Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीति'डीके शिवकुमार 10-12% लेते हैं घूस': कॉन्ग्रेस नेता ने खोली पोल, कहा- 'ये महाघोटाला......

‘डीके शिवकुमार 10-12% लेते हैं घूस’: कॉन्ग्रेस नेता ने खोली पोल, कहा- ‘ये महाघोटाला… जितना खोदोगे उतना निकलेगा, वीडियो वायरल

इस वीडियो के सामने आने के बाद प्रदेश कॉन्ग्रेस कमेटी ने वीएस उग्रप्पा को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है तो वहीं सलीम को 6 साल के लिए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। इस वीडियो के वायरल होने के बाद बीजेपी भी उनपर हमलावर हो गई है।

कॉन्ग्रेस पार्टी की लूट की कहानी बयाँ करता एक वीडियो सामने आया है, जिसके बाद पार्टी के अंदर हड़कंप मच गया है। यह वीडियो कर्नाटक कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डीके शिव कुमार को लेकर है। वीडियो में कॉन्ग्रेस के ही दो नेता आपस में बात कर रहे हैं, जिसमें मीडिया कोऑर्डिनेटर सली को यह कहते सुना जा सकता है कि डीके शिवकुमार 10-12 प्रतिशत घूस लेते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, इस वीडियो के सामने आने के बाद प्रदेश कॉन्ग्रेस कमेटी ने वीएस उग्रप्पा को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है तो वहीं सलीम को 6 साल के लिए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। बहरहाल इस वीडियो के वायरल होने के बाद बीजेपी भी उनपर हमलावर हो गई है।

क्या है वीडियो में

कॉन्ग्रेस के पूर्व लोकसभा सांसद वीएस उग्रप्पा और पार्टी के मीडिया कोऑर्डिनेटर सलीम अहमद आपस में बातें कर रहे होते हैं। इसमें सलीम अहमद उग्रप्पा से आरोप लगाते हुए कहते हैं कि डीके शिवकुमार 10-12 फीसदी का घूस लेते हैं। इससे उनके सहयोगियों ने करोंड़ों रुपए की संपत्ति खरीदी है। सलीम आगे कहते हैं कि पहले शिवकुमार केवल 6-8 प्रतिशत ही लेते थे, लेकिन अब उन्होंने 10-20 फीसदी लेना शुरू कर दिया है। उन्होंने इसे महाघोटाला करार देते हुए कहा कि जितना खोदोगे उतना ही निकलेगा। डीके शिवकुमार के सहयोगी मुलगुंड ने ही 50-100 करोड़ रुपए कमा लिए हैं।

सलीम ने शिवकुमार पर शराब पीने का आरोप लगाते हुए कहा कि वो बात करते हुए हकलाते हैं। मुझे शक है कि वो शराब पीकर आते हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले दोनों नेताओं की रिकॉर्ड इस बातचीत पर फिलहाल डीके शिवकुमार ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि अनुशासन समिति इस मामले में निर्णय लेगी। वहीं कॉन्ग्रेस ने इस मामले में कहा है कि सलीम भाजपा द्वारा लगाए गए आरोपों के बारे में बातें कर रहे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -