Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिदिल्ली के जिस मेडिकल कॉलेज की 13 छात्राओं ने प्रोफेसर सलीम शेख पर लगाया...

दिल्ली के जिस मेडिकल कॉलेज की 13 छात्राओं ने प्रोफेसर सलीम शेख पर लगाया यौन शोषण का आरोप, उसकी फाइल 45 दिन से दबाकर बैठे हैं CM केजरीवाल: LG का खुलासा

कुछ दिन पहले ही दिल्ली के रोहिणी इलाके में स्थित डॉ बाबा भीमराव अम्बेडकर हॉस्पिटल एंड मेडिकल कॉलेज में छेड़छाड़ का मामला सामने आया था। MBBS का कोर्स कर रहीं 13 छात्राओं ने प्रोफेसर सलीम शेख पर शारीरिक शोषण और यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था।

दिल्ली के उपराज्यपाल दफ्तर ने कहा है कि यौन शोषण के एक मामले में कार्रवाई पर CM अरविन्द केजरीवाल कोताही बरत रहे हैं। LG दफ्तर ने कहा है कि CM केजरीवाल ने 14 फरवरी से रोहिणी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल को हटाने सम्बन्धी फाइल रोक रखी है। इस मेडिकल कॉलेज में छात्राओं के यौन शोषण की बात सामने आई थी।

LG विनय सक्सेना के दफ्तर ने गुरुवार (28 मार्च, 2024) को एक प्रेस रिलीज में कहा, “जहाँ एक ओर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर मेडिकल कॉलेज में कथित यौन उत्पीड़न को लेकर लगातार हँगामा करते हुए इसके प्रिंसिपल को हटाने की माँग कर रहे हैं, वहीं प्रिंसिपल के तबादले की फाइल CM केजरीवाल ने पिछले 45 दिनों से दबा कर रखी हुई है।”

LG दफ्तर ने बताया कि 20 मार्च, 2024 को सौरभ भारद्वाज ने LG विनय सक्सेना को एक पत्र लिख कर इस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ईश्वर सिंह को हटाने सम्बन्धी माँग की थी। भारद्वाज ने आरोप लगाया था कि प्रिंसिपल ने उन छात्राओं का सहयोग नहीं किया जिन्होंने एक प्रोफ़ेसर के विरुद्ध यौन शोषण का मामला दर्ज करवाया था। प्रिंसिपल ने छात्राओं से मामला दबाने और इसे ना उठाने की भी बात की थी।

LG दफ्तर ने कहा है कि CM केजरीवाल को इस संबंध में मार्च माह में ही ईश्वर सिंह की फाइल पर एक्शन लेने के लिए दो बार कहा जा चुका है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। यह फाइल 14 फरवरी, 2024 से ही CM दफ्तर में लटकी हुई है। LG दफ्तर ने कहा कि CM केजरीवाल उस कमिटी के चेयरमैन हैं जो कि ऐसे अफसरों के खिलाफ एक्शन लेती है लेकिन वह कार्रवाई नहीं कर रहे।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने इस मामले पर कहा कि जिस फ़ाइल में ईश्वर सिंह का नाम है, उसमें 17 अधिकारियों के तबादले और तैनाती सम्बन्धी दस्तावेज हैं। यह एक रूटीन फ़ाइल है और इसमें यौन शोषण सम्बन्धी बातों का जिक्र नहीं किया गया था।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही दिल्ली के रोहिणी इलाके में स्थित डॉ बाबा भीमराव अम्बेडकर हॉस्पिटल एंड मेडिकल कॉलेज में छेड़छाड़ का मामला सामने आया था। MBBS का कोर्स कर रहीं 13 छात्राओं ने प्रोफेसर सलीम शेख पर शारीरिक शोषण और यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था।

घटना 31 जनवरी 2024 की थी लेकिन मामला धीरे-धीरे सामने आया। आरोप था कि सलीम शेख ने छात्राओं से वाइवा के दौरान छेड़छाड़ की। उस समय 2 छात्राओं ने सलीम के खिलाफ शिकायत दी थी। बाद में अन्य छात्राओं ने भी आकर कहा था कि सलीम शेख ने उनके साथ भी बदलूकी की थी।

इन आरोपों के बाद आखिरकार 22 फरवरी 2024 को असिस्टेंट प्रोफेसर सलीम शेख के खिलाफ पुलिस में शिकायत हुई थी। शिकायत पर 13 MBBS छात्राओं के हस्ताक्षर थे। इसके अलावा इस मामले में सलीम शेख के खिलाफ प्रदर्शन भी हुआ था। प्रदर्शनकारियों ने कहा था- “हम यह जगह संदेशखाली नहीं बनने देंगे।” सलीम शेख को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

गौरतलब है कि CM केजरीवाल इस समय जाँच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ED) की गिरफ्त में हैं। उन्हें दिल्ली शराब घोटाला मामले में गिरफ्तार किया गया है। उन्हें 21 मार्च, 2024 को गिरफ्तार किया गया था। उन्होंने अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ याचिका डाल रखी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -