Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीति14 अक्टूबर तक तिहाड़ में ही रहेंगे डीके शिवकुमार, भाई और कॉन्ग्रेस सांसद डीके...

14 अक्टूबर तक तिहाड़ में ही रहेंगे डीके शिवकुमार, भाई और कॉन्ग्रेस सांसद डीके सुरेश से ED करेगी पूछताछ

इससे पहले ट्रायल कोर्ट ने शिवकुमार की जमानत याचिका खारिज दी थी। सुनवाई के दौरान प्रवर्तन निदेशालय ने कहा था कि शिवकुमार ने भले ही आयकर दिया है, लेकिन इससे उनकी संपत्ति बेदाग नहीं हो जाती।

मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में आरोपित कर्नाटक कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार 14 अक्टूबर तक तिहाड़ जेल में ही रहेंगे। दिल्ली हाई कोर्ट में सोमवार (सितंबर 30, 2019) को उनकी जमानत याचिका पर सुनवाई हुई। कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई 14 अक्टूबर तक टाल दी है।

सोमवार को हुई सुनवाई में कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय (ED) को जवाब देने के लिए नोटिस जारी किया। न्यायमूर्ति सुरेश कुमार कैत ने ईडी से याचिका पर अपना जवाब और स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कहा है।

इस बीच ईडी ने डीके शिवकुमार के भाई डीके सुरेश को नोटिस जारी किया है। डीके सुरेश कॉन्ग्रेस के सांसद भी हैं। बता दें कि शिवकुमार को ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में 3 सितंबर को गिरफ्तार किया था। ईडी ने गिरफ्तार करने के बाद उनसे 14 दिन तक लगातार पूछताछ की थी।

इस दौरान शिवकुमार ने अपने बयानों में डीके सुरेश का नाम लिया था। बयान के आधार पर डीके सुरेश को नोटिस जारी किया गया है। उन्हें इसी सप्ताह पूछताछ के लिए बुलाया गया है। ईडी डीके सुरेश के जरिए ऑल इंडिया कॉन्ग्रेस कमेटी तक पहुँचना चाहता है। ईडी का आरोप है कि डीके शिवकुमार के जरिए कथित कालाधन एआईसीसी तक पहुँचाया गया।

इससे पहले ट्रायल कोर्ट ने शिवकुमार की जमानत याचिका खारिज दी थी। उन्होंने ट्रायल कोर्ट में खराब सेहत की दलील दी थी, जो काम नहीं आई। सुनवाई के दौरान प्रवर्तन निदेशालय ने कहा था कि शिवकुमार ने भले ही आयकर दिया है, लेकिन इससे उनकी संपत्ति बेदाग नहीं हुई है। इस अपराध की जड़ें गहरी हैं और अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुँचाया गया है। इस मामले से सख्ती से निपटना चाहिए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe