Friday, August 19, 2022
Homeराजनीति'किसान आंदोलन से ₹1,00,000 करोड़ से ज्यादा का नुकसान': यूपी-उत्तराखंड में चक्का जाम से...

‘किसान आंदोलन से ₹1,00,000 करोड़ से ज्यादा का नुकसान’: यूपी-उत्तराखंड में चक्का जाम से टिकैत पीछे हटे

इस बीच कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने एक बयान में किसान आंदोलन के कारण होने वाले नुकसान के बारे में बताया है। CAIT के अनुसार, 70 दिनों के किसान आंदोलन से व्यापार में करीब 1 लाख करोड़ का नुकसान हो चुका है।

दिल्ली की सीमाओं पर ढाई महीने से चल रहे किसान आंदोलन के बीच संयुक्त किसान मोर्चा ने शनिवार (6 फरवरी 2021) को पूरे देश में 3 घंटे के लिए चक्का जाम का ऐलान किया है। इस बीच केवल दो राज्यों में चक्का जाम नहीं होगा। ये 2 राज्य- उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड हैं।

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया, “उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में चक्का जाम नहीं है, बाकी दिल्ली के बाहर पूरे देश में रोड ब्लॉक की जाएँगी। इसका कारण है कि दिल्ली में उन लोगों को कभी भी जरूरत पड़ने पर बुलाया जा सकता है।”

6 फरवरी को किसानों द्वारा किए जाने वाले चक्का जाम को कॉन्ग्रेस ने अपना समर्थन दिया है। वहीं हरियाणा में राज्य सरकार ने स्थिति को देखते हुए हर तरह के इंटरनेट को बंद कर दिया है। सरकार ने वॉयस कॉल को छोड़कर इंटरनेट सेवाओं (2जी/3जी/4जी/सीडीएमए/जीपीआरएस), एसएमएस सेवाओं (केवल ब्लक एसएमएस) और मोबाइल नेटवर्क पर दी जाने वाली सभी डोंगल सेवाओं को बंद करने की अवधि 6 फरवरी, 2021 शाम 5 बजे तक के लिए बढ़ा दी है।

इस बीच कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने एक बयान में किसान आंदोलन के कारण होने वाले नुकसान के बारे में बताया है। CAIT के अनुसार, 70 दिनों के किसान आंदोलन से व्यापार में 1 लाख करोड़ से ज्यादा का नुकसान हो चुका है। इसमें से 70,000 Cr माल से संबंधित है जो दूसरे राज्यों से दिल्ली में प्रवेश करने वाले थे। वही 40 हजार करोड़ बाहर जाने वाले थे।

संघ के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने बताया कि आंदोलन से मुख्य रूप से दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के थोक बाजार बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। व्यावसायिक नुकसान झेलने वाली प्रमुख वस्तुओं में FMCG उत्पाद, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, इलेक्ट्रॉनिक्स, आयरन एंड स्टील, टूल्स, पाइप एंड पाइप फिटिंग्स, मशीनरी इक्विपमेंट्स एंड इम्प्लीमेंट्स, मोटर्स एंड पंप्स, बिल्डर हार्डवेयर, केमिकल्स, फर्नीचर और फिक्स्चर, लकड़ी और प्लाईवुड, खिलौने, कपड़े, रेडीमेड गारमेंट्स, हैंडलूम आदि शामिल हैं।

CAIT के महासचिव ने दिल्ली उपराज्यपाल अनिल बैजल को भी पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने 26 जनवरी को किसानों का हिंसक रवैया याद दिलाते हुए अपील की है कि सुरक्षा सुनिश्चित की जाए कि दोबारा वह सब दोहराने की गुंजाइश ही न रहे।

गौरतलब है कि गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसानों ने दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालने की जिद्द की थी। जब बहुत समझाने पर वह नहीं माने तो उन्हें तय रूट बताकर अनुमति दी गई। लेकिन गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में कथित प्रदर्शनकारियों ने जगह-जगह हिंसा की। लाल किले पर धार्मिक झंडा फहरा दिया। इन घटनाओं में 300 से अधिक पुलिस वाले घायल हुए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कम बुद्धि वाला व्यक्ति भी समझ जाएगा’: पत्रकार ने कोयला आयात को लेकर फैलाया झूठ, बिजली के दाम बढ़ने का दिखाया डर तो मंत्रालय...

'बिजनेस स्टैंडर्ड' की सहायक संपादक ने कोयला आयात को लेकर झूठ फैलाया। बिजली के दाम बढ़ने का दिखाया डर। ऊर्जा मंत्रालय ने लगाई फटकार।

CBI की FIR में 15 नाम, टॉप पर मनीष सिसोदिया: सुबह से दिल्ली डिप्टी CM के घर जाँच एजेंसी, कार की भी तलाशी-मोबाइल और...

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर CBI ने रेड डाला है। अपने FIR में एजेेंसी ने सिसोदिया को शराब घोटाले का मुख्य आरोपित बनाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
215,315FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe