को पश्चिमी दिल्ली के सुदर्शन पार्क में एक सार्वजनिक बैठक को संबोधित कर रहे थे। यहाँ सुरेश...

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को शनिवार (मई 4, 2019) को चुनावी रोड शो के दौरान सुरेश चौहान नाम के एक शख्स ने थप्पड़ मारा था। उस घटना को केजरीवाल ने भाजपा की साजिश करार दिया था। केजरीवाल को थप्पड़ पड़ने के बाद इस तरह की काफी बातें हुईं कि कहीं ये केजरीवाल का ही पब्लिसिटी स्टंट तो नहींं… कहीं केजरीवाल ने खुद ही तो नहीं करवाया ये हमला??? हालाँकि साफ तौर पर ये तो ये नहीं कहा जा सकता कि ये केजरीवाल की ही साजिश थी, मगर अभी एक वीडियो सामने आया है, जिससे ये बात साफ हो रही है कि सुरेश आम आदमी पार्टी का कार्यकर्ता है और वो नियमित तौर पर पार्टी जनसभाओं में भाग लेता है। उसे पश्चिमी दिल्ली में आप की जनसभाओं को संबोधित करते हुए भी पाया गया।

द हिन्दू में एक वीडियो की बात की जा रही है, जो कि दिल्ली के मोतीनगर की है। इस वीडियो में सुरेश के गले में आम आदमी पार्टी का दुपट्टा दिखाई दे रहा है। साथ ही ये भी देखा जा सकता है वो केजरीवाल के गाड़ी के काफी करीब खड़ा है। सुरेश के आम आदमी पार्टी से जुड़े होने का एक और सबूत उस वीडियो में भी मिल जाता है, जिसमें केजरीवाल 26 मार्च को पश्चिमी दिल्ली के सुदर्शन पार्क में एक सार्वजनिक बैठक को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान सुरेश पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ मंच के काफी करीब खड़े दिखाई दे रहे हैं। वो ऐसी जगह खड़े हैं, जहाँ पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था होती है।

मोती नगर रैली में थप्पड़ कांड के ठीक पहले सुरेश (फोटो साभार: द हिन्दू)

आप नेता संजय सिंह ने इस बाबत सोमवार (मई 6, 2019) को दिल्ली के पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से मुलाकात की और पुलिस के उस दावे को गलत बताया कि केजरीवाला को मारने वाला सुरेश चौहान आप का समर्थक है। संजय सिंह ने कहा कि ये भाजपा और कॉन्ग्रेस की साजिश थी। हमलावर मोदी भक्त था। इसके साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री की सुरक्षा बढ़ाने के लिए पुलिस से अनुरोध किया।

जानाकारी के मुताबिक, जब स्थानीय स्तर पर सुरेश के बारे में पूछताछ की गई, तो पता चला कि सुरेश ‘आप’ की रैलियों और सार्वजनिक बैठकों के लिए एक आयोजक के रूप में काम करता था। पुलिस ने पार्टी के रजिस्टर्ड कार्यकर्ता से भी इस बारे में पूछा। उन्होंने बताया कि सुरेश पार्टी का रजिस्टर्ड कार्यकर्ता नहीं है, लेकिन साथ ही उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि वो आम आदमी पार्टी के कार्यकर्मों को आयोजित करने में मदद किया करता था।

सुरेश को रविवार (मई 5, 2019) को दो दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। उस पर आईपीसी की धारा 323 और 153 के तहत केस दर्ज है। जब सुरेश से केजरीवाल को थप्पड़ मारने के बारे में पूछा गया कि क्या उसने ये सब कुछ जानबूझकर किया है या फिर किसी को इसके बारे में कुछ बताया था तो उसने बताया कि उसने दो दिन पहले अपने एक दोस्त से कहा था कि वो केजरीवाल को मारेगा। मगर जब उसके दोस्त से इस बारे में पूछा गया तो उसने ये कहते हुए इस बात से इनकार कर दिया कि उसे इसके बारे में कुछ भी पता नहीं है।

इसके साथ ही पूछताछ के दौरान सुरेश ने केजरीवाल का जिक्र करते हुए कहा कि वो गलत बात बोलता है। सुरेश का कहना है कि पार्टी के नेता घमंडी हो गए हैं, जिसकी वजह से केजरीवाल पार्टी से विमुख हो रहे हैं। वहीं एक अधिकारी का कहना है कि वो कानून व्यवस्था की स्थिति का हवाला देते हुए उसकी जमानत याचिका के अनुरोध का विरोध करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस मामले में उसकी सजा सुनिश्चित करने के लिए जल्द से जल्द चार्जशीट दर्ज करेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe