Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिबाकी देशों की तुलना में भारत में ज्‍यादा धार्मिक आजादी, CAA भारत का आंतरिक...

बाकी देशों की तुलना में भारत में ज्‍यादा धार्मिक आजादी, CAA भारत का आंतरिक मसला: ट्रम्प

"हमने धार्मिक स्वतंत्रता के बारे में बात की थी। पीएम ने कहा कि वह चाहते हैं कि लोगों को धार्मिक स्वतंत्रता मिले। उन्होंने इस पर वास्तव में कड़ी मेहनत की है। मैंने व्यक्तिगत हमलों के बारे में सुना, लेकिन मैंने इसकी चर्चा नहीं की। यह भारत पर निर्भर है। बाकी देशों की तुलना में भारत में ज्‍यादा धार्मिक आजादी है।"

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (फरवरी 25, 2020) को दिल्ली में संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित किया। इस दौरान उन्होंने कई विषयों पर बातचीत की। यहाँ तक कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के सवाल पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रधानमंत्री मोदी की जमकर तारीफ की। उन्होंने हुए कहा कि धार्मिक आजादी पर भारत अच्छा काम कर रहा है।

संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों ने जब डोनाल्ड ट्रम्प से दिल्ली हिंसा पर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि पीएम मोदी से इस मसले पर कोई बात नहीं हुई। ट्रम्प ने कहा कि बाकी देशों के मुकाबले भारत ज्यादा धार्मिक है, इस बारे में पीएम मोदी से बातचीत भी हुई है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि नरेंद्र मोदी सबकी धार्मिक स्वतंत्रता चाहते हैं।

दरअसल, रविवार से भड़की हुई उत्तर पूर्वी दिल्ली और सीएए को लेकर हिंसा पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रम्प ने कहा- “हमने धार्मिक स्वतंत्रता के बारे में बात की थी। पीएम ने कहा कि वह चाहते हैं कि लोगों को धार्मिक स्वतंत्रता मिले। उन्होंने इस पर वास्तव में कड़ी मेहनत की है। मैंने व्यक्तिगत हमलों के बारे में सुना, लेकिन मैंने इसकी चर्चा नहीं की। यह भारत पर निर्भर है। बाकी देशों की तुलना में भारत में ज्‍यादा धार्मिक आजादी है। धार्मिक आजादी की दिशा में भारत अच्‍छा काम कर रहा है।”

‘भारत ने मेरा शानदार स्वागत किया गया’

डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रेस को सम्बोधित करते हुए कहा कि भारत में जैसा स्वागत उनका किया गया है, वैसा आज तक किसी अमेरिकी शख्स का नहीं हुआ है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस समय भारत-अमेरिका के रिश्ते सबसे बेहतरीन हैं और दोनों देशों के द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा हुई है। उन्होंने कहा- “हमने कई मुद्दों पर विचार किया है, हम भारत के साथ आपसी संबंधों को बढ़ावा देना चाहते हैं। हम पूरे विश्व में शांति चाहते हैं।”

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा, “हमें बहुत ही आनंद आया। हमारी शानदार बैठकें हुईं … यह एक जबरदस्त देश है। मुझे लगता है कि उन्होंने हमें जितना पसंद किया है, उससे कहीं ज्यादा वे हमें पसंद करते हैं। प्रधानमंत्री और मेरे बीच एक गहरा रिश्ता है।”  

‘रेडि‍कल इस्‍लामिक आतंकवाद को खत्‍म करने के लिए प्रयासरत’

कट्टरपंथी आतंकवाद के विषय पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रम्प ने कहा, “आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए हमने कई कदम उठाए। रेडि‍कल इस्‍लामिक आतंकवाद को खत्‍म करने के लिए प्रयासरत हैं। हम आतंकवाद को रोकने के लिए सौ फीसदी काम करना चाहते हैं। इस्‍लामिक आतंकवाद पर नकेल लगाने की दिशा में काम हो रहा है। हम पाकिस्‍तान पर दबाव बनाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।”

पीएम मोदी और ट्रम्प की बातचीत से पहले भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि भारतीय पक्ष ने अमेरिका के सामने H1 B वीजा का मुद्दा उठाया और आईटी क्षेत्र में भारतीय पेशेवरों के योगदान पर प्रकाश डाला गया। इस दौरान विशेष रूप से इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के भीतर वैश्विक संदर्भ में कनेक्टिविटी पर चर्चा की गई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -