Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीतिजिन्होंने भारत को राफेल दिलाने के लिए की फ्रांस से बात, वो पूर्व वायुसेना...

जिन्होंने भारत को राफेल दिलाने के लिए की फ्रांस से बात, वो पूर्व वायुसेना प्रमुख अब BJP में शामिल: मेरठ या गाजियाबाद से चुनावी मैदान में उतरने के कयास

सेवा काल के दौरान उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। राकेश कुमार सिंह भदौरिया को अति विशिष्ट सेवा पदक, वायु सेना पदक और परम विशिष्ट सेवा पदक सहित कई पदकों से सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें जनवरी 2019 में भारत के राष्ट्रपति का मानद Aide De Campe नियुक्त किया गया था।

भारतीय वायुसेना के पूर्व प्रमुख एयर चीफ मार्शल (सेवानिवृत्त) राकेश कुमार सिंह भदौरिया रविवार (24 मार्च 2024) को भाजपा में शामिल हो गए। पार्टी महासचिव विनोद तावड़े और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर की उपस्थिति में उन्होंने दिल्ली स्थित भाजपा मुख्यालय में पार्टी की सदस्यता ली। माना जा रहा है कि भाजपा उन्हें मेरठ या गाजियाबाद से लोकसभा चुनाव 2024 में उतार सकती है।

भाजपा में शामिल होने के बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष जयप्रकाश नड्डा को धन्यवाद दिया। सितंबर 2021 में सेवा से रिटायर होने वाले राकेश सिंह भदौरिया ने कहा, “मुझे भाजपा में शामिल होने और राष्ट्र निर्माण में योगदान देने का मौका देने के लिए मैं पीएम मोदी, भाजपा प्रमुख जेपी नड्डा और अन्य नेताओं को धन्यवाद देता हूँ।”

भारत को राफेल जेट दिलाने में राकेश सिंह भदौरिया की महत्वपूर्ण भूमिका थी। भारत की ओर से जो टीम फ्रांस से 36 राफेल जेट खरीदने के लिए बातचीत कर रही थी, उस टीम का नेतृत्व पूर्व वायुसेना प्रमुख भदौरिया ही कर रहे थे। इसके अलावा भी उन्होंने कई सैन्य सुधारों में अपना योगदान दिया है। रक्षा सेवाओं में उनके पास लगभग चार दशक का अनुभव है।

लोकसभा चुनावों की घोषणा के बीच पूर्व वायुसेना प्रमुख के भाजपा में शामिल होने को लेकर कई तरह के कयास लग रहे हैं। कहा जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उन्हें पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ या गाजियाबाद से उन्हें लोकसभा का उम्मीदवार बना सकती है। हालाँकि, इसको लेकर पार्टी की ओर से बयान जारी नहीं किया गया है।

बता दें कि भाजपा लोकसभा उम्मीदवारों की अपनी अगली सूची कभी भी जारी कर सकती है। पार्टी की तीसरी केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक शनिवार (23 मार्च 2024) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसे शीर्ष नेताओं की मौजूदगी में हुई।

इस बैठक में राज्यों के संभावित उम्मीदवारों की सूची पर चर्चा की गई। इस बैठक में ओडिशा, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और राजस्थान के उम्मीदवारों के नामों पर गहन मंथन हुआ। बता दें कि लोकसभा की 543 सीटों के लिए 19 अप्रैल से एक जून के बीच सात चरणों में चुनाव होना है। वहीं, मतगणना चार जून को होगी। 

राकेश सिंह भदौरिया मूल रूप से आगरा जिले की बाह तहसील के रहने वाले हैं। वो पुणे स्थित राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के छात्र रह चुके हैं। उन्होंने 4250 घंटे से ज्यादा की उड़ान भरी है और उनके पास 26 विभिन्न प्रकार के लड़ाकू विमानों का अनुभव है। वे मार्च 2017 से अगस्त 2018 तक दक्षिणी वायु कमान के कमांडिंग-इन-चीफ थे। मई 2019 से सितंबर 2021 तक वे वायु सेना प्रमुख रहे।

सेवा काल के दौरान उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। राकेश कुमार सिंह भदौरिया को अति विशिष्ट सेवा पदक, वायु सेना पदक और परम विशिष्ट सेवा पदक सहित कई पदकों से सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें जनवरी 2019 में भारत के राष्ट्रपति का मानद Aide De Campe नियुक्त किया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -