Sunday, June 16, 2024
Homeराजनीति'AAP विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही बीजेपी': अरविंद केजरीवाल के दावे पर...

‘AAP विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही बीजेपी’: अरविंद केजरीवाल के दावे पर अब दिल्ली पुलिस ने माँगे सबूत, घर पहुँची क्राइम ब्रांच की टीम

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच आम आदमी पार्टी द्वारा बीजेपी पर AAP विधायकों को खरीदने की कोशिश के आरोप के सिलसिले में नोटिस देने पहुँची। दिल्ली पुलिस ने उनके उनके दावे के बारे में सबूत देने को कहा है।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच शुक्रवार (2 फरवरी 2024) को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर पहुँची। दरअसल, आम आदमी पार्टी (AAP) ने आरोप लगाया था कि बीजेपी (BJP) उसके विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है। इसी सिलसिले में दिल्ली पुलिस उन्हें नोटिस देने पहुँची थी। सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली पुलिस ने उनके दावे के बारे में सबूत देने को कहा है।

दरअसल, अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाए थे कि बीजेपी उनकी पार्टी के विधायकों को खरीदकर उनकी सरकार गिराने की कोशिश कर रही है। उनके इस दावे की जाँच के लिए दिल्ली पुलिस ने उनसे सबूत माँगे है, ताकि इस दावे को लेकर कार्रवाई की जा सके। वहीं, शराब घोटाले में ईडी ने अरविंद केजरीवाल को समन जारी किया था, लेकिन वे पूछताछ के लिए पेश नहीं हुए।

एएनआई ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि दिल्ली पुलिस की टीम अरविंद केजरीवाल के घर पहुँची। हालाँकि, आजतक ने दिल्ली के मुख्यमंत्री कार्यालय से जुड़े अधिकारियों के हवाले से दावा किया है कि क्राइम ब्रांच ने उन्हें नोटिस नहीं दिया, जबकि वहाँ मौजूद अधिकारी नोटिस लेने के लिए तैयार थी।

बता दें कि अरविंद केजरीवाल ने दावा किया कि उनके विधायकों को खरीदने की कोशिश की जा रही है। वह बीजेपी का जिक्र कर रहे थे। केजरीवाल का दावा है कि उनके 21 विधायकों को तोड़ने की योजना चल रही है। उसके साथ ही उनके सात विधायकों से संपर्क किया गया है।

अरविंद केजरीवाल ने एक्स पर लिखा था, “पिछले दिनों इन्होंने हमारे दिल्ली के 7 MLA से संपर्क कर कहा कि कुछ दिन बाद केजरीवाल को गिरफ्तार कर लेंगे। उसके बाद MLA को तोड़ेंगे। 21 MLA से बात हो गई है, औरों से भी बात कर रहे हैं। उसके बाद दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार गिरा देंगे। आप भी आ जाओ। 25 करोड़ रुपये देंगे और बीजेपी की टिकट से चुनाव लड़वा देंगे।’

केजरीवाल ने आगे लिखा, “हालाँकि उनका दावा है कि उन्होंने 21 MLA से संपर्क किया है लेकिन हमारी जानकारी के मुताबिक़ उन्होंने अभी तक 7 MLA को ही संपर्क किया है और सबने मना कर दिया। इसका मतलब किसी शराब घोटाले की जाँच के लिए मुझे गिरफ़्तार नहीं किया जा रहा बल्कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार गिराने के लिए षड्यंत्र कर रहे हैं। पिछले नौ सालों में हमारी सरकार गिराने के लिए इन्होंने कई षड्यंत्र किए। लेकिन इन्हें कोई सफलता नहीं मिली। भगवान ने और जनता ने हमेशा हमारा साथ दिया। हमारे सभी MLA भी मज़बूती से साथ हैं। इस बार भी ये लोग अपने नापाक इरादों में फेल होंगे।”

अरविंद केजरीवाल ने आगे लिखा, “ये लोग जानते हैं कि दिल्ली की जनता के लिए हमारी सरकार ने कितने काम किए हैं। इनकी पैदा की गई तमाम अड़चनों के बावजूद हमने इतने काम किए हैं। दिल्ली की जनता ‘आप’ से बेइंतहा प्यार करती है। इसलिए चुनावों में ‘आप’ को हराना इनके बस की बात नहीं। तो एक फ़र्ज़ी शराब घोटाले के बहाने गिरफ़्तार करके सरकार गिराना चाहते हैं।”

इस मामले में दिल्ली सरकार की मंत्री आतिशी ने पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस करके ये आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि आम आदमी पार्टी के विधायकों को 25 करोड़ रुपए बीजेपी दे रही है। आम आदमी पार्टी उचित समय पर इस बारे में ऑडियो क्लिप जारी करेगी। सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली पुलिस अरविंद केजरीवाल के साथ ही आतिशी को भी नोटिस दे सकती है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गलत वीडियो डालने वाले अब नहीं बचेंगे: संसद के अगले सत्र में ‘डिजिटल इंडिया बिल’ ला सकती है मोदी सरकार, डीपफेक पर लगाम की...

नरेंद्र मोदी सरकार आगामी संसद सत्र में डीपफेक वीडियो और यूट्यूब कंटेंट को लेकर डिजिटल इंडिया बिल के नाम से पेश किया जाएगा।

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -