Monday, November 29, 2021
Homeराजनीतिलामडिंग जंगल को हिमंता सरकार ने कराया अतिक्रमण मुक्त: तैनात किए 1000 जवान, गोरुखुटी...

लामडिंग जंगल को हिमंता सरकार ने कराया अतिक्रमण मुक्त: तैनात किए 1000 जवान, गोरुखुटी में अभियान के दौरान हुई थी हिंसा

23 सितंबर को दारांग जिले के गोरुखुटी इलाके में भी अतिक्रमण के खिलाफ चलाए गए अभियान के दौरान पुलिस पर गाँव वालों ने हमला कर दिया था। इस हमले में 12 साल का एक किशोर सहित दो लोग मारे गए थे और 20 से अधिक घायल हो गए थे।

असम के होजई जिले के लामडिंग रिजर्व फॉरेस्ट में अवैध रूप से रहने वाले लोगों को हटाने का काम शांतिपूर्ण समाप्त हो गया है। इस संबंध में असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व शर्मा ने बताया कि यहाँ रहने वाले सभी लोगों को घर वापस भेज दिया गया है और अब यह जंगल अतिक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो गया है। अतिक्रमण हटाने के अभियान में राज्य सरकार ने 1,000 पुलिस औ केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों को तैनात किया था।

मुख्यमंत्री ने बताया कि अतिक्रमण हटाने के दौरान किसी तरह की अप्रिय घटना नहीं हुई और यह अभियान शांत से निपट गया। वहीं, होजई के उपायुक्त अनुपम चौधरी ने कहा कि बेदखली अभियान सोमवार को शांति से संपन्न हो गया, क्योंकि वहाँ के लोगों को गुवाहाटी हाईकोर्ट के आदेश के बारे में बताया गया था। जिला प्रशासन द्वारा की गई काउंसलिंग के बाद अधिकांश लोग पिछले कुछ दिनों में वहाँ से चले गए थे।

गौरतलब है कि लामडिंग वन क्षेत्र के 22,403 हेक्टेयर क्षेत्र में से 1,410 हेक्टेयर भूमि पर अवैध कब्जा था। गुवाहाटी हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को इस अतिक्रमण को हटाने के लिए कहा था। होजई के डिवीजनल फॉरेस्ट ऑफिसर गौनादीप दास के अनुसार, 1,410 हेक्टेयर भूमि पर 670 परिवार के 3,000 लोग रह रहे थे। वे लोग यहाँ खेती व व्यवसाय कर रहे थे।

बता दें कि करीब डेढ़ महीने पहले यानी 23 सितंबर को दारांग जिले के गोरुखुटी इलाके में भी अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलाया गया था। इस अभियान के दौरान हिंसा भड़क उठी थी। जगह खाली कराने गई पुलिस पर गाँव वालों ने हमला कर दिया था। इस हमले में दो लोग मारे गए थे और 20 से अधिक घायल हो गए थे। मारे गए लोगों में 12 साल का एक किशोर भी शामिल था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe