Monday, May 20, 2024
Homeराजनीति'गाँधी वाला हिंदू धर्म और गोडसे वाला हिंदुत्व' : सलमान खुर्शीद, राशिद अल्वी, राहुल...

‘गाँधी वाला हिंदू धर्म और गोडसे वाला हिंदुत्व’ : सलमान खुर्शीद, राशिद अल्वी, राहुल गाँधी के बाद कॉन्ग्रेस ने दी नई थ्योरी

गौरव वल्लभ ने कहा, "हिंदू धर्म के उपदेशक महात्मा गाँधी हैं और हिंदुत्व का गोडसे है। इन दोनों के चरित्र में जो अंतर है, वही अंतर हिंदू और हिंदुत्व में है। ये दोनों अपनी-अपनी विचारधारा के शिखर पुरुष हैं...जो गाँधी है वह हिंदू है और जो गोडसे है वह हिंदुत्व है।"

कॉन्ग्रेस पार्टी लगातार इस बात को साबित करने में जुटी है कि हिंदू और हिंदुत्व दो अलग-अलग चीजें होती हैं। इसी क्रम में सलमान खुर्शीद और राहुल गाँधी के बाद अब कॉन्ग्रेस नेता गौरव वल्लभ ने अपना बयान दिया है। वल्लभ ने गाँधी और गोडसे का उदाहरण देकर कहा कि पिछले 200 साल में जिस व्यक्ति ने सबसे अच्छे से हिंदू धर्म को अनुसरण किया वो महात्मा गाँधी हैं। वल्लभ कहते हैं, जिस व्यवहार पर गाँधी ने अमल किया को वो हिंदू धर्म है और जिस व्यवहार पर गोडसे चले वह हिंदुत्व है।

वल्लभ ने कहा, “गोडसे ने गाँधी को क्यों मारा? हिंदुत्व ने हिंदू धर्म को मारने की कोशिश क्यों की? हिंदू धर्म तो सर्वधर्म समभाव, वसुधैव कुटुम्बकम की ही बात करता है, सबको अपनाने की बात करता है जिसमें जो अच्छा लगा उसे ग्रहण करने की बात करता है। लेकिन गोडसे का हिंदुत्व ऐसा नहीं है उसका मतलब यही है कि जो सर्वधर्म समभाव, वसुधैव कुटुम्बकम की बात कर रहा है उसे गोली मारो।”

वह बोले, “हिंदू धर्म के उपदेशक महात्मा गाँधी हैं और हिंदुत्व का गोडसे है। इन दोनों के चरित्र में जो अंतर है, वही अंतर हिंदू और हिंदुत्व में है। ये दोनों अपनी-अपनी विचारधारा के शिखर पुरुष हैं…जो गाँधी है वह हिंदू है और जो गोडसे है वह हिंदुत्व है।” 

कॉन्ग्रेस नेता ने कहा, “अब देश को तय करना है कि उसे गाँधी के बताए हुए अहिंसा के मार्ग पर चलना है या फिर गोडसे के बताए हिंसा के मार्ग पर चलना है।” खुर्शीद के बयान पर वल्लभ ने कहा कि बीजेपी को बताना चाहिए कि क्या वह लालकृष्ण आडवाणी की इस बात से सहमत हैं कि जिन्ना सबसे बड़े धर्मनिरपेक्ष थे? उन्होंने कहा कि भाजपा को आडवाणी, जसवंत और एस एम गोलवलकर की पुस्तकों को लेकर जवाब देना चाहिए।

यहाँ बता दें कि कॉन्ग्रेस नेता गौरव वल्लभ ने हिंदू और हिंदुत्व पर बात करने के अलावा कंगना रनौत के ख़िलाफ़ राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज करने की बात कही। उन्होंने कहा कि कंगना से सारे राष्ट्रीय पुरस्कार वापस ले लिए जाने चाहिए।

वल्लभ ने कहा, “इस सरकारी अदाकारा के बयान के दो कारण हो सकते हैं। एक कारण यह है कि उन्हें लिखकर दिया जा रहा है कि मुख्य मुद्दों पर से ध्यान भटकाओ। दूसरा कारण यह हो सकता है कि महात्मा गाँधी को अपमानित किया जाए और गोडसेवादी ताकतों को आगे लाया जाए।”

उल्लेखनीय है कि इससे पहले राशिद अल्वी, सलमान खुर्शी और राहुल गाँधी ने हिंदुत्व पर अपना बयान दिया था। राहुल ने कहा था– बीजेपी हिंदुत्व की बात करती है। हिंदू और हिंदुत्व में क्या फर्क है, क्या ये एक हो सकते हैं? अगर हैं तो इनका नाम क्यों एक जैसा नहीं है। ये सच में अलग हैं। क्या हिंदू धर्म में ये है कि सिख और मुस्लिम को पीटा जाए? हिंदुत्व में ये है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत में 1300 आइलैंड्स, नए सिंगापुर बनाने की तरफ बढ़ रहा देश… NDTV से इंटरव्यू में बोले PM मोदी – जमीन से जुड़ कर...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आँकड़े गिनाते हुए जिक्र किया कि 2014 के पहले कुछ सौ स्टार्टअप्स थे, आज सवा लाख स्टार्टअप्स हैं, 100 यूनिकॉर्न्स हैं। उन्होंने PLFS के डेटा का जिक्र करते हुए कहा कि बेरोजगारी आधी हो गई है, 6-7 साल में 6 करोड़ नई नौकरियाँ सृजित हुई हैं।

कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने ही अध्यक्ष के चेहरे पर पोती स्याही, लिख दिया ‘TMC का एजेंट’: अधीर रंजन चौधरी को फटकार लगाने के बाद...

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस का गठबंधन ममता बनर्जी के धुर विरोधी वामदलों से है। केरल में कॉन्ग्रेस पार्टी इन्हीं वामदलों के साथ लड़ रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -