Tuesday, July 27, 2021
HomeराजनीतिUP के बाबूराम यादव कैसे बने बाबूलाल गौर: मध्य प्रदेश के पूर्व CM का...

UP के बाबूराम यादव कैसे बने बाबूलाल गौर: मध्य प्रदेश के पूर्व CM का निधन

1946 से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रहे गौर 1974 में जनता पार्टी के समर्थन से पहली बार निर्दलीय विधायक बने थे।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का बुधवार (अगस्त 20, 2019) को भोपाल में ह्रदय गति रुकने के कारण निधन हो गया। वह पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनके निधन का समाचार सुनते ही अस्पताल के बाहर भाजपा के कार्यकर्ता जुटने लगे। बाबूलाल गौर पिछले 15 दिनों से नर्मदा अस्पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे। उनकी किडनी भी पूरी तरह काम नहीं कर रही थी। हाल ही में दिल्ली में भी उनका इलाज हुआ था। 1946 से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रहे गौर 1974 में जनता पार्टी के समर्थन से पहली बार निर्दलीय विधायक बने थे।

दिग्विजय सिंह के दूसरे मुख्यमंत्रित्व काल में बाबूलाल गौर मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे थे और राज्य भाजपा के प्रमुख के रूप में वे अपनी पार्टी का अहम चेहरा बने रहे। बाद में उमा भारती जब मुख्यमंत्री बनीं तो गौर ने कई अहम मंत्रालय संभाला। वो मुख्यमंत्री भी काफ़ी कठिन परिस्थितियों में बने थे। 1994 स्वतंत्रता दिवस के दौरान कर्नाटक के हुबली में स्थित ईदगाह मैदान में उमा भारती ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया था। उनके ख़िलाफ़ अदालत में मामला दर्ज किया गया था। बाद में कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार ने यह मामला फिर से खोल दिया, जिस कारण उमा भारती ने इस्तीफा दिया और गौर मुख्यमंत्री बने।

यह भी जानने लायक बात है कि बाबूलाल गौर का असली नाम बाबूराम यादव था और उनका जन्म उत्तर प्रदेश में हुआ था। एक बार स्कूल में एक शिक्षक ने कहा कि जो भी लड़का उनकी बात ध्यान से सुनेगा, उसके नाम में ‘गौर’ लगा दिया जाएगा। बाबूराम ने शिक्षक के सवालों को ध्यान से सुन कर उनका जवाब दे दिया और शिक्षक ने उनका नाम बाबूराम गौर रख दिया क्योंकि उन्होंने शिक्षक की बात ‘गौर’ से सुनी थी। इसके बाद धीरे-धीरे लोग
बाबूराम की जगह बाबूलाल कहने लगे। बाद में उन्होंने मध्य प्रदेश को अपनी राजनीतिक कर्मभूमि बनाया। उनके निधन के बाद पीएम मोदी और केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह समेत तमाम नेताओं ने शोक जताया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe