Tuesday, June 18, 2024
Homeदेश-समाजम्यांमार बॉर्डर के पास हुई BJP नेता की हत्या: हमलावरों ने पहले बातचीत के...

म्यांमार बॉर्डर के पास हुई BJP नेता की हत्या: हमलावरों ने पहले बातचीत के लिए बुलाया, फिर मार दी गोली

मैते की जहाँ हत्या हुई वहाँ से कुछ दूर वह अपने साथियों के साथ किसी काम से गए थे। इसके पश्चात एक आदमी ने उनसे आकर अकेले में बातचीत करने को कहा। उस व्यक्ति के साथ कुछ दूर जाने के बाद उन्हें गोली मार दी गई।

अरुणाचल प्रदेश में भाजपा नेता और पूर्व विधायक यमसेन मैते की गोली मार कर हत्या कर दी। यह घटना शनिवार (16 दिसम्बर, 2023) को म्यांमार सीमा पर बसे तिराप जिले के राजो गाँव में हुई। मैते को पहले किसी बहाने से उनके साथियों से अलग ले जाया गया और फिर मार दिया गया।

यमसेन मैते वर्ष 2009 में कॉन्ग्रेस के टिकट पर यहाँ की खोंसा पश्चिम विधानसभा से विधायक चुने गए थे और वर्तमान में अपने क्षेत्र में राजनीति में सक्रिय थे। वह आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा की ओर लड़ने को लेकर अपनी इच्छा भी जाहिर कर चुके थे। ओल्लो समुदाय से ताल्लुक रखने वाले यमसेन का इस इलाके में काफी प्रभाव था।

उनकी हत्या के पीछे NSCN- KYA उग्रवादी समूह का हाथ बताया जा रहा है। जहाँ यह हत्या हुई वहाँ से म्यांमार सीमा काफी नजदीक है। यह उग्रवादी खुली सीमा का लाभ उठा कर एक तरफ घटना को अंजाम देकर दूसरी तरफ भाग जाते हैं। इस इलाके में कुछ उग्रवादी समूह अब भी सक्रिय हैं।

बताया गया है कि मैते की जहाँ हत्या हुई वहाँ से कुछ दूर वह अपने साथियों के साथ किसी काम से गए थे। इसके पश्चात एक आदमी ने उनसे आकर अकेले में बातचीत करने को कहा। उस व्यक्ति के साथ कुछ दूर जाने के बाद उन्हें गोली मार दी गई। जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। जिसने मैते को गोली मारी उसने उनके साथियों को भी वापस आकर धमकी दी

मैते 2009 से ही राजनीति में उतरे थे। इससे पहले अरुणाचल प्रदेश के शिक्षा विभाग में अफसर थे। मैते अपने समुदाय में स्नातक शिक्षा प्राप्त करने वाले पहले व्यक्ति थे। उनके हत्यारों के पकड़े जाने के विषय में अभी कोई जानकारी सामने नहीं है।

मैतेक की तिराप जिले में हत्या से पहले उनकी ही सीट से वर्ष 2019 में विधायक का चुनाव जीते NPP विधायक तिरोंग अबोह की वर्ष 2019 में उग्रवादियों ने हत्या कर दी थी। उनके काफिले पर हमला करके उग्रवादियों ने 10 से अधिक लोगों की हत्या कर दी थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खालिस्तानी चरमपंथ के खतरे को किया नजरअंदाज, भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों को बिगाड़ने की कोशिश, हिंदुस्तान से नफरत: मोदी सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार में जुटी ABC...

एबीसी न्यूज ने भारत पर एक और हमला किया और मोदी सरकार पर ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले खालिस्तानियों की हत्या की योजना बनाने का आरोप लगाया।

न दुख-न पश्चाताप… पवित्रा का यह मुस्कुराता चेहरा बताता है कि पर्दे के सितारों में ‘नायक’ का दर्शन न करें, हर फैन के लिए...

'फैन हत्याकांड' मामले से लोगों को सबक लेने की जरूरत है कि पर्दे पर दिखने वाले लोग जरूरी नहीं जैसा फिल्मों में दिखाए जाते हैं वैसे ही हों।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -