Sunday, July 14, 2024
HomeराजनीतिBJP कार्यालय पर धावा, दंगा और मारपीट: गुजरात में AAP के टॉप नेताओं को...

BJP कार्यालय पर धावा, दंगा और मारपीट: गुजरात में AAP के टॉप नेताओं को भेजा गया साबरमती जेल

AAP के 66 कार्यकर्ताओं को 19 धाराओं के तहत हिरासत में लिया गया और गाँधीनगर की अदालत में पेश किया गया। इनमें से 9 आप कार्यकर्ताओं की जमानत अर्जी खारिज कर दी गई और उन्हें साबरमती जेल भेज दिया गया।

गुजरात में आम आदमी पार्टी (AAP) के नेताओं की जमानत याचिका खारिज होने के बाद उन्हें साबरमती जेल भेज दिया गया। यहाँ वे दो दिन न्यायिक हिरासत में रहे। जिसके बाद महिला आरोपितों को आज (22 दिसंबर 2021) दोपहर बाद सत्र न्यायालय में पेश किया जाएगा। 

बता दें कि AAP के 66 कार्यकर्ताओं को 19 धाराओं के तहत हिरासत में लिया गया और गाँधीनगर की अदालत में पेश किया गया। इनमें से 9 आप कार्यकर्ताओं की जमानत अर्जी खारिज कर दी गई और उन्हें साबरमती जेल भेज दिया गया।

AAP के प्रदेश अध्यक्ष गोपाल इटालिया, वरिष्ठ नेता इसुदान गढ़वी, राज्य महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष गौरी देसाई, युवा शाखा के नेता निखिल सवानी और दिल्ली के दो नेताओं प्रवीण राम और शिव कुमार को अहमदाबाद की साबरमती जेल भेजा गया। गढ़वी पर भाजपा महिला कार्यकर्ता ने उत्पीड़न और पूर्व संध्या पर छेड़खानी का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि गाँधीनगर में भाजपा कार्यालय की घेराबंदी करने के बाद इसुदान गढ़वी, गोपाल इटालिया समेत कई लोगों ने नशे में उनके साथ गाली-गलौच और बदसलूकी की।

उल्लेखनीय है कि आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने हेड क्लर्क के कथित पेपर लीक के विरोध में सोमवार (21 दिसंबर 2021) को भाजपा कार्यालय पर हंगामा किया था। उन्होंने विरोध प्रदर्शन के लिए गाँधीनगर में भाजपा कार्यालय का घेराव किया था। वे भाजपा विरोधी नारे भी लगा रहे थे।

भाजपा कार्यकर्ता भी बड़ी संख्या में पहुँचे और दोनों गुट आपस में भिड़ गए। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। बीजेपी नेता श्रद्धा राजपूत ने आरोप लगाया था कि इसुदान गढ़वी ने शराब के नशे में बीजेपी के कुछ कार्यकर्ताओं के साथ बदसलूकी की। उन्होंने यह भी कहा कि आम आदमी पार्टी की महिला कार्यकर्ताओं ने उनके साथ मारपीट की और उन्हें लाठियों से मारा। राजपूत ने आगे आरोप लगाया कि भीड़ तितर-बितर होने के बाद, गोपाल इटालिया और इसुदान गढ़वी दोनों ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया। श्रद्धा राजपूत ने इस बाबत शिकायत भी दर्ज कराई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -