Monday, August 15, 2022
Homeराजनीतिफारूक अब्दुल्ला ने फिर पाकिस्तान से बातचीत की वकालत की, तिरंगे से बिफरी महबूबा...

फारूक अब्दुल्ला ने फिर पाकिस्तान से बातचीत की वकालत की, तिरंगे से बिफरी महबूबा ने कहा – हमारे घरों में घुस कर लगा रहे झंडे

लाल बाजार में बलिदान हुए पुलिसकर्मी को लेकर अब्दुल्ला ने 'क्रिया की प्रतिक्रिया' की ओर इशारा किया। उन्होंने कहा कि पुलिसवाले के बेटे को आर्मी ने मारा था और अब उसके बाप को 'मिलिटेंट' ने मार दिया।

फारूक अब्दुल्ला या महबूबा मुफ्ती का पाकिस्तान प्रेम जगजाहिर है, जो कि गाहे-बगाहे सामने आ ही जाता है। इसी क्रम में नेशनल कॉन्फ्रेंस के मुखिया फारूक अब्दुल्ला ने एक बार फिर से पाकिस्तान का राग अलापा है। उन्होंने (बुधवार, 13 जुलाई 2022) कहा कि कश्मीर में शांति की स्थापना के लिए भारत को पाकिस्तान से बातचीत करनी चाहिए।

फारूक अब्दुल्ला का दावा है कि घाटी में आतंकवाद का खात्मा करने के लिए पाकिस्तान के साथ बातचीत करनी होगी। इसके लिए कश्मीर के लोगों का दिल जीतना होगा। उन्होंने दावा किया कि जब तक इस मुद्दे का समाधान नहीं ढूँढा जाएगा, तब तक कश्मीर के हालात सामान्य नहीं होंगे और हालात सामान्य नहीं होंगे। लाल बाजार में बलिदान हुए पुलिसकर्मी को लेकर अब्दुल्ला ने ‘क्रिया की प्रतिक्रिया’ की ओर इशारा किया। उन्होंने कहा कि पुलिसवाले के बेटे को आर्मी ने मारा था और अब उसके बाप को ‘मिलिटेंट’ ने मार दिया।

उल्लेखनीय है कि अप्रैल 2020 में मुश्ताक अहमद का आतंकी बेटा सेना के साथ मुठभेड़ में ढेर कर दिया गया था। नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता के मुताबिक, यहाँ पता ही नहीं चलता कि कौन मारने वाला है और कौन बचाने वाला। हालाँकि, उन्होंने पीड़ित परिवार को मुआवजा देने के सरकार के फैसले का समर्थन किया। इसके साथ ही अब्दुल्ला जनसंख्या नियंत्रण पर ठोस नीति बनाने पर जोर दिया।

महबूबा मुफ्ती का भी पाकिस्तान प्रेम जागा

इस बीच एक बार फिर से महबूबा मुफ्ती ने भी पाकिस्तान का राग अलापा है। उन्होंने केंद्र सरकार के हर घर तिरंगा अभियान की आलोचना की। भाजपा पर निशाना साधते हुए पीडीपी प्रमुख ने कहा, “हम मुस्लिम बहुल राज्य हैं। हमने पाकिस्तान के साथ जाने से मना कर हिंदुस्तान में रहना स्वीकार किया। हमने इस मुल्क का झंडा कबूल किया और उसके साथ अपना झंडा मिलाया। हम दोनों झंडों को सलाम करते रहे। लेकिन, आज हमारे घरों में घुसकर झंडे लगा रहे हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

₹180 करोड़ की फिल्म, 4 दिन में बस ₹38 करोड़: लाल सिंह चड्ढा के फ्लॉप होते ही सदमे में आमिर खान, डिस्ट्रीब्यूटर्स ने माँगा...

लाल सिंह चड्ढा की बॉक्स ऑफिस पर भद्द पिटने के बाद आमिर खान सदमे में चले गए हैं। वहीं डिस्ट्रीब्यूटर्स ने भी मेकर्स से मुआवजे की माँग शुरू कर दी है।

वो हिंदुस्तानी जो अभी भी नहीं हैं आजाद: PoJK के लोग देख रहे आशाभरी नजरों से भारत की ओर, हिंदू-सिखों का यहाँ हुआ था...

विभाजन की विभीषिका को भी भुलाया नहीं जा सकता। स्वतंत्रता-प्राप्ति का मूल्य समझकर और स्वतन्त्रता का मूल्य चुकाकर ही हम अपनी स्वतंत्रता को सुरक्षित और संरक्षित कर सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,977FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe