Sunday, May 19, 2024
Homeराजनीति'जिनके नाम में राम है, वे सनातन के अपमान पर चुप रहने को कहते...

‘जिनके नाम में राम है, वे सनातन के अपमान पर चुप रहने को कहते थे’: BJP में आते ही रोहन गुप्ता ने कॉन्ग्रेस की पोल-पट्टी खोली, टिकट मिलने के बाद भी छोड़ दिया था हाथ का साथ

रोहन गुप्ता ने कॉन्ग्रेस की सदस्यता से 22 मार्च, 2024 को ही इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने बताया था कि उनका कॉन्ग्रेस के कम्यूनिकेशन विभाग से जुड़े एक बड़े पदाधिकारी ने अपमान किया और उनका चरित्रहनन किया।

कॉन्ग्रेस के पूर्व प्रवक्ता और आईटी सेल के मुखिया रहे रोहन गुप्ता भाजपा में शामिल हो गए हैं। उन्होंने गुरुवार (11 अप्रैल, 2024) को दिल्ली स्थित भाजपा दफ्तर में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। उन्होंने पार्टी की सदस्यता लेने के बाद कहा कि कॉन्ग्रेस में उन्हें सनातन के अपमान पर चुप रहने को कहा जाता था।

रोहन गुप्ता ने भाजपा की सदस्यता लेने के बाद कहा, “एक जगह कितना विरोधाभास हो सकता है, हमारे एक कम्युनिकेशन इंचार्ज जिनके नाम में राम है, वह हमें सनातन के अपमान पर चुप रहने को कहते थे। देश के नाम का एक गठबंधन बनाया गया लेकिन उसमें देश विरोधी ताकतों को जोड़ा गया। कॉन्ग्रेस ने केजरीवाल को खालिस्तान के साथ जुड़े होने का आक्षेप किया था। अब ऐसी क्या मज़बूरी है कि उनके भ्रष्टाचार के लिए लड़ रहे हैं।”

रोहन गुप्ता ने कॉन्ग्रेस को दोहरे चरित्र वाली पार्टी बताते हुए निशाना साधा। उन्होंने कहा,”जिस EVM के कारण आप दो चुनाव जीते, आप उस पर सवाल उठा रहे हैं। कॉन्ग्रेस हर जगह विरोधाभासी नीति अपना रही है। यह लेफ्ट पार्टियों के साथ है जो देश विरोधी हैं। CAA का भी विरोध कर रही है जो कि कॉन्ग्रेस ने खुद ही माँगा था।” उन्होंने आरोप लगाया कि कॉन्ग्रेस को अब अहंकारी लोग चला रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह कॉन्ग्रेस में अपमानित होते थे।

रोहन गुप्ता ने कहा कि 60 सालों तक लोगों ने कॉन्ग्रेस को इसीलिए सत्ता दी क्योंकि यह राष्ट्रवाद, औद्योगीकरण और सनातन धर्म का सम्मान करने वाली पार्टी थी। पिछले 2 सालों से पार्टी अहंकारी लोगों के हाथों में है। उन्होंने कहा कि पार्टी का सामान्य कार्यकर्ता आज की नीतियों से सहमत नहीं है। उन्होंने कहा कि मैंने इसीलिए 15 वर्ष कॉन्ग्रेस में रहने के बाद अब साफ़ छवि के साथ भाजपा में आने का निर्णय लिया है।

गौरतलब है कि रोहन गुप्ता ने कॉन्ग्रेस की सदस्यता से 22 मार्च, 2024 को ही इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने बताया था कि उनका कॉन्ग्रेस के कम्यूनिकेशन विभाग से जुड़े एक बड़े पदाधिकारी ने अपमान किया और उनका चरित्रहनन किया। उन्होंने अपने खिलाफ अभियान चलाए जाने की बात भी कही थी।

उन्होंने बताया था कि वह अपने पिता के साथ अस्पताल में हैं इसीलिए वह पार्टी छोड़ रहे हैं। इसे पहले उन्होंने गुजरात की अहमदाबाद उत्तर सीट से कॉन्ग्रेस का टिकट वापस करते हुए चुनाव लड़ने से भी मना कर दिया था। रोहन गुप्ता से पहले कॉन्ग्रेस के एक और प्रवक्ता गौरव वल्लभ भी पार्टी छोड़ कर भाजपा में आ चुके हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो में मुस्लिम’ : सिर्फ इतना लिखने पर ‘भीखू म्हात्रे’ को कर्नाटक पुलिस ने गिरफ्तार किया, बोलने की आजादी का गला घोंट...

सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर 'भीखू म्हात्रे' नाम के फिक्शनल नाम से एक्स पर अपनी राय रखते हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो पर अपनी बात रखी थी।

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -