Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीतिगोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने डिप्टी सीएम को मंत्रिमंडल से हटाया, BJP में...

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने डिप्टी सीएम को मंत्रिमंडल से हटाया, BJP में शामिल हुए 2 MLA

विधायकों ने मंगलवार को MGP से अलग होकर MGP (2) समूह बनाया था और अब उन्होंने विधायी इकाई का BJP में विलय कर दिया। लोबो ने इस बात की पुष्टि की कि उन्हें विलय के संबंध में देर रात पौने एक बजे पत्र मिला।

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने डिप्टी सीएम सुदीन धवलीकर को मंत्रिमंडल से हटा दिया है। एमजीपी नेता सुदीन धवलीकर सावंत के नेतृत्व वाली गोवा कैबिनेट में परिवहन और सार्वजनिक निर्माण विभाग को संभाल रहे थे।सुदीन धवलीकर को एमजीपी विधायक दीपक पावस्कर और गोवा के पर्यटन मंत्री मनोहर अजगांवकर ने एमजीपी से अलग कर दिया और बुधवार की सुबह भाजपा के साथ अपने विधायी विंग का विलय कर दिया।

पावस्कर और अजगांवकर ने एमजीपी विधायक दल को भाजपा के साथ गोवा विधानसभा अध्यक्ष माइकल लोबो के साथ विलय करने का पत्र सुबह 1 बजे दिया। बता दें कि इससे पहले बुधवार को बीजेपी ने एमजीपी विधायकों के पार्टी में विलय पर चर्चा के लिए पणजी में अपने मुख्य कार्यालय में अपने विधायकों और पदाधिकारियों की एक आपात बैठक बुलाई।

इस विलय ने गोवा विधानसभा के 36-सदस्यीय सदन में भाजपा की ताकत 12 से बढ़ाकर 14 कर दी, जिससे अब बीजेपी में विधायकों की संख्या विपक्षी कॉन्ग्रेस के बराबर हो गई है।


पूरा घटनाक्रम ये रहा कि सरकार में अहम सहयोगी रही महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी का मंगलवार आधी रात के बाद भारतीय जनता पार्टी में ‘विलय’ हो गया। MGP के 2 विधायकों, मनोहर अजगांवकर और दीपक पावस्कर ने अपनी पार्टी को बीजेपी में शामिल कर लिया। 3 में सें 2 विधायकों ने विधायी शाखा का विलय किया है। इसका अर्थ यह हुआ कि वे दल-बदल विरोधी कानून के दायरे में आने से बच गए हैं। क्योंकि इस कानून के तहत यह अनिवार्य है कि विलय के लिए दो तिहाई सदस्यों की सहमति हो। विधायकों ने मंगलवार को MGP से अलग होकर MGP (2) समूह बनाया था और अब उन्होंने विधायी इकाई का BJP में विलय कर दिया। लोबो ने इस बात की पुष्टि की कि उन्हें विलय के संबंध में देर रात पौने एक बजे पत्र मिला। उन्होंने बताया कि इस पत्र पर सुदीन धवलीकर के हस्ताक्षर नहीं हैं। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,743FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe