AAP के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा BJP में शामिल, केजरीवाल सरकार पर लगा चुके हैं कई आरोप

आम आदमी पार्टी (AAP) के बागी विधायक कपिल मिश्रा भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। कपिल मिश्रा ने दिल्ली में भाजपा नेता मनोज तिवारी और विजय गोयल की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

आम आदमी पार्टी (AAP) के बागी और अयोग्य करार दिए जा चुके विधायक कपिल मिश्रा भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। कपिल मिश्रा ने दिल्ली में भाजपा नेता मनोज तिवारी और विजय गोयल की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। बता दें कि कपिल मिश्रा ने शुक्रवार (अगस्त 16, 2019) को ही ट्वीट कर इस बात की जानकारी दे दी थी कि वो बीजेपी में शामिल होने जा रहे हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा था कि वो शनिवार (अगस्त 17, 2019) को 11 बजे बीजेपी में शामिल होंगे।

गौरतलब है कि कपिल मिश्रा कई बार आम आदमी पार्टी का विरोध करने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करने को लेकर सुर्खियों में रह चुके हैं और लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए अभियान चलाने की वजह से पार्टी ने कपिल मिश्रा की विधानसभा की सदस्यता रद्द कर दी थी। करावल नगर से विधायक रहे कपिल मिश्रा ने लोकसभा चुनाव के दौरान दिल्ली की सातों संसदीय सीटों पर भाजपा के समर्थन में अभियान चलाया था। AAP विधायक सौरभ भारद्वाज ने इसकी शिकायत विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल से की थी। इसकी सुनवाई करते हुए बीते दिनों विधानसभा अध्यक्ष ने उनकी सदस्यता रद्द कर दी थी।

हालाँकि, इसके खिलाफ कपिल मिश्रा ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है। कोर्ट में कपिल मिश्रा ने कहा कि दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष महोदय ने ‘लॉ ऑफ नेचुरल जस्टिस’ के खिलाफ जाकर निर्णय सुनाया। एक असंवैधानिक याचिका पर सुनवाई करके अध्यक्ष ने अपनी संवैधानिक शक्तियों का गलत इस्तेमाल किया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

AAP से निकाले जाने के बाद कपिल मिश्रा ने केजरीवाल सरकार के खिलाफ मोर्चा शुरू किया था। साथ ही केजरीवाल सरकार पर भ्रष्टचार समेत कई गंभीर आरोप लगाए थे। केजरीवाल के खिलाफ गाने बनाए और सोशल मीडिया के जरिए तमाम चीजें ट्वीट भी की थीं। इसके अलावा उन्होंने केजरीवाल के खिलाफ धरना भी दिया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

नीरज प्रजापति, सीएए हिंसा
सीएए के समर्थन में आयोजित रैली में शामिल नीरज प्रजापति मुस्लिमों की हिंसा का शिकार बने थे। परिजनों ने ऑपइंडिया से बात करते हुए आरोप लगाया कि पुलिस व प्रशासन ने जल्दी-जल्दी अंतिम संस्कार कराने के चक्कर में धार्मिक रीति-रिवाज भी पूरा नहीं करने दिया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

145,329फैंसलाइक करें
36,957फॉलोवर्सफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: