Sunday, July 25, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस नेता नटवर सिंह के सहयोगी को UPA काल में हुए रक्षा सौदे में...

कॉन्ग्रेस नेता नटवर सिंह के सहयोगी को UPA काल में हुए रक्षा सौदे में मिली थी 25 करोड़ की रिश्वत, बेटा रह चुका है कॉन्ग्रेस MLA

ब्राजील विमान निर्माता कम्पनी एम्ब्रेयर एसए ने 210 मिलियन डॉलर में भारतीय वायु सेना को एयरक्राफ्ट की आपूर्ति का कॉन्ट्रेक्ट हासिल किया और इस कॉन्ट्रेक्ट को अपने पक्ष में प्रभावित करने के लिए विपिन खन्ना नाम के एक बिचौलिए को 5.76 मिलियन डॉलर का कमीशन दिया। भारत के रक्षा खरीद नियमों के अनुसार, रक्षा सौदों में बिचौलियों को रोकने के कठोर प्रावधान हैं।

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने UPA के कार्यकाल के दौरान एम्ब्रेयर (Embraer) विमान की खरीद में कथित रिश्वतखोरी के संबंध में रक्षा डीलर विपिन खन्ना के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के सम्बन्ध में एक आरोप पत्र दायर किया है, जिसमें दावा किया गया है कि उन्हें रिश्वत के रूप में 25 करोड़ रूपए मिले। विपिन खन्ना मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली पहली यूपीए सरकार में विदेश मंत्री और कॉन्ग्रेस के कद्दावर नेता कुँवर नटवर सिंह के करीबी सहयोगी हैं।

ब्राजील की विमान निर्माता कंपनी एम्ब्रेयर से विमान खरीद यूपीए के तहत किया गया तीसरा रक्षा सौदा है, जिसकी जाँच परवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा की जा रही है। एंटी मनी लॉन्ड्रिंग एजेंसी भी इटली से अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टरों और स्विट्जरलैंड से 75 पिलाटस विमानों की खरीद में कथित तौर पर घूसखोरी की जाँच कर रही है। एम्ब्रेयर खरीद मामले में, ईडी ने भारतीय एजेंटों को मिली 26 करोड़ रूपए की रिश्वत के कथित लेनदेन के मिलने के बाद 16 करोड़ रूपए की संपत्ति अटैच की है।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2008 में, भारत ने DRDO के एयरबोर्न रडार सिस्टम के लिए ब्राजील के एम्ब्रेयर से तीन विमान खरीदे थे। ब्राजील के निर्माता पर 210 मिलियन डॉलर के सौदे में 5 मिलियन डॉलर से अधिक का कमीशन देने का आरोप है। कथित अदायगी पंजाब के संगरूर के एक प्रमुख चावल निर्यातक, केआरबीएल के खातों का इस्तेमाल कर प्राप्त की गई थी, जहाँ से रक्षा डीलर विपिन खन्ना का बेटा कभी कॉन्ग्रेस का विधायक चुना गया था। केआरबीएल लिमिटेड (KRBL Ltd) इंडिया गेट बासमती चावल की निर्माता कंपनी है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, ईडी ने अपनी चार्जशीट में दावा किया है कि धनशोधन निरोधक अधिनियम (पीएमएलए) के तहत जाँच से पता चला है कि ब्राजील विमान निर्माता कम्पनी एम्ब्रेयर एसए ने 210 मिलियन डॉलर में भारतीय वायु सेना को एयरक्राफ्ट की आपूर्ति का कॉन्ट्रेक्ट हासिल किया और इस कॉन्ट्रेक्ट को अपने पक्ष में प्रभावित करने के लिए विपिन खन्ना नाम के एक बिचौलिए को 5.76 मिलियन डॉलर का कमीशन दिया।

भारत के रक्षा खरीद नियमों के अनुसार, रक्षा सौदों में बिचौलियों को रोकने के कठोर प्रावधान हैं। ब्राजील के एक समाचार पत्र की रिपोर्ट में आरोप लगाया गया था कि कंपनी (एम्ब्रेयर) ने सऊदी अरब और भारत में सौदों के लिए बिचौलियों की सहायता ली थीं।

प्रवर्तन निदेशालय ने स्पष्ट किया कि रिश्वत को कथित रूप से एम्ब्रेयर ने अपनी सहायक कंपनियों के माध्यम से इंटरदेव एविएशन सर्विसेज पीटीई लिमिटेड (आईएएसपीएल), सिंगापुर को एक ‘फर्जी समझौते’ के रूप में भेजा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अपनी ही कब्र खोद ली’: टाइम्स ऑफ इंडिया ने टोक्यो ओलंपिक में भारतीय तीरंदाजी टीम की हार का उड़ाया मजाक

दक्षिण कोरिया के किम जे ड्योक और आन सन से हारने के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया ने दावा किया कि भारतीय तीरंदाजी टीम औसत से भी कम थी और उन्होंने विरोधियों को थाली में सजाकर जीत सौंप दी।

‘सचिन पायलट को CM बनाओ’: कॉन्ग्रेस के बड़े नेताओं के सामने जम कर हंगामा, मंत्रिमंडल विस्तार से पहले बुलाई थी बैठक

राजस्थान में मंत्रिमंडल में फेरबदल से पहले ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट के समर्थकों के बीच बहस और हंगामेबाजी हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,128FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe