Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिशरद पवार के खिलाफ टिप्पणी करने पर सोशल मीडिया यूजर्स पर दर्ज हुआ FIR:...

शरद पवार के खिलाफ टिप्पणी करने पर सोशल मीडिया यूजर्स पर दर्ज हुआ FIR: लोगों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस पर लिए थे मजे

“ट्वीट और रिप्लाय दोनों के कंटेंट आपत्तिजनक प्रकृति की है। हमने इन अकाउंट्स की जाँच शुरू की है।" FIR भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत शत्रुता, घृणा या दुर्भावना पैदा करने या बढ़ावा देने से संबंधित थी।

पुणे ग्रामीण पुलिस ने राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी (NCP) के प्रमुख शरद पवार के बारे में एक कथित आपत्तिजनक ट्वीट के संबंध में अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।

एनसीपी के एक अधिकारी अभिजीत भानुदास जाधव द्वारा दर्ज शिकायत के आधार पर बारामती तालुका पुलिस स्टेशन में  एफआईआर दर्ज की गई है। मामले के विवरण के बारे में एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि शिकायतकर्ता ने शरद पवार की हालिया प्रेस कॉन्फ्रेंस और उस ट्वीट के जवाब के बाद एक यूजर द्वारा पोस्ट किए गए आपत्तिजनक ट्वीट को लेकर पुलिस स्टेशन का दरवाजा खटखटाया था।

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक अधिकारी ने कहा, “ट्वीट और रिप्लाय दोनों के कंटेंट आपत्तिजनक प्रकृति की है। हमने इन अकाउंट्स की जाँच शुरू की है।” FIR भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत शत्रुता, घृणा या दुर्भावना पैदा करने या बढ़ावा देने से संबंधित थी।

भाजपा नेता सुरेश नखुआ के अनुसार, सोशल मीडिया यूजर वेदश्री उन लोगों में से एक हैं जिनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। वेदश्री ने स्तंभकार शेफाली वैद्य द्वारा पोस्ट किए गए एक ट्वीट को उद्धृत किया था जिसमें उन्होंने शरद पवार का मजाक उड़ाया था। बता दें कि प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जब पत्रकारों ने शरद पवार से अनिल देशमुख के अस्पताल में रहने के दौरान संवाददाता सम्मेलन को लेकर सवाल किया था तो उनकी बोलती बंद हो गई थी।

वेदश्री ने ट्वीट किया था, “बौखलाहट तो देखो ऐसी मानो गरम तवे पर रख दिया हो। दादा मजौ आ गयो।” बताया जा रहा है कि लेखक शेफाली वैद्य के खिलाफ भी एनसीपी के अधिकारी ने शिकायत दर्ज कराई हो। हालाँकि अभी यह साफ नहीं है कि शिकायत में उनका नाम है या नहीं। बता दें कि शेफाली वैद्य महा विकास अघाडी सरकार की मुखर आलोचक रही हैं।

वेदश्री का ट्वीट

शरद पवार की प्रेस कॉन्फ्रेंस के वीडियो का हवाला देते हुए जहाँ उन्होंने अनिल देशमुख के बारे में परस्पर विरोधी तथ्यों का सामना किया, शेफाली वैद्य ने एक ट्वीट पोस्ट कर पूछा था कि वह कितना झूठ बोल रहे हैं।

बता दें कि सोमवार (मार्च 22, 2021) को पवार ने दावा किया कि देशमुख 15 से 27 फरवरी तक नागपुर में थे। पवार ने इसके जरिए यह साबित करने की कोशिश की थी कि फिर इस दौरान मुंबई में वाजे और देशमुख की मुलाकात कैसे संभव है। लेकिन, इस दावे को देशमुख ने ही गलत साबित कर दिया है। उन्होंने बताया है कि वे एक प्राइवेट प्लेन से नागपुर से मुंबई गए थे।

ट्विटर पर एक वीडियो जारी कर देशमुख ने कहा है कि नागपुर में 15 फरवरी को उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिली थी। इसके तत्काल बाद आवश्यक अनुमति और सरकारी गाइडलाइन का पालन करते हुए होम क्वारंटाइन के लिए वे मुंबई निकल गए। उनका दावा है कि इसके बाद 27 फरवरी तक वह होम क्वारंटाइन में रहे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe